कोरोना के इलाज के लिए WHO ने दी सोलिडेरिटी मेगाट्रायल की अनुमति

by

New Delhi: विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चार संभावित दवाओं के वैश्विक परीक्षण के मेगाट्रायल की अनुमति दी है. इस प्रोजेक्ट को ‘सोलिडेरिटी’ नाम दिया गया है. इन दवाओं में कोरोना वायरस का इलाज देखा जा रहा है. इनमें से एक दवा का एचआइवी वायरस, दूसरी का द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान पहली बार मलेरिया के इलाज में और तीसरी एंटीवायरल दवा का उपयोग बीते साल इबोला वायरस पर किया जा चुका है.

इसे भी पढ़ें: दूध के दाम पांच से छह रुपए की कमी, कई डेयरी ने बंद किया दूध का संग्रह

वहीं शोधकर्ताओं और सार्वजनिक स्वास्थ्य एजेंसियां इस वायरस का इलाज ढूंढने की दिशा में सार्स और मर्स से संक्रमित पशुओं के इलाज में अच्छा प्रदर्शन करने वाली एक अन्य दवा को भी देख रहे हैं. लेकिन क्या इनमें से कोई भी दवा कोरोनोवायरस के रोगियों को गंभीर नुकसान या मृत्यु से बचा सकती है? इसका उद्देश्य यह पता लगाना है कि इनमें से कौन सी दवा कोरोना वायरस के इलाज में कारगर साबित हो सकती है. यह एक अभूतपूर्व प्रयास है.

सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम कोरोना वायरस-2

कोरोना वायरस से संक्रमित 15 फीसदी रोगी गंभीर संक्रमण का शिकार हो जाते हैं. डब्ल्यूएचओ के वैज्ञानिक कोरोना वायरस के संक्रमण को धीरे या पूरी तरह से खत्म कर देने की क्षमता रखने वाली इन दवाओं को सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम कोरोना वायरस-2 कह रहे हैं.

यह दवा गंभीर से रूप से संक्रमित रोगी की जान बचा सकती है. इतना ही नहीं यह देखभाल में लगे चिकित्साकर्मियों को भी सुरक्षित रखेगी जिन्हें संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है.

इसे भी पढ़ें: गिरावट के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्‍स 800 से ज्‍यादा अंक लुढ़का

इसके अलावा इन दवाओं के इलाज से रोगी के वेंटिलेटर तक जाने की गंभीर स्थिति को भी रोका जा सकेगा.

वैज्ञानिक कोरोना वैक्सीन तैयार करने के लिए अलग-अलग कम्पांउन्ड्स का सुझाव दे रहे हैं, लेकिन डब्ल्यूएचओ के वैज्ञानिक सिर्फ चार बेहद खास यौगिकों (ड्रग्स) पर ही भरोसा कर रहे हैं. इनमें से एक है एंटीवायरल कंपाउंड रेमडेसिवियर, मलेरिया की दवा क्लोरोक्वाइन और हाइड्रोऑक्सीक्लोरोवाइन, दो एचआईवी दवाओं लोपिनाविर व रीटोनेविर और इंटरफेरोन बीटा लो कि एक इम्यून सिस्टम कंपाउंड है.

डब्ल्यूएचओ के वैज्ञानिकों को पूरा भरोसा है कि इनमें से कोई न कोई दवा कोरोना वायरस को रोकने या खत्म करने में सफल रहेगी.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.