जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाने से पाकिस्‍तान को क्‍या नुकसान?

by

New Delhi: नरेंद्र मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर पर ऐतिहासिक फैसला लिया है. घाटी को विशेष अधिकार देने वाले आर्टिकल-370 को खत्म करने का फैसला किया गया है. भारत के इस फैसले पर पाकिस्‍तान में हड़कंप मच गया है. पाकिस्‍तानी शेयर बाजार में भारी गिरावट दर्ज की गई है वहीं इमरान खान ने पाकिस्‍तान संसदीय समिति की बैठक बुला ली है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्‍तान ने भारत को गीदड़ भभकी देते हुए कहा है कि भारत ने बहुत खतरनाक खेल खेला है. समूचे इलाके पर इसका भयानक असर हो सकता है.

जम्‍मू-कश्‍मीर को लेकर केंद्र सरकार के फैसले से पाकिस्‍तान की सांसे फूलने लगी हैं. पाकिस्‍तान की मीडिया में मोदी सरकार द्वारा आर्टिकल-370 को खत्‍म करने के फैसले की खबरें छाई हुई हैं.

इसके पहले ही पाकिस्‍तानी अखबार डॉन ने आशंका जताई थी कि केंद्र सरकार 35ए से छेड़छाड़ करने की कोशिश कर सकती है.

गौर करने वाली बात यह है कि कश्‍मीर में सुरक्षा बलों की भारी तैनाती से पाकिस्‍तान की ओर से की जाने वाली घुसपैठ की कोशिशों को करारा झटका लगा है.

अभी हाल ही में भारतीय सेना ने पाकिस्‍तानी बैट टीम के सात हमलावरों को मार गिराया था. भारतीय सेना ने पाकिस्‍तानी फौज से इन हमलावरों के शवों को ले जाने के लिए भी कहा था. हालांकि, पाकिस्‍तानी फौज ने भारत के द्वारा किसी भी पाकिस्तानी हमलावर को मारे जाने का खंडन किया था. 

बता दें कि कश्‍मीर में भारत सरकार द्वारा अतिरिक्‍त सुरक्षा बलों की तैनाती से परेशान पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को राष्‍ट्रीय सुरक्षा समिति के साथ बैठक की थी.

इस बैठक में पाकिस्‍तान ने एक बार फ‍िर दुनिया का ध्‍यान भटकाने के लिए कश्‍मीर मुद्दे का राग अलापा. बैठक में पाकिस्‍तान ने भारत पर यह आरोप लगाया कि नियंत्रण रेखा पर भारतीय सैनिक आम नागरिकों को निशाना बना रहे हैं.

गौरतलब है कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारतीय सुरक्षा बलों के ऑपरेशन से घाटी में मौजूद आतंकियों की कमर टूट चुकी है. यही नहीं आतंकवादी घुसपैठ की उसकी कोशिशें भी नाकाम साबित हुई हैं. इससे उसकी बौखलाहट बढ़ गई है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.