झारखंड में कोरोना से मर रहे मरीज और 7 जिलों में पीएम केयर्स फंड से मिले 100 वेंटिलेटर बेकार

by

Ranchi: झारखंड में कोरोना बेतहाशा बढ़ रहे हैं. मरीजों को अस्पताल में बेड नहीं मिल रहे हैं. वेंटिलेटर के अभाव में लोगों की जान जा रही है. वहीं 7 जिलों में 60 वेंटीलेटर धूल फांक रहे हैं. कहीं यह अब तक डिब्बों में बंद है, तो कहीं कपड़े से ढक कर छोड़ दिया गया है. सभी वेंटिलेटर प्रधानमंत्री केअर फण्ड से आए थे, जिन्हें सदर अस्पताल को दिया गया था. लेकिन कहीं भी इसका उपयोग करने की जहमत नहीं उठाई गई. अगर यह वेंटिलेटर राज्य के सबसे ज्यादा संक्रमण वाले रांची जमशेदपुर और हजारीबाग को दे दिए जाते तो यह काफी हद तक मुश्किलें कम हो सकती थी.

लातेहार सदर अस्पताल में 12 वेंटिलेटर 5 माह से धूल फांक रहे हैं. इन्हें चादर से ढक कर छोड़ दिया गया है. गुमला में प्रशिक्षण टेक्नीशियन के अभाव में 21 वेंटीलेटर का उपयोग नहीं हो पा रहा है. बोकारो में भी वेंटीलेटर रखे हुए थे. यहां सदर अस्पताल की आईसीयू के गेट पर ताला लगा था, लेकिन गुरुवार को उपाधीक्षक डॉ रेनू भारती ने इसे चालू करा कर एक मरीज को भर्ती कर लिया. हजारीबाग में पीएम केयर्स फंड से 9 वेंटिलेटर सीएचसी और पीएचसी में लगाए गए, पर बेकार पड़े हैं. यहां एनटीपीसी से 8, DMFT fund से चार और NRHM से 16 समेत 28 वेंटिलेटर मिले थे. यह भी उपयोग में नहीं लाए गए. ऐसा ही हाल रामगढ़ चतरा और सिमडेगा का है. यहां टेक्निशियन के अभाव में वेंटिलेटर बेकार पड़े हैं.

Read Also  घर से बाहर बिना ईपास निकले तो देना होगा जुर्माना

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.