Take a fresh look at your lifestyle.

बिल्‍डर एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने सीएम वह सीएस को क्‍यों लिखा त्राहिमाम पत्र

0 67

Ranchi: बिल्‍डर एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने झारखंड के मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन और मुख्‍य सचिव डीके पांंडेय को त्राहिमाम पत्र लिखा है. इस पत्र में उन्‍होंने सरकार से कोषाकार के निकासी बंद होने से उत्‍पन्‍न समस्‍याओं से अवगत कराया है. साथ ही इसे जल्‍द शुरू करने का आग्रह किया है. पत्र में कहा गया है कि झारखंड में ट्रेजरी से निकासी बंद किये जाने के बाद हाहाकार की स्थिति हो गई है.

बिल्डर एसोसिएशन ऑफ इण्डिया के चेयरमेन रोहित अग्रवाल ने कहा कि झारखंड में सरकारी कोषागार से पिछले दो महीने से भी अधिक अवधि से पैसों की निकासी बंद है. इसकी वजह से सरकारी परियोजनाओं में आपूर्तिकर्ताओं द्वारा आपूर्ति किए गए माल के एवज में भुगतान लंबित हैं. इसके कारण संबंधित आपूर्तिकर्ता/संवेदक व ईंट, बालू, चिप्स, टाईल्स, सीमेंट व अन्य उत्पाद से जुड़े कई लघु उद्यमी अनावश्यक परेशान हैं. भुगतान के अभाव में मजदूर व छोटे व्यापारी जो इन्फ्रास्ट्रक्चर कार्यों पर आश्रित हैं, की आजीविका पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है.

मुख्‍यमंत्री को लिखे पत्र में कहा गया है कि एक ठेकेदार के भुगतान में 25 फीसदी राशि मजदूरों की भी सम्मिलित होती है और एक मजदूर के साथ औसतन उनके परिवार के 4-5 लोग निर्भर होते हैं. ऐसे में भुगतान के अभाव में तथाकथित रूप से विशेषकर मजदूर वर्ग भी प्रभावित हैं. जिससे वे राज्य से पलायन को विवश हैं.

पत्र में कहा गया है कि इसी प्रकार पेट्रोल पंप संचालक भी भुगतान के अभाव में विशेष रूप से प्रभावित हो रहे हैं. यह भी कहा गया कि वित्तीय वर्ष समाप्ति की ओर है तथा बाजार में नकदी की कमी भी बनी हुई है. चूंकि प्रदेश में अब नये मंत्री परिषद का विस्तार हो चुका है, ऐसे में सरकारी कोषागार के कार्यों को शीघ्र आरंभ करना अतिआवश्यक है.

पत्र में बिल्‍डर एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने झारखंड सरकार से आग्रह किया गया कि प्रदेश के आपूर्तिकर्ताओं तथा संवेदकों के लंबित भुगतान के लिए शीघ्र विभागीय निर्देश जारी करें. ताकि प्रदेश में बाधित निर्माण कार्य पहले की तरह शुरू किया जा सके.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.