गांव की तस्‍वीर बदले बिना देश की तस्‍वीर बदली नहीं जा सकती

by

Ranchi: मंथन युवा संस्थान रांची, विश्व युवक केंद्र नयी दिल्ली और सिटीजनशिप डेवलपमेंट सोसाइटी, नयी दिल्ली तथा तीसरी सरकार अभियान के संयुक्त तत्वावधान में राज्य स्तरीय दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन शुरू हुआ है. कार्यक्रम के पहले दिन शविवार 19 जनवरी 2019 को डॉ रामदयाल मुंडा जनजतीय कल्याण शोध संस्थान मोराबादी रांची में आयोजित कार्यशला के उद्घाटन सत्र में ‘पंचायत सरकारः सुशासन, विकास और खुशहाली’ विषयक पर विस्तार से चर्चा की गयी.

इस मौके पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रामदयाल मुंडा जनजतीय कल्याण शोध संस्थान के निदेशक, डॉ रणेंद्र कुमार ने कहा कि ग्राम स्वराज पर गांधी जी का जो सपना था, उसमें समुदाय को इकाई के रुप में विकसित करना था और हरेक व्यक्ति को गरिमापूर्ण जीने का हक मिलना चाहिए. सारे मौलिक अधिकार मिलने चाहिए. उन्होंने कहा, व्यक्तिवादी योजनाओं से समुदायिकता कमजोर किया गया.

वहीं गांधीवादी अमरनाथ ने कहा, 70 वर्षों में देश की जनता को राजीतिक दलों के  करनी-कथनी के फर्क को भलि-भांती समझने लगी है. सभी सरकारें और पार्टी ने जनता को ठगने का काम किया है. देश की तस्वीर बदलने की बात तो होती है, लेकिन गांव की नहीं. गांव से देश है, और जबतक गांव की तस्वीर नहीं बदली जाएगी, तब तक देश की तस्वीर बदली नहीं जा सकती है.

अरुण कुमार राय ने अपने संबोधन में कहा, इतनी विषमताओं के बावजूद भी कई क्षेत्रों में उत्कृष्ट काम हुए है. मंथन युवा संस्थान  के सुधीर पाल, विश्व युवक केंद्र के अजीत कुमार, समाजसेवी बलराम आदि ने भी अपने अपने विचार रखे. कार्यक्रम में विभिन्न जिलों से आए स्वमसेवी संस्थाओं के लगभग सौ प्रतिनिधियों ने भाग लिया.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.