क्‍या 2019 चुनाव की रणनीति रांची के रिम्‍स में तय हो रही है

शत्रुघ्‍न सिन्‍हा के साथ जेएमएम व कांग्रेस के आला नेता लालू से मिले

Ranchi: झारखंड का सबसे बड़ा सरकारी अस्‍पताल रिम्‍स अब सबसे बड़ा राजनीति का केंद्र बन गया है. यहां पर चारा घोटाला के सजायफ्ता लालू प्रसाद भर्ती हैं. पांच राज्‍यों के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की हार और तीन राज्‍यों में कांग्रेस की हार के बाद यूपीए खेमा सक्रिय हो गया है. यह सक्रियता रांची के रिम्‍स में भी दिखना शुरू हो गया है. रिम्स के पेइंग वार्ड में इलाजरत लालू प्रसाद यादव से मिलने भाजपा नेता शत्रुघ्‍न सिन्‍हा, कांग्रेस नेता सुबोध कांत सहाय, झारखंड के नेता प्रतिपक्ष और झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्‍यक्ष हेमंत सोरेन तथा कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता शकील अहमद पहुंचे. इन सभी नेताओं ने बारी-बारी से लालू से मिलकर उनका कुशलक्षेम पूछा.

शत्रुघ्न सिन्हा ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘‘तेजस्वी बहुत अच्छा और तेज लड़का है. मेरा मानना है कि वह बिहार का भविष्य है और राज्य में भविष्य का चेहरा भी वही है.”एक अन्य सवाल के उत्तर में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि लालू प्रसाद के साथ उनके पारिवारिक रिश्ते हैं और वह दोनों एक-दूसरे के सुख-दुख के साथी रहे हैं. यह पूछे जाने पर कि क्या लालू यादव से मुलाकात के दौरान राजनीतिक बातचीत भी हुई तो सिन्हा ने कहा कि ज्यादातर घरेलू और पारिवारिक बातें ही हुई और वैसे भी अभी खरमास चल रहा है जिसमें कोई राजनीतिक बातचीत नहीं हो सकती है.

वीडियो दखिये बीजेपी नेता ने मीडिया से क्‍या कहा

हेमंत सोरेन ने कहा- भाजपा को हराने पर हुई चर्चा

वहीं सुबह 11 बजे के करीब यहां झारखंड के नेता प्रतिपक्ष और झामुमो के कार्यकारी अध्‍यक्ष हेमंत सोरेन लालू से मिलने पहुंचे. हेमंत सोरेन ने कहा, “जिस तरह से देश में भाजपा के खिलाफ महौल बना है. भाजपा की झारखंड में जो हालत है, उस राजनीतिक लड़ाई को जीतने के लिए किस तरीके से मजबूती से प्लेटफॉर्म बनाया जाए. इस पर चर्चा हुई. ताकि देश के साथ झारखंड से भी भाजपा को सत्ता से बेदखल किया जा सके.

देखिये हेमंत सोरेन ने क्‍या कहा

रघुवर सरकार के किसानों के लिए नयी योजना पर सुबोधकांत का प्रहार

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना पर सुबोधकांत सहाय ने कहा कि सरकार किसान का कर्जा माफ करें. तब बात करें. ये 5 हजार से किसान को कोई राहत नहीं मिलेगी. राज्य सरकार ने झारखंड आशीर्वाद योजना लागू करने की शुक्रवार को घोषणा की थी. इसके तहत लघु और सीमांत किसानों को अगले साल से खरीफ फसलों के लिए प्रति एकड़ 5000 रुपए दिए जाएंगे. यह रकम हर साल दी जाएगी, जिसे लौटाना नहीं पड़ेगा.

23.344099785.309562

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.