Opinion

पत्रकारिता एक पेशे के रूप में बहुत असुरक्षित, जोखिम भरी और खतरनाक

पत्रकारिता एक पेशे के रूप में बहुत असुरक्षित, जोखिम भरी और खतरनाक

मीडिया मालिकों और प्रबंधकों की नजर में पत्रकार अनुत्पादक जीव होता है, इसलिए उसे न्यूनतम पगार मिलती है.. बड़े-छोटे सभी मीडिया घरानों में पत्रकार ही सबसे ज्यादा शोषण का शिकार है. यह विडंबना ही है कि वही पत्रकार शोषित और पीड़ितों और मजलूमों की आवाज भी बनता है. पत्रकारों की भलाई और उनके हक की …

पत्रकारिता एक पेशे के रूप में बहुत असुरक्षित, जोखिम भरी और खतरनाक Read More »

जगहों के इतने खतरनाक नाम, ये तो समझ-समझ का फेर है.. दोस्‍तों

मिसाइल से भी ज्‍यादा खतरनाक इन गांवों के नाम

पता नहीं किस मूरख ने कहा था कि नाम मे क्या रखा है. नाम मे बहुत कुछ रखा है मित्रों! मेरे पुश्तैनी गांव का नाम है चोरेया. बड़ी आबादी वाला ऐतिहासिक और पुराना गांव. कई मित्र गांव का नाम सुनते ही हंस देते हैं और कहते हैं चोर लोगो का गांव है चोरेया. अब गांव …

मिसाइल से भी ज्‍यादा खतरनाक इन गांवों के नाम Read More »

उम्मीद है यह पहला कदम होगा आखरी नहीं

उम्मीद है यह पहला कदम होगा आखरी नहीं

2021 में भारत को स्वराज प्राप्त हुए 74 वर्ष पूर्ण हुए और हम स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं. इस अवसर पर देश स्वाधीनता का अमृत महोत्सव मना रहा है. ऐसे समय में प्रधानमंत्री उत्तरप्रदेश के अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह राजकीय विश्वविद्यालय की आधारशिला रखते हैं. भारत जैसे देश …

उम्मीद है यह पहला कदम होगा आखरी नहीं Read More »

जनसमर्थन से हो जनसंख्या नियंत्रण

जनसमर्थन से हो जनसंख्या नियंत्रण

उत्तरप्रदेश सरकार द्वारा जनसंख्या नियंत्रण नीति लागू करने के फैसले ने इस विषय को राजनैतिक गलियारों में चर्चा से लेकर आम लोगों के बीच सामाजिक विमर्श का केंद्र बना दिया है. राजनैतिक दल और अन्य संगठन अपने अपने वोटबैंक और राजनैतिक नफा नुकसान को ध्यान में रखकर इसका विरोध अथवा समर्थन कर रहे हैं. लेकिन …

जनसमर्थन से हो जनसंख्या नियंत्रण Read More »

मंत्रिमंडल विस्तार या मंत्रिमंडल सुधार

मंत्रिमंडल विस्तार या मंत्रिमंडल सुधार

मोदी सरकार के मंत्रिमंडल का ताज़ा विस्तार जहां कई उम्मीदों को जगाता सा दिखता है वहीं वो अपनी कई नाकामियों पर पर्दा डालता भी नज़र आता है. क्योंकि  जिस प्रकार से भाजपा के कई दिग्गजों से स्तीफा लेकर नए चेहरों को सरकार में जगह दी गई है उससे इसे मंत्रिमंडल विस्तार न कहकर मंत्रिमंडल सुधार …

मंत्रिमंडल विस्तार या मंत्रिमंडल सुधार Read More »

आखिर क्यों जरूरी है जनसंख्या नियंत्रण कानून?

आखिर क्यों जरूरी है जनसंख्या नियंत्रण कानून?

