Take a fresh look at your lifestyle.

कश्‍मीर घाटी में आतंकियों को हथियार सप्‍लाई के रास्‍ते बंद, अब पाकिस्‍तान करने जा रहा ये गलती

0

Jammu: पीओके में एलओसी के पास 500 से अधिक आतंकी घुसपैठ की कोशिश में लगे हैं. इनका एक ही मकसद है कश्‍मीर घाटी को किसी भी तरह डिस्‍टर्ब रखा जाये. यह जानकारी शुक्रवार को सेना ने मीडिया को दी.

सेना की उत्तरी कमान के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने कहा कि पाकिस्तान पीओके में आतंकियों के कई ट्रेनिंग सेंटर हैं. यहां से 500 से अधिक आतंकवादी जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की कोशिश में लगे हुए हैं. उन्‍होंने बताया कि 200 से 300 आतंकवादी पाक के सहयोग से घाटी को अशांत रखने के लिए जम्मू कश्मीर में सक्रिय हैं. हम उन्हें रोकने और उनका सफाया करने में सक्षम हैं.

पाकिस्‍तान से घाटी में हथियार सप्‍लाई के रास्‍ते बंद

सेना की ओर से कहा गया कि कश्मीर में आतंकी हथियारों की कमी से जूझ रहे हैं. इसलिए वे अब विशेष पुलिस अधिकारी और पुलिस थानों से हथियार छीनने या लूटपाट  करने की कोशिश करते हैं.आर्टिकल 370 हटते ही आतंकियों की कमर टूट गयी है.

पाक में बैठे उनके आकाओं के घाटी में हथियार भेजने के सारे रास्ते बंद हो गये हैं. ऐसे में अब पाक आतंकी नये पैंतरे आजमा सकते हैं. 

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने अखबारों में पूरे पन्ने का विज्ञापन जारी कर लोगों को आतंकियों की धमकियों से नहीं डरने और अपनी सामान्य गतिविधियां बहाल करने कर अपील की है. 

एलओसी पर बढ़े सीजफायर

मीडिया की खबरों के मुताबिक जुलाई से सितंबर के अंत तक पाकिस्तानी सेना ने 895 बार एलओसी पर सीजफायर का उल्लंघन करते हुए आम नागरिकों पर निशाना साधा है.

भारत ने अगस्त में अनुच्छेद-370 के प्रावधानों को खत्म किए जाने के बाद एलओसी पर पाकिस्तानी सेना की तरफ से बिना उकसावे लगातार फायरिंग पर ऐतराज जताया है. एक अक्तूबर को डीजीएमओ सतर की वार्ता में यह मुद्दा पाकिस्तान के समक्ष उठाया गया.

पिछले महीने सेना ने पुंछ जिले में पाकिस्तानी सेना की तरफ से भारी हथियारों से की गई गोलाबारी में फंसे स्कूली छात्रों को बचाया था. 

वहीं सितंबर में पाकिस्तानी सेना ने मोर्टार और भारी हथियारों का उपयोग बढ़ाया और करीब 61 कैलिबर की बढ़ोतरी दर्ज की गई. सितंबर में सबसे ज्यादा 42 बार पीर पंजाल के उत्तरी क्षेत्र में नियंत्रण रेखा पर सीजफायर उल्लंघन किया गया. 

जुलाई से सितंबर में पाक ने तोड़ा सीजफायर

महीना 2017 में 2018 में 2019 में
जुलाई 68 13 296
अगस्त 108 44 307
सितंबर 101 102 292

आतंकी घटनाओं में कमी

इस साल जुलाई से सितंबर के दौरान आतंकियों की तरफ से महज 24 घटनाओं को अंजाम दिया गया, जबकि पिछले साल 114 और 2017 में 31 घटनाएं इस दौरान हुई थीं.

सितंबर में कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी के 85 मामले, नागरिक प्रदर्शन के 5 मामले और बंद के 3 मामले दर्ज किए जाने की पुष्टि की है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More