व्हाट्सएप अकाउंट 120 दिनों बाद हो जाएंगे डिलीट, अभी जान लें नई प्राइवेसी पॉलिसी

by

WhatsApp की नई प्राइवेसी पॉलिसी आठ फरवरी से लागू होने वाली थी लेकिन विवाद के बाद कंपनी ने प्राइवेसी को मई तक टाल दिया था. अब फिर से प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर WhatsApp ने नोटिफिकेशन जारी किया है जिसके मुताबिक व्हाट्सएप की प्राइवेसी पॉलिसी 15 मई 2021 से लागू होने जा रही है. मई में लागू होने वाली WhatsApp की पॉलिसी को लेकर भी विवाद शुरू हो गया है, क्योंकि यदि आप व्हाट्सएप की नई पॉलिसी 15 मई तक स्वीकार नहीं करते हैं तो उसके बाद वे ना कोई मैसेज भेज पाएंगे और ना ही प्राप्त कर पाएंगे.

120 दिनों बाद डिलीट हो जाएगा व्हाट्सएप अकाउंट

व्हाट्सएप ने कहा है कि यूजर्स तब तक कोई मैसेज सेंड या रिसीव नहीं कर पाएंगे जब तक कि वो शर्तों को स्वीकार नहीं कर लेते. जो लोग नई शर्तों को स्वीकार नहीं करते हैं उनका अकाउंट इनएक्टिव दिखेगा और इनएक्टिव अकाउंट 120 दिन बाद डिलीट हो जाएगा. शर्तों को स्वीकार करने के लिए कंपनी हर कुठ दिन पर नोटिफिकेशन देती रहेगी और फिर इसे भी बंद कर देगी.

नई शर्तों को लेकर सबसे ज्यादा विरोध भारत में है और हो भी क्यों ना, भारत में व्हाट्सएप के सबसे ज्यादा यूजर्स भी हैं. नई पॉलिसी से लोगों की नाराजगी है कि व्हाट्सएप अब अपनी पैरेंट कंपनी फेसबुक के साथ ज्यादा डाटा शेयर करने की योजना बना रहा है, हालांकि व्हाट्सएप ने साफ किया कि ऐसा नहीं होगा, बल्कि ये अपडेट असल में बिजनेस अकाउंट्स से जुड़ा है.

व्हाट्सएप पहले से फेसबुक के साथ कुछ जानकारी साझा करता है, जैसे यूजर्स का आईपी एड्रेस (ये इंटरनेट से कनेक्ट करने वाले हर उपकरण से जुड़ा नंबर का सिक्वेंस होता है, इसे डिवाइस की लोकेशन का पता लगाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है) और प्लेटफॉर्म के जरिए खरीददारी करने की जानकारी भी पहले से साझा करता है, लेकिन यूरोप और यूके में वो ऐसा नहीं करता, क्योंकि इन देशों में अलग-अलग प्राइवेसी कानून हैं.

बता दें कि व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी की घोषणा के बाद टेलीग्राम और सिग्नल जैसे एप्स की डाउनलोडिंग में जबरदस्त इजाफा देखने को मिला है. जनवरी के पहले सप्ताह में ही भारत में सिग्नल को 2.5 करोड़ से अधिक लोगों ने डाउनलोड किया है. वहीं लाखों लोगों ने अपने व्हाट्सएप अकाउंट को टेलीग्राम पर शिफ्ट किया है.

Categories Apps

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.