Take a fresh look at your lifestyle.

यूपी के रायबरेली जेल की वीडियो वायरल, हथियार के साथ शराब पीते अपराधी दे रहे मोबाइल पर धमकी

0

उत्तर प्रदेश की जेलों में अपराधी मौज कर रहे हैं. इसका ताजा उदाहरण रायबरेली जेल के एक वायरल वीडियो में देखने को मिला है, जिसमें जेल में बंद अपराधी न सिर्फ शराब पी रहे हैं, बल्कि असलहा और कारतूस भी रखे हुए हैं. वीडियो में एक अपराधी जेलर और डिप्टी जेलर को पैसे देने की बात कर रहा है तो एक अपराधी ने एक कारोबारी को धमकी भी दी.

Like पर Click करें Facebook पर News Updates पाने के लिए

कुछ माह पूर्व बागपत जेल में माफिया मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. इसके बाद सरकार ने जेलों में सुधार के लिए पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह के नेतृत्व में एक कमेटी का गठन किया था. कमेटी ने प्रदेश भर के जेलों का भ्रमण किया और दूसरे प्रदेशों की जेलों का भ्रमण कर अपनी रिपोर्ट सौंपी थी.

कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर सरकार की ओर से कार्रवाई भी शुरू की गई, लेकिन जेल अधिकारियों के भ्रष्टाचार के कारण रायबरेली जेल का एक वीडियो वायरल हो गया कि किस प्रकार जेलों में अपराधियों को प्रतिबंधित सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं.

जेल से पुलिस को बरामद हुआ सिर्फ एक लाइटर

जिला जेल में प्रशासन ने छापा मारा है. छापा मारने वालों डीएम और एसपी हैं, जिन्होंने जेल में आरामगृह होने की सूचना पर छापा मारा. छापेमारी के दौरान जेल से पुलिस को सिर्फ एक लाइटर ही बरामद हुआ है.

वीडियो में दिख रहा है ऐसा नजारा

वीडियो में दिख रहा शख्स शार्पशूटर अंशु दीक्षित है, जिसे वर्ष 2014 में गोरखपुर में एसटीएफ टीम के तत्कालीन सीओ विकास चन्द्र त्रिपाठी के नेतृत्व में पकड़ा गया था. भोपाल में इसको पकड़ने गई टीम के उपनिरीक्षक संदीप मिश्रा को गोली मार कर फरार हुआ था. यह कई हाईप्रोफाइल मर्डर कर चुका है.

वायरल वीडियो में अपराधी जेल अधीक्षक को 10 हजार और डिप्टी जेलर को पांच हजार रुपए देने की बात कर रहे हैं. मामला पता चलते ही संबंधित अपराधियों का तबादला अन्य जेलों में करने की बात की जा रही है. साथ ही मामले में सदर थाने में मुकदमा भी दर्ज कराया गया है.

मामले में बैठाई गई है जांच

डीआईजी जेल का कहना है कि मामले में जांच बैठाई गई है, लेकिन तीन-चार दिन पुराना मामला होने के बाद भी ना तो अभी तक रिपोर्ट आई है और ना ही किसी के खिलाफ कार्यवाही की गई है. मामले के बारे में पक्ष लेने के लिए एडीजी जेल पीके मिश्र और जेल राज्य मंत्री जय कुमार सिंह जैकी को फोन किया गया तो उन्होंने फोन रीसिव नहीं किया.

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More