भारत के अंदर किसी भी प्रकार की समस्या के मूल में जनसंख्या विस्फोट ही है. भारत की जनसंख्या वर्तमान दर बढ़ती रही तो भारत जल्दी ही चीन को पछाड़कर दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा. जो भारत की उपलब्धि में तो कतई नहीं शामिल होने वाला. इसके साथ ही बढ़ती जनसंख्या रोकने …

आखिर क्यों जरूरी है जनसंख्या नियंत्रण कानून? Read More »

विश्व जनसंख्या दिवस 2021: हम कब सुधरेंगे?

विश्व जनसंख्या दिवस 2021: हम कब सुधरेंगे?

विश्वव्यापी विकास में सफलता सिर्फ बड़ी आबादी से नहीं बल्कि इस बात से मिलती है कि छिति, जल, पावक, गगन और समीरा (पंचतत्व) से बना मानव शरीर और विश्व का पारस्परिक विकास कैसे संभव हो? विश्व पटल पर सात महाद्वीप, कुल 240 (दो सौ चालिस) देश. दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाला देश, चीन और …

विश्व जनसंख्या दिवस 2021: हम कब सुधरेंगे? Read More »

खुशी का पैगाम और दर्दनाम दोनों को महत्व देते हैं डाक कर्मचारी

खुशी का पैगाम और दर्दनाम दोनों को महत्व देते हैं डाक कर्मचारी

बदलते परिवेश में भी डाक व डाक विभाग के कर्मचारीयों का महत्व और भी बढ़ता गया है. जहां हम अपनी भावनाओं,संवेदनाओं को समझते- समझाते थक हार जाते हैं, वही अपने हाथों से लिखा हुआ चिट्ठी जिसमें सिर्फ और सिर्फ सकारात्मक भावनाएं होती हैं और जब वह डाक विभाग के कर्मचारियों के माध्यम से आपके पास …

खुशी का पैगाम और दर्दनाम दोनों को महत्व देते हैं डाक कर्मचारी Read More »

धर्मांतरण : समस्या या साज़िश

धर्मांतरण : समस्या या साज़िश

कुछ दिनों पहले उत्तर प्रदेश में लगभग एक हजार लोगों के धर्मांतरण का मामला सामने आया था. खबरों के अनुसार इन लोगों में मूक बधिर बच्चों से लेकर युवा और महिलाएं भी शामिल हैं. मामले की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि धर्म बदलने वाले इन लोगों में ज्यादातर पढ़े …

धर्मांतरण : समस्या या साज़िश Read More »

निजी एम्बुलेंस

निजी एम्बुलेंस के व्यावसायिक उपयोग पर लगे रोक

एम्बुलेंस लैटिन भाषा के शब्द “एम्बुलर”, अर्थात “चलना” है जो प्रारंभिक/आपातकालीन चिकित्सा सेवा है, इसका हिंदी नाम “रोगी वाहन” है. पहली बार 1487 में स्पेनिश सेना द्वारा एम्बुलेंस का उपयोग किया गया था. कालांतर में शताब्दियों तक अन्य देशों में विस्तार होते हुए उक्त सेवा का व्यापक उपयोग प्रथम विश्व युद्ध (1914-18), स्पेनिश फ्लू वैश्विक …

निजी एम्बुलेंस के व्यावसायिक उपयोग पर लगे रोक Read More »

आधुनिक तकनीक से शिक्षा के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव

Pariksha pe Charcha: आधुनिक तकनीक से शिक्षा के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव

हमारी युवा पीढ़ी में सकारात्मक बदलाव के उस दौर का साक्षी बना कि जब यूट्यूब पर फिल्मी नॉन फिल्मी गानों के बजाए एजुकेशनल वीडियो ट्रेंड करने लगे और यूट्यूब ने शिक्षा के लेटेस्ट प्लेटफार्म का रूप ले लिया. आधुनिक तकनीक से शिक्षा के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव देश भर में बोर्ड परीक्षाओं की घोषणा के …

Pariksha pe Charcha: आधुनिक तकनीक से शिक्षा के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव Read More »

क्या किसान आंदोलन अपनी प्रासंगिकता खो रहा है

क्या किसान आंदोलन अपनी प्रासंगिकता खो रहा है

आज सोशल मीडिया हर आमोखास के लिए केवल अपनी बात मजबूती के साथ रखने का एक शक्तिशाली माध्यम मात्र नहीं रह गया है बल्कि यह एक शक्तिशाली हथियार का रूप भी ले चुका है. देश में चलने वाला किसान आंदोलन इस बात का सशक्त प्रमाण है. दरअसल सिंघु बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर पर पिछले दो …

क्या किसान आंदोलन अपनी प्रासंगिकता खो रहा है Read More »

चूड़ियांं, कमजोरी या ताकत...?

