उग्रवादी संगठन जेजेएमपी के सक्रिय सदस्‍यों के बीच खींचतान शुरू, बता रहे हैं एक-दूसरे को झूठा

by

Ranchi: झारखंड का प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन झारखंड जन मुक्ति परिषद के सदस्यों में मनमुटाव बढ़ता दिख रहा है. इसके सक्रिय कमांडर कमांडर एक-दूसरे को झूठा बता रहे हैं और पोल खोल रहे हैं.

कुछ दिन पर जेजेएमपी के लवलेश जी ने एक वीडियो जारी किया था, जिसमें उन्‍होंने 21 जुलाई को आहूत झारखंड बंद को फर्जी करार दिया था. उसके बाद उसके जवाब में शशिकांत जी ने एक प्रेस रिलीज और ऑडियो जारी किया है.

वीडियो बयान के जवाब में ऑडियो बयान

इस ऑडियो रिकॉर्डिंग में शशिकांत जी ने कहा है कि जेजेएमपी उग्रवादी संगठन सबजोनल कमांडर लवलेश जी के द्वारा 20 जुलाई को एक वीडियो जारी कर बंदी को झूठा बताया गया था और कहा गया था कि जेजेएमपी संगठन में शशिकांत नाम का कोई नहीं है.

Read Also  झारखंड में अब अपराध से जुड़े सुराग और सबूतों की ऑन द स्‍पॉट होगी जांच

उन्‍होंने कहा है कि लवलेश जी के द्वारा दिए गए बयान पुलिस के द्वारा लिखाए गए नोट को पढ़कर दिया गया है. लवलेश जी पुलिस के दबाव में इस तरह का बयान दे रहे हैं.

शशिकांत जी ने कहा है कि पुलिसिया दबाव में आकर हमारे संगठन के साथी ही लवलेश जी ने बंदी को वापस करने का वीडियो वायरल किया और शशिकांत जी को संगठन का नहीं बताया. जारी किए गए पत्र में कहा गया है कि लवलेश जी के द्वारा दिया गया बयान उनका खुद का बयान नहीं है वह पुलिस के द्वारा लिखाए नोट को पढ़कर ही अपना बयान जारी कर रहे हैं. उन्हें इस बात का डर है कि प्रशासन उनकी संपत्ति जप्त करेगी और उन पर पुलिसिया कार्रवाई तेज होगी.

Read Also  झारखंड में अब अपराध से जुड़े सुराग और सबूतों की ऑन द स्‍पॉट होगी जांच

साथियों ने लेवी से अर्जित की अकूत संपत्ति

जेजेएमपी उग्रवादी संगठन के उग्रवादी शशिकांत जी ने दावा किया है कि मैंने संगठन में रहकर कोई व्यक्तिगत संपत्ति अर्जित नहीं की है और 10 सालों तक शोषित वर्ग के साथ मिलकर माओवादियों का मुकाबला किया है. इसलिए मुझे किसी का डर नहीं है. रणभूमि में एक दिन मैं भी शहीद हो जाऊंगा. पर अब ना तो कोबरा पुलिस बटालियन के साथ अभियान चलाउंगा ना सहयोग लूंगा.

शशिकांत जीत ने कहा है कि संगठन में रहकर कुछ साथियों ने सिद्धांतों के विरुद्ध चल कर लेवी के पैसे से अकूत संपत्ति अर्जित की है उन्हें अपनी भविष्य की चिंता है इसलिए संगठन में रहकर आपसी बैर करने का कार्य कर रहे हैं.

Read Also  झारखंड में अब अपराध से जुड़े सुराग और सबूतों की ऑन द स्‍पॉट होगी जांच

सरेंडर करने वाले करोड़ों के मालिक

उन्‍होंने कहा है कि आम जनता देख चुकी है कि किस प्रकार इससे पूर्व भी संगठन के भगोड़े मंजीत, सर उपेंद्र खेरवाल और कई लोगों ने सरेंडर किया जिन जिन लोगों ने सरेंडर किया वह आज करोड़ों के मालिक हैं और उनके परिजन ऐशो आराम की जिंदगी जी रहे हैं. वैसे लोग जिसे संगठन ने मान सम्मान दिया जनता ने नेता बनाया आज वही लोग जेजेएमपी के खिलाफ कार्य कर रहे हैं. लातेहार, लोहरदगा, गुमला, गढ़वा और पलामू के जेलों में जेजे एमपी के सैकड़ों क्रांतिकारी साथी बंद है. क्या लवलेश जी बताएंगे उन लोगों के लिए क्या कर रहे हैं?

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.