भगवान शिव को क्‍यों प्रिय है सावन का महीना, जानें 5 बड़ी वजह

by

क्‍या आपको पता है भगवान शिव को क्‍यों प्रिय है सावन का महीना? ये सभी जानते हैं कि भगवान शिव को सावन का महीना बहुत ही प्रिय है. जो भी श्रद्धालु सावन के महीने में भगवान भोलेनाथ की पूजा पूरे विधि-विधान के साथ करता है, उसकी हर मनोकामना पूरी होती है.

ऐसा क्‍या खास है जो भगवान शंकर सावन महीने में पूजा से इतने प्रसन्‍न हो जाते हैं, आइए आपको वो खास 5 बड़ी वजह बताते हैं. जब आप ये जानेंगे तो आपके लिए भगवान शिव को प्रसन्‍न करना आसान हो जाएगा और आप भी अपना मनचाहा वर पर सकते हैं.

1. मान्‍यता है कि राजा दक्ष के यज्ञ में आत्मदाह करने के बाद माता सती का दूसरा जन्म माता पार्वती के रूप में हुआ था. माता पार्वती ने शिवजी को प्राप्त करने के लिए कठोर तप किया था जिसके चलते सावन के माह में शिवजी ने माता से विवाह किया था. इसलिए उन्हें यह माह प्रिय है. इस संबंध में ब्रह्मा के पुत्र सनत कुमारों ने शिवजी से प्रश्न किया था कि आपको सावन का माह क्यों प्रिय है तो शिवजी ने उपरोक्त बात बताई थी.

bhagwan shiv parvati vivah

2. एक दूसरी मान्‍यता के अनुसार देव और दैत्यों ने मिलकर समुद्र मंथन किया था. मंथन करने से सबसे पहले विष निकला था. विष को शिवजी ने अपने गले में धारण कर लिया था. इसके कारण वे नीलकंठ कहलाने लगे. विष के काणण उनके शरीर का तापमान बढ़ने लगा तो देवताओं ने उन पर शीतल जल डालकर उस ताप को शांत किया. तभी से शिवजी को जल अतिप्रिय लगने लगता है.

3. कई जगहों पर बारिश में शिवलिंग पानी में डूबे रहते हैं. शिवलिंग के उपर एक कलश लटका रहता है जिससे बूंद-बूंद जल टपकता रहता है उसे जलाधारी कहती हैं. जहां भी प्राकृति शिवलिंग है वहां जल की धारा भी है.

4. शिवजी के मस्तक पर चंद्रमा और गंगा मैया विराजमान है जिनका संबंध में जल से ही है.
कैलाश पर्वत के चारों और बर्फ जमी रहती है और उसके पास है मान सरोवार. शिवजी को जल अति प्रिय है जबकि विष्णुजी तो जल में ही निवास करते हैं.

5. यह भी कहा जाता है कि भगवान शिव सावन के महीने में धरती पर अवतरित होकर अपनी ससुराल गए थे और वहां उनका स्वागत अर्ध्य देकर, जलाभिषेक कर किया गया था. इसलिए माना जाता है, कि हर साल सावन माह में भगवान शिव अपनी ससुराल आते हैं. इसीलिए यह माह उन्हें प्रिय है.

यही सब कारण है कि भगवान शिव को सावन का महीना प्रिय है. बारिश का मौसम और उसमें भी श्रावण का माह उन्हें अति प्रिय है जबकि सभी ओर हरियाली और शीतलता व्याप्त हो जाती है. अब आप जान गए होंगे कि भगवान शिव को क्‍यों प्रिय है सावन का महीना?

Categories Sawan

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.