झारखंड: सबसे ज्‍यादा रांची में कोरोना के मामले, पूर्वी सिंहभूम में सबसे ज्‍यादा मौत के आंकड़े

झारखंड: सबसे ज्‍यादा रांची में कोरोना के मामले, पूर्वी सिंहभूम में सबसे ज्‍यादा मौत के आंकड़े

Ranchi: वैश्विक महामारी कोरोना के बीच लॉकडाउन से छूट मिली हुई और …

Read Moreझारखंड: सबसे ज्‍यादा रांची में कोरोना के मामले, पूर्वी सिंहभूम में सबसे ज्‍यादा मौत के आंकड़े

रघुवर दास सहायक पुलिसकर्मियों से मिले

रघुवर दास सहायक पुलिसकर्मियों से मिले

Ranchi: नौकरी में परमानेंट करने की मांग को लेकर आंदोलनरत सहायक पुलिसकर्मियों से बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रांची के मोराबादी मैदान पहुंचकर मुलाकात की. इस दौरान रघुवर दास ने कहा कि नक्सल क्षेत्र के युवाओं को गुमराह होने से बचाने के लिए हमारी सरकार ने अनुबंध पर सहायक पुलिस में आदिवासी-मूलवासी युवाओं को नियुक्त किया. नक्सलवाद पर काबू पाने में इनकी भूमिका अहम रही. आदिवासी-मूलवासी की हितैषी होने का दावा करनेवाली वर्तमान सरकार इनके साथ अमानवीय व्यवहार कर रही है.

झारखंड के 12 नक्सल प्रभावित जिलों में साल 2017 में रघुवर दास के कार्यकाल में ही 2500 सहायक पुलिसकर्मियों की कॉन्ट्रैक्ट पर नियुक्ति की गई थी. सहायक पुलिसकर्मियों का कहना है कि अनुबंध खत्म हो जाने के बाद उन्हें परमानेंट कर देने की बात कही गई थी. लेकिन, अभी तक उन्हें परमानेंट करने की कोई प्रक्रिया शुरू नहीं की गई है.

सहायक पुलिसकर्मियों का कहना है कि नियुक्ति के दौरान उन्हें सिर्फ अपने थाना क्षेत्र में ही ड्यूटी करने की बात कही गई थी लेकिन वे अपने थाना समेत अपने जिला और अन्य जिलों में भी कई तरह की ड्यूटी कर चुके हैं.

सहायक पुलिसकर्मियों ने यह स्पष्ट कर दिया कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होगी, वे लोग किसी कीमत पर अपने गृह जिला नहीं लौटेंगे. हालांकि, 12 जिलों से आए सहायक पुलिसकर्मियों से संबंधित जिलों के एसपी और सार्जेंट मेजर लगातार संपर्क कर उन्हें वापस ले जाने का प्रयास कर रहे हैं. मोरहाबादी मैदान में भी दो से तीन एसपी प्रतिदिन सहायक पुलिस कर्मियों को समझाने के लिए आ रहे हैं, लेकिन उनकी बात कोई कुछ सुनने को तैयार नहीं है.

रांची में आंदोलन कर रहे पुलिस पर लाठीचार्ज! शाम को महिला पुलिसकर्मी बेहोश

Ranchi: शनिवार को सीएम हाउस घेराव करने जा रहे महिला पुलिस कर्मियों ने बताया कि उन पर लाठीचार्ज की गई है. रोते हुए महिला पुलिस ने बताया कि उन पर पुरूष पुलिस कर्मियों द्वारा लाठी चार्ज किया गया है. कई महिला पुलिस कर्मियों के चेहरे पर चोट के निशान भी दिख रहे थे. वहीं शाम को आंदोलन में जुटे एक महिला पुलिस कर्मी बेहोश भी हो गई. एसएसपी रांची के काफी मशक्‍कत के बाद उन्‍हें बस से अस्‍पताल भेजा गया.  इसके पहले पुलिस प्रशासन द्वारा आंदोलन कर रहे सहायक पुलिस कर्मियों द्वारा मौके पर आश्‍वासन दिया जा रहा था.

बता दें कि झारखंड में सहायक पुलिस कर्मियों ने आंदोलन का रुख अख्तियार कर लिया है. तमाम घेराबंदी के बाद भी वे हजारों की संख्या में राजधानी रांची पहुंचे हैं. कई जिलों से पैदल ही वे भूखे-प्यासे रांची पहुंचे हैं.

इनमें महिला पुलिस भी शामिल हैं. सहायक पुलिसकर्मियों की मांग है कि उनकी सेवा स्थायी हो. जबकि बीस अगस्त को उनकी सेवा खत्म कर दी गई है. तीन साल के लिए यह सेवा ली गई थी.  

तीन साल पहले राज्य के 12 नक्सल प्रभावित जिलों में बतौर अनुबंध लगभग  2500 सहायक पुलिसकर्मियों को बहाल किया गया था. उन्हें 10 हजार रुपए का  मानदेय मिलता है.

सुदेश महतो ने किया सहायक पुलिस कर्मियों के आंदोलन का समर्थन

आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष और पूर्व उप मुख्यमंत्री सुदेश कुमार महतो ने आंदोलन की राह पर उतरे ढाई हजार सहायक पुलिसकर्मियों का समर्थन किया है. उन्होंने कहा है कि सत्तारूढ़ दल चुनावी वादे मत भूलें.

आजसू प्रमुख ने ट्वीट कर कहा है” 2500 सहायक पुलिस कर्मी अलग-अलग जिलों से पैदल चलकर रांची पहुंचे हैं. उनकी सेवा समाप्त कर दी गई है. सत्तारूढ़ दलों ने चुनाव में वादे किए थे कि अनुबंध और मानदेय पर कार्यरत कर्मियों नियमित किया जाएगा. सरकार इस मामले पर गंभीरता से विचार करे”.

