गूगल पे पर यूजर डाटा बेचने का आरोप, पेटीएम ने NPCI को लिखी चिट्ठी

by

#New Delhi: भारत की सबसे बड़ी पेमेंट कंपनी पेटीएम ने वॉट्सऐप के बाद अब गूगल पर निशाना साधा है. पेटीएम ने नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) को गूगल पेमेंट सिस्टम Google Pay के प्राइवेसी से जुड़े इस मामले को जल्दी देखने को कहा है. पेटीएम का इल्जाम है कि गूगल की प्राइवेसी पॉलिसी में दिक्कत है और इससे भारतीय कस्टमर का पेमेंट डेटा गूगल एफिलिएट कंपनी और थर्ड पार्टी यूजर्स को मिलता है.

NPCI को लिखे खत में Paytm ने कहा है कि गूगल की पॉलिसी के अनुसार, कंपनी भारतीय ग्राहकों का पेमेंट डेटा अपने एडवर्टाइजमेंट बिजनेस के लिए इस्तेमाल कर रही है और कई कंपनियों व थर्ड पार्टी को भी दे रही है जो कि ग्राहकों के प्राइवेसी के खिलाफ है. खत में यह भी कहा गया है कि गूगल की प्राइवेसी पॉलिसी के अनुसार, कंपनी विज्ञापन और प्रमोशन के लिए यूजर्स का पर्सनल डेटा कलेक्ट करती है, स्टोर करती है, उसका इस्तेमाल करती है और उसे डिसक्लोज भी करती है.

पेटीएम ने ये भी कहा कि गूगल यूजर का डेटा भारत के बाहर स्टोर कर रहा है और शेयर कर रहा है, जो डेटा सिक्योरिटी और डेटा ब्रीच जैसे मुद्दों पर सवाल खड़े करता है.

गौरतलब है कि NPCI के अनुसार, किसी भी पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर को यह अनुमति नहीं है कि वह यूजर्स का डेटा किसी थर्ड पार्टी से साझा करे, जब तक कि उसे कानूनी तौर पर निर्देश न दिया गया हो या फिर किसी नियामक / सांविधिक प्राधिकारी के सामने पेश करने की जरूरत न हो. इसके अलावा RBI ने भी इस मामले में गाइडलाइन जारी कर सभी पेमेंट सिस्टम ऑपरेटर्स को यूजर्स का डेटा देश के भीतर ही स्टोर करने की बात कही थी.

Google का जवाब

वहीं Paytm की तरफ से लगाए गए आरोपों को खारिज करते हुए गूगल के प्रवक्ता ने कहा कि गूगल किसी भी UPI ट्रांजेक्शन का इस्तेमाल  विज्ञापन के लिए नहीं करता है. हालांकि कंपनी की तरफ से ये जरूर कहा गया है कि Google pay यूजर्स का ट्रांजेक्शन डेटा अपने अधिकृत साझेदारों के साथ शेयर करता है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.