गलवान और पैंगोंग में क्या हुआ था, राजनाथ सिंह बोले- चाहकर भी नहीं कर सकता ज्‍यादा खुलासा

by

New Delhi: केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने एलएसी (LAC) के हालात के बारे में बताते हुए लोकसभा (Loksabha) में कहा कि अभी की स्थिति के अनुसार, चीन ने एलएसी और अंदरूनी क्षेत्रों में बड़ी संख्या में सैनिक टुकड़ियां और गोला बारूद को इकट्ठा किया है. भारतीय सेना ने भी पूरी तैयारी कर ली है. राजनाथ सिंह ने इस दौरान चीन सीमा पर अप्रैल के बाद से किस तरह चीनी सेना ने हरकत की, उसकी पूरी जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि अप्रैल से लेकर अबतक चीन (China) की ओर से कई बार घुसपैठ की कोशिश की गई है. अप्रैल में ईस्टर्न लद्दाख की सीमा पर चीन ने अपने सैनिकों की संख्या और हथियारों को बढ़ाया, मई महीने में चीन ने हमारे सैनिकों की पेट्रोलिंग में व्यवधान पैदा किया. इसी बीच मई में ही चीन ने वेस्टर्न सेक्टर में चीन ने घुसपैठ की कोशिश, जिसमें पैंगोंग लेक भी शामिल है. उन्होंने अपनी बात को स्पष्ट करते हुए कहा कि भारत ने वक्त रहते इसपर जरूरी एक्शन लिया. रक्षा मंत्री ने आगे कहा कि हमने चीन को कूटनीतिक मामले से बताया है कि ऐसी गतिविधियां हमें मंजूर नहीं हैं. दोनों देशों के कमांडरों ने 6 जून को मीटिंग की और सैनिकों की संख्या घटाने की बात कही. इसी के बाद 15 जून को चीन ने हिंसा प्रयोग किया, इसी झड़प में भारत के जवान शहीद हुए और चीनी सेना को बड़ा नुकसान पहुंचाया.

राजनाथ सिंह ने कहा कि पड़ोसियों के साथ अच्छे संबंधों को रखना जरूरी है, इसी कारण हमारी ओर से मिलिट्री, डिप्लोमेटिक तौर पर बात हो रही है. राजनाथ सिंह ने कहा कि दोनों पक्षों को LAC का सम्मान करना चाहिए, LAC पर घुसपैठ नहीं होनी चाहिए और समझौतों को मानना चाहिए. इसके बावजूद 29-30 अगस्त को पैंगोंग में चीन ने घुसपैठ की कोशिश की, लेकिन भारतीय जवानों ने उसका जवाब दिया. बक़ौल रक्षा मंत्री, ‘अभी की स्थिति के अनुसार, चीनी साइड ने LAC और अंदरूनी क्षेत्रों में बड़ी संख्या में सैनिक टुकड़ियां और गोला बारूद इकट्ठा किया है. पूर्वी लद्दाख और Gogra, Kongka La और Pangong Lake का North और South Banks पर कई इलाके हैं जहां तनाव है.’

राजनाथ सिंह ने अपनी बात जारी रखते हुए कहा कि चीन ने 1993 के समझौते का उल्लंघन किया है, लेकिन भारत ने इसका पालन किया है. चीन के कारण समय-समय पर झड़प की स्थिति पैदा हुई है. इस वक्त चीन ने सीमा पर बड़ी संख्या में हथियारों का जमावड़ा किया है, लेकिन हमारी सेना जवाब देने में सक्षम है. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सदन को आश्वस्त रहना चाहिए कि हमारी सेना इस चुनौती का सफलता से सामना करेगी, और इसके लिए हमें उनपर गर्व है. अभी जो स्थिति बनी हुई है उसमें संवेदनशील परिचालन मुद्दे शामिल है, इसलिए मैं इस बारे में ज्यादा खुलासा नहीं करना चाहूंगा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.