कंगना के समर्थन में सड़कों पर उतरे झारखंड के लोग, रांची में उद्धव ठाकरे का पुतला फूंका

कंगना राणावत को झारखंड में समर्थन, रांची में उद्धव ठाकरे का पुतला फूंका

Ranchi: बॉलीवुड एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत मौत के केस में एक्‍ट्रेस रिया चक्रवर्ती मामले के बाद अब एक और एक्‍ट्रेस कंगना राणावत को लेकर पूरे देश में बवाल मचा हुआ है. इसकी आंच झारखंड तक पहुंच गई है. यहां लोग कंगना के समर्थन के लिए सड़कों पर उतरे. साथ ही लोगों ने महाराष्‍ट्र सरकार और वहां के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे का पुतला फूंका और विरोध में नारेबाजी की.

दरअसल बॉलीवुड एक्‍ट्रैस कंगना राणावत के बांद्रा स्थित ऑफिस को बीएमसी (BMC) ने तोड़ दिया. इसके बाद कंगना भी आज मुंबई पहुंचीं. ऑफिस पहुंचने के बाद कंगना ने टूटे हुए ऑफिस की तस्वीरें साझा कीं. साथ ही कई वीडियो भी शेयर किया. कंगना ने वीडियो जारी करते हुए लिखा ‘डेथ ऑफ डेमोक्रेसी’. यह खबर पूरे देश में आग की तरह वायरल हो गई. झारखंड के पूर्व मंत्री व विधायक सरयू राय भी इस पर अपनी बात रखने से खुद को रोक नहीं सके. उन्‍होंने तो महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन की मांग तक कर दी.

वहीं झारखंड में कांग्रेस पार्टी कंगना मामले में कुछ भी बयान देकर फंसना नहीं चाहती है. लेकिन पार्टी प्रवक्‍ता राजेश गुप्‍ता ने सरयू राय के बयान पर टिप्‍पणी जरूर की.

झारखंड में झामुमो, कांग्रेस और राजद गठबंधन की हेमंत सरकार है. हेमंत सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह में भी महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे को खास तौर पर आमंत्रित किया गया था. हालांकि वह तब समारोह में शामिल नहीं हो सके थे.

झारखंड मौसम: तीन जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट, आम लोगों के लिए चेतावनी जारी

झारखंड मौसम: तीन जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट, आम लोगों के लिए चेतावनी जारी

मौसम विज्ञान केंद्र रांची की ओर से झारखंड के तीन जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है. इसमें कहा गया है कि गुमला, खूंटी और रांची जिलों में अगले दो-तीन घंटो में मध्‍यम दर्जे का मेघ गर्जन तथा वज्रपात के साथ वर्षा होने की प्रबल संभावना है.

रांची जिले में एक दिन में रिकॉर्ड 10101 कोरोना टेस्ट, होटवार जेल से लिये गए सबसे ज्यादा सैंपल

रांची जिले में एक दिन में रिकॉर्ड 10101 कोरोना टेस्ट, होटवार जेल से लिये गए सबसे ज्यादा सैंपल

झारखंड के रांची जिले में एक दिन में रिकॉर्ड 10101 कोरोना सैंपल लेकर टेस्‍ट किए गए. इसके लिए जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में 20 कैंप लगाए गए थे. रांची जिला प्रशासन द्वारा जानकारी दी गई कि जिला में 18 अगस्त 2020 को रैपिड एंटीजन मास टेस्टिंग ड्राइव का सफल संचालन किया गया.

झारखंड: स्वतंत्रता दिवस का राज्यस्तरीय कार्यक्रम रांची के मोराबादी मैदान में नहीं जैप-1 ग्राउंड में होगा

झारखंड: स्वतंत्रता दिवस का राज्यस्तरीय कार्यक्रम रांची के मोराबादी मैदान में नहीं जैप-1 ग्राउंड में होगा

रांची के मोराबादी मैदान में हर साल स्‍वतंत्रता दिवस पर भव्‍य और बड़ा कार्यक्रम का आयोजन होता है. लेकिन बार यह कार्यक्रम नहीं होगा. वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से 2020 स्‍वतंत्रता दिवस कार्यक्रम मोराबादी मैदान नहीं करने का निर्णय लिया गया है.

रांची में दो महीने से तैयार खड़ी है कोविड ट्रेन, प्रशासन का फोकस पेड सेंटर्स पर

रांची में दो महीने से तैयार खड़ी है कोविड ट्रेन, प्रशासन का फोकस पेड सेंटर्स पर

480 बेड की कोविड ट्रेन तैयार खड़ी है, लेकिन जिला प्रशासन इसका उपयोग नहीं कर रहा. जबकि, रेलवे का दावा है कि अगर सरकार चाहे तो दो घंटे के अंदर कोविड ट्रेन हैंड ओवर कर दिया जाएगा. ट्रेन में ऑक्सीजन सिलेंडर की भी व्यवस्था है.

रांची में आठ कंटेनमेंट जोन को किया गया डी नोटिफाई

रांची में आठ कंटेंटमेंट जोन को किया गया डीनोटिफाई

रांची समाहरणालय में जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक आयोजित की गई. जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकार के अध्यक्ष सह उपायुक्त रांची राय महिमापत रे की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में अध्यक्ष, जिला परिषद रांची, उप विकास आयुक्त, रांची, वरीय पुलिस अधीक्षक के प्रतिनिधि, अपर समाहर्ता सह मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी, जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकार, रांची, असैनिक शल्य चिकित्सक सह मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, रांची, कार्यपालक अभियंता पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, रांची, जिला नजारत उप समाहर्ता, रांची उपस्थित थे.