Take a fresh look at your lifestyle.

क्या मल्लिका के लिये खंजर के हिस्से ढूंढने में अलादीन की मदद करेगा ओमार?

Support Journalism
0 23

दर्शकों को चकित करने वाले सोनी सब के ‘अलादीनः नाम तो सुना होगा’ में एक और रोचक मोड़ आने वाला है। अलादीन (सिद्धार्थ निगम) अपनी अम्मी (स्मिता बंसल) को दुष्ट जादूगरनी मल्लिका के जादू से बचाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन इसमें उसे कई बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी ही एक बाधा का सामना करते हुए वह वेयरवोल्फ में बदल जाता है। फिर भी वह रुकने को तैयार नहीं है। हालांकि, अपने अगले एडवेंचर में अपने मिशन को पूरा करने के लिये उसे मदद की जरूरत पड़ने वाली है।

मल्लिका के लिये रहस्यमयी जगहों पर छुपे खंजर के 3 हिस्से ढूंढने के प्रयास में अलादीन अकल्‍पनीय घटना का साक्षी बनता है और वह एक वेयरवोल्‍फ बन जाता है, लेकिन वह पहला हिस्सा ढूंढने में कामयाब हो जाता है। मल्लिका और उसकी ताकत पर भरोसा किये बिना अलादीन उससे एक सौदा करता है कि खंजर के तीनों हिस्से मिल जाने के बाद मल्लिका उसकी अम्मी को जिन्न से वापस इंसान बना देगी, तभी वह उसे खंजर सौंपेगा। अलादीन के पिता ओमार (गिरीश सहदेव) अब एक फरिश्ता हैं और यह जानकर चौंक गये हैं कि उनका बेटा मल्लिका के लिये खंजर के हिस्से ढूंढ रहा है, जिससे वह ज्यादा ताकतवर हो जाएगी और इंसानों की हस्ती मिटा देगी। आखिरकार अलादीन का सामना अपने पिता से होता है और वह अपनी अम्मी को बचाने के लिये खंजर के बाकी हिस्से ढूंढने के लिये उनकी मदद मांगता है।

क्या ओमार अपने परिवार को बचाने में अलादीन की मदद करेंगे या अपने बेटे के ही दुश्मन बन जाएंगे?

अलादीन की भूमिका निभा रहे सिद्धार्थ निगम ने कहा, ‘‘अलादीन के कंधों पर बहुत सारी जिम्मेदारियाँ हैं। उसे अपनी माँ को बचाना है, लेकिन वह मल्लिका के हाथों दुनिया को तबाह नहीं होने दे सकता। खंजर का पहला हिस्सा पाने की कोशिश में वह एक वेयरवोल्‍फ बन गया है। एक एक्टर के तौर पर ऐसे अलग किरदार में ढलना मेरे लिये रोमांचक अनुभव था। मुझे खुशी है कि दर्शकों को भी यह अच्छा लगा। हालांकि, आगामी एपिसोड्स में बहुत सारे सरप्राइज हैं, जो रोमांच और एक्शन से भरे होंगे। मुझे यकीन है कि जो भी होने वाला है, उसका हर पल दर्शकों के लिये मजेदार होगा।’’

देखते रहिये ‘अलादीनः नाम तो सुना होगा’, सोमवार से शुक्रवार, रात 9 बजे, केवल सोनी सब पर

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.