सावन कब से शुरू है | When sawan month start in 2021

by

सावन कब से शुरू है (when sawan month start in 2021): सनातन धर्म हिन्‍दु में सावन के महीने का खास महत्‍व होता है. यह महीना पूरी तरह से सात्विक होता है. कहने का मतलब कि इस पूरे एक महीने तक श्रद्धालु शिव भक्ति में लीन रहते हैं और नॉन-वेज छोड़कर सात्विक शाकाहारी भोजन करते हैं. लोग भोजन में प्‍याज-लहसून भी खाना छोड़ देते हैं. महीने में सोमवार के दिन का खास महत्‍व रहता है और इस दिन भगवान शिव को जल अर्पण कर विशेष पूजा अर्चना की जाती है. इस दिन के लिए शिव मंदिरों का श्रृंगार भी किया जाता है.

क्‍या आपको पता है साल 2021 में सावन का महीना कब से लगेगा?

चलिए अब आपको बताते हैं कि साल 2021 में सावन का महीना कब से शुरू हो रहा है. इस साल सावन का पावन मास 25 जुलाई दिन रविवार से शुरू होने जा रहा है. रविवार के दिन से श्रद्धालुओं का पावन मास आरंभ हो रहा है. इस दिन से भगवान शिव की पूजा-पाठ शुरू हो जाएगी.

Read Also  शिव संगीत में ताण्‍डव तो कल्‍याण के लिए नीलकंठ का सावन में महत्‍व

ऐसे में श्रद्धालु 24 जुलाई तक ही मांसाहार भोजन कर सकते हैं. उसके बाद वे अगले एक महीने तक मांसाहार भोजन नहीं करते हैं. मान्‍यता है कि सावन महीने में भगवान शिव और माता पार्वती की विधि-विधान से एक महीने तक पूजा करने से भक्‍त की मनोकामना पूरी होती है. साथ ही सावन में सोमवार का व्रत रखने से भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्‍त होती है. इस लिए ज्‍यादातर लोग सावन में पूरे एक महीने तक सात्विक शाकाहारी भोजन करते हुए भगवान भोलेनाथ की भक्ति करते हैं.

सावन के महीने का महत्‍व

हिन्‍दु शास्‍त्रों में सावन के महीने का महत्‍व को बताया गया है. कहा जाता है कि इस महीने में भगवान शिव जल्‍दी प्रसन्‍न होते हैं और भक्‍तों को मनचाहा वरदान मिल जाता है. वर प्राप्‍त करने के लिए श्रद्धालुओं को ज्‍यादा पापड़ नहीं बेलना पड़ता है. साथ ही सावन महीने में भगवान शंकर की पूजा से विवाह आदि में आ रही परेशानियां भी दूर होती हैं.

Read Also  शिव संगीत में ताण्‍डव तो कल्‍याण के लिए नीलकंठ का सावन में महत्‍व

सावन माह में भगवान शिव की पूजा विधि

अगर आप भी इस साल भगवान भोले शंकर की पूजा कर उन्‍हें प्रसन्‍न करना चाहते हैं और मनचाहा वरदान पाना चाहते हैं तो आपको भी जटाधारी भगवान शंकर की पूजा करनी चाहिए. तो चलिए अब आपको बताते हैं कि आप सावन 2021 में कैसे भोलेनाथ की पूजा कर सकते हैं. भवगवान शिव को प्रसन्‍न करने का उपाय क्‍या है.

  • भगवान शिव की पूजा के लिए सुबह जल्‍दी उठें, संभव हो तो सूर्योदय से पहले जग जाएं
  • सबसे पहले स्‍नान आदि से निपट जाने के बाद धुला हुआ साफ कपड़ा पहन लें
  • घर के मंदिर या पूजा स्‍थल में दीप जलाएं
  • सभी देवी-देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें
  • शिवलिंग में गंगा जल और दूध चढ़ाएं
  • भगवान शिव को पुष्‍प अर्पित करें
  • भगवान को बेल पत्र अर्पित करें
  • भगवान शिव की आरती करें और भोग भी लगाएं. इस बात का ध्‍यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का ही भोग लगाया जाता है.
  • भगवान शिव का अधिक से अधिक ध्‍यान करें
Read Also  शिव संगीत में ताण्‍डव तो कल्‍याण के लिए नीलकंठ का सावन में महत्‍व

सावन मास व्रत नियम-

1. मान्यता है कि सावन महीने में मास-मंदिरा का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए.
2. इस महीने वाद-विवाद से भी बचना चाहिए. घर-परिवार में स्नेह बना रहना चाहिए.
3. सावन महीने में लहसुन और प्याज के सेवन करने की मनाही होती है.
4. इसके अलावा मसूर की दाल, मूली, बैंगन आदि के सेवन की भी मनाही होती है. शास्त्रों में बासी और जले हुए खाने को तामसिक भोजन की श्रेणी में रखा गया है.
5. शास्त्रों के अनुसार, सोमवार का व्रत बीच में नहीं छोड़ना चाहिए। अगर आप व्रत रखने में असमर्थ हैं तो भगवान शिव से माफी मांग कर ना करें.

Categories Sawan

1 thought on “सावन कब से शुरू है | When sawan month start in 2021”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.