चूड़ियांं, कमजोरी या ताकत…?

आज मैं चूड़ियों की बात करती हूं, तस्वीर कल की है जिसमें मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को महिलाएं और पुरुष चुड़ी दिखा कर कुछ बोल रही हैं. क्या बोल रही होंगी समझ ही रहे होंगे आप सब. मुझे यह बात समझ नहीं आती कि किसी को नाकारा या कमजोर साबित करने के लिए चूडियां ही क्यों …

चूड़ियांं, कमजोरी या ताकत…? Read More »

लॉकडाउन में घास की सब्जी

“न राशन बचा था और न थे पैसे”, लॉकडाउन में घास की सब्जी खाने को मजबूर हो गया था ये परिवार

Ranchi: झारखंड के जमशेदपुर में सोमवार सुबह-सुबह वायरल हुआ वीडियो जमशेदपुर से करीब 15 किलोमीटर दूर सोमैया झोपड़ी की अनीता मुंडारी आदिवासी महिला का निकला. पिछले तीन दिनों से घर में अनाज और सब्जी नहीं होने के कारण यह महिला घर के बाहर से घास और पत्तों को चुन-चुनकर सब्जी बना रही है और पानी …

“न राशन बचा था और न थे पैसे”, लॉकडाउन में घास की सब्जी खाने को मजबूर हो गया था ये परिवार Read More »

रास्ते में हुआ प्यार और सीधे दुल्हन लेकर पहुंचा घर

पैदल दिल्ली से बिहार जा रहे युवक को रास्ते में हुआ प्यार और सीधे दुल्हन लेकर पहुंचा घर

Patna: साल 2020 यूं तो काफी चीज़ों के लिए चर्चा में रहा, जिनमें प्रमुख कोरोना वायरस और लॉक डाउन ही रहा. लेकिन इसके अलावा भी काफी कुछ हुआ जो ख़बरों में सुर्खियां बना. मई का महीना था, कोरोना से बचाव को लॉकडाउन लगा था. प्रवासी मजदूरों को पैदल ही अपने घरों की ओर रवानगी करनी …

पैदल दिल्ली से बिहार जा रहे युवक को रास्ते में हुआ प्यार और सीधे दुल्हन लेकर पहुंचा घर Read More »

सभी मोबाइल फोन पर गूंजी जसलीन भल्ला

देश भर के सभी मोबाइल फोन पर जब गूंजी जसलीन भल्ला की आवाज़

New Delhi: साल 2020 यूं तो काफी चीज़ों के लिए चर्चा में रहा, जिनमें प्रमुख कोरोना वायरस और लॉक डाउन ही रहा. लेकिन इसके अलावा भी काफी कुछ हुआ जो ख़बरों में सुर्खियां बना. 2020 की दूसरी तिमाही में जैसे ही कोरोना संक्रमण शुरू हुआ, देश भर में मोबाइल नंबरों पर एक कॉलर ट्यून बजने …

देश भर के सभी मोबाइल फोन पर जब गूंजी जसलीन भल्ला की आवाज़ Read More »

Scroll to Top
प्‍यार वाला राशिफल: 6 अक्‍टूबर 2022 OTT पर खूंखार हो चली ये Hot Actress प्‍यार वाला राशिफल: 5 अक्‍टूबर 2022 Adipurush में प्रभास बने श्रीराम, टीजर का मजाक उड़ा प्‍यार वाला राशिफल: 4 अक्‍टूबर 2022