वल्र्ड फूड डे पर रतन राजपूत ने पटना के अपने पसंदीदा स्थानीय पकवानों और फूड डेस्टिनेशन्स के बारे में बताया

Advertisements

भारतीय पकवानों में बहुत सारी विविधतायें हैं। अगर खानेपीने के सामानों की बात करें, तो हर जगह की अपनी कुछ खासियत होती है और कई पारंपरिक व्यंजन उस क्षेत्र से जुड़े होते हैं। खानपान की यह विविधता भारत की एक सबसे बड़ी खासियत भी है। वल्र्ड फूड डे के अवसर पर, एण्डटीवी केसंतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएंमें ऊष्मा देवी (देवी रूप) और संतोषी (धरती रूप) की भूमिका निभा रहीं रतन राजपूत ने पटना के अपने पसंदीदा स्थानीय पकवानों और फूड डेस्टिनेशन्स के बारे में बताया। रतन कहती हैं, ‘‘मुझे खाना पकाना, दूसरों को खाना खिलाना और मिलबांट कर खाना बहुत अच्छा लगता है। पटना में खानेपीने की कई चीजें मिलती हैं और इनमें से ज्यादातर शाकाहारी हैं। लिट्टी चोखा यहां के लोगों का मुख्य भोजन है और सत्तू एवं परवल की मिठाई के अलावा भी यहां पर कई बिहारी फूड डिशेज मिलती हैं। इनमें चना घुघनी, दाल पीठा, खजूरिया, कढ़ी बड़ी और सत्तू शरबत शामिल हैं। पारंपरिक मिठाईयों के शौकीनों के लिये, बिहार एक स्वीट पैराडाइज की तरह है और ढेरों लाजवाब मिठाईयां यहां पर मिलती हैं। फिर चाहे बालूशाही, खुरमा और लट्ठो हो या पनतुआ या काला जामुन, तिलकुट, लाई, गुड़ अनरसा, परवल की मिठाई, नैवेद्यम, चंद्रकला/पेड़किया या फिर एक खास तरह की खीर जिसे रसिया कहते हैं, लौंग लतिका, खाजा और मालपुआ, आपका मन सिर्फ एक से ही नहीं भरने वाला है। मेरे पसंदीदा स्थानीय फूड डेस्टिनेशन्स हैंबोरिंग चैराहा और गांधी मैदान, जहां पर कुछ अच्छे रेस्टोरेंट्स हैं। मुझे जो जगहें सबसे ज्यादा पसंद है, वे हैंबाॅलीवुड ट्रीट्स, कपिल देव इलेवन, लाखु दा ढ़ाबा वगैरह। मै जब भी पटना जाती हूं, तो अपने परिवार वालों और दोस्तों के साथ इन जगहों पर जरूर जाती हूं। वल्र्ड फूड डे के अवसर पर मैं सिर्फ इतना ही कहना चाहूंगी कि हर दिन कई लोग भूखे पेट सोते हैं। आईये हम सब मिलकर उनके साथ अपना खाना बांटने की कोशिश करें और भूखों को भोजन करायें।‘‘

तो यदि आपने अभी तक पटना के इन स्थानीय व्यंजनों का स्वाद नहीं चखा है, तो आप वाकई में एक बहुत बड़ी चीज मिस कर रहे हैं!

रतन राजपूत को ऊष्मा देवी के रूप में देखिये, ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएंमें हर सोमवार से शुक्रवार, रात 9:00 बजे, सिर्फ एण्डटीवी पर!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.