Take a fresh look at your lifestyle.

WhatsApp पेमेंट की सुविधा इंडिया में शुरू होगी जल्‍द, इन बैंकों के साथ हुआ एग्रीमेंट

चैट और मेसेज भेजने के साथ ही अपने व्हाट्सएप के जरिए लोगों को पैसे भी भेज सकेंगे

0

#NEW DELHI : फेसबुक अगले हफ्ते से पूरे भारत में WhatsApp की पेमेंट सर्विसेज शुरू करने जा रहा है. इसका मतलब यह है कि अगले हफ्ते से आप चैट और मेसेज भेजने के साथ ही अपने व्हाट्सएप के जरिए लोगों को पैसे भी भेज सकेंगे. व्हाट्सएप पेमेंट सर्विस शुरू करके भारत के डिजिटल पेमेंट मार्केट में अपनी पकड़ और मजबूत करना चाहता है. फिलहाल, भारत के डिजिटल पेमेंट मार्केट में पेटीएम, गूगल पे और मोबिक्विक जैसी कंपनियों के बीच कड़ी टक्कर है.

अप्रैल में UPI पेमेंट्स की संख्या बढ़कर 190 मिलियन

WhatsApp की पेमेंट सर्विस शुरू होने से इस मार्केट में प्रतिस्पर्धा तेज होगी. नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने आंकड़ों के मुताबिक, अप्रैल में UPI पेमेंट्स की संख्या बढ़कर 190 मिलियन पहुंच गई है. व्हाट्सएप अपनी पेमेंट सर्विस के लिए HDFC, ICICI और एक्सिस बैंक के साथ साझेदारी करेगा, जिससे आपका पैसा आसानी से ट्रांसफर हो सकेगा. जरूरी सिस्टम तैयार होने के बाद स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) भी इससे जुड़ेगा.

तीन साझेदार बैंकों के साथ मिलकर शुरुआत

बता दें कि Facebook अपने मेसेजिंग ऐप WhatsApp की पेमेंट सर्विस को चार बैंकों के साथ शुरू करना चाहता था, लेकिन अभी यह केवल तीन साझेदार बैंकों के साथ मिलकर इसकी शुरुआत करेगा, क्योंकि दूसरी कंपनियां इस मार्केट में आगे निकल रही हैं. WhatsApp Pay का पायलट वर्जन इस साल फरवरी में 10 लाख यूजर्स के साथ शुरू किया गया था. कंपनी को उम्मीद है कि भारत में उसके यूजर्स की संख्या काफी ज्यादा है, ऐसे में उससे अपनी पेमेंट सर्विस से काफी फायदा होगा.

भारत में 20 करोड़ से ज्यादा लोग WhatsApp का इस्तेमाल कर रहे हैं

गौरतलब है कि भारत में 20 करोड़ से ज्यादा लोग WhatsApp का इस्तेमाल कर रहे हैं, जो कि अमेरिका की आबादी के 60 फीसदी के बराबर है. व्हाट्सएप ने मार्च 2018 में भारतीय यूजर्स के लिए transact Via QR कोड फीचर लॉन्च किया था. क्रेडिट सुइस की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत की डिजिटल पेमेंट इंडस्ट्री इस समय करीब 200 अरब डॉ़लर की है, जो कि 2023 तक पांच गुना बढ़कर 1 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच जाएगी.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More