जमीन अधिग्रहण मुद्दे पर विस सत्र में दो दिनों की हो बहस : सुदेश महतो

by

#Ranchi : आजसू सुप्रीमो सुदेश कुमार महतो ने जमीन अधिग्रहण के सवाल पर मानसून सत्र में इसपर दो दिनों का विशेष बहस कराने की मांग की है. उन्होंने कहा कि सत्र में सभी दलों के प्रतिनिधि अपनी बातों को खुलकर रख सकें.

विधानसभा राज्य की सबसे बड़ी पंचायत है और जनता के निर्वाचित जन प्रतिनिधियों की सदन के प्रति अहम जिम्मेदारी होती है. इसलिए सत्ता-विपक्ष को नैतिक जिम्मेदारी के साथ विशेष बहस के लिए आगे आना चाहिए. उन्होंने कहा कि आरोप-प्रत्यारोप लगाने के बजाय सत्ता-विपक्ष विधान सभा के सभी राजनैतिक दलों और जन प्रतिनिधियों की ज़िम्मेवारी है कि वे राज्य के भोले-भाले आदिवासियों, मूलवासियों को गुमराह करने के बजाय उनके हित में उनकी मनोभावना के अनुकूल निर्णय लें.

Read Also  हेमंत सरकार गिराने की साजिश में शामिल कांग्रेसी विधायकों के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई

महतो ने कहा कि ज़मीन अधिग्रहण जैसे संवेदनशील विषय पर बहस ना होना चिंतनीय है. तीन मिनट में इतने गम्भीर विषय का पारित हो जाना जनता की भावना के विपरीत है. विधान सभा में पिछले कई सत्र में गतिरोध के कारण कार्यवाही ठप रही. विपक्ष द्वारा विस सत्र का बहिष्कार एवं सदन को नहीं चलने देना, मुद्दे पर बहस से भागना इस मुद्दे पर गंभीर नहीं होना दर्शाता है.

इससे पहले भी सीएनटी-एसपीटी में संशोधन की सरकार की कोशिशों को लेकर राज्य ने लंबे समय तक असमंजस की स्थिति का सामना किया है. ये परिस्थितियां सिर्फ इसलिए पैदा होती रही हैं कि जनभावना का ख्याल नहीं किया जाता.

हालांकि सीएनटी-एसपीटी के मुद्दे पर सरकार को बैकफुट पर जाना पड़ा, लेकिन पूरा राज्य इसमें उलझा रहा. इससे राज्य में विकास और समरसता का माहौल भी प्रभावित होता रहा है. यह विषय झारखण्ड आंदोलन की मूल विषयों से जुड़ा है और गंभीर एवं संवेदनशील है.

Read Also  महाराष्‍ट्र के पूर्व मंत्री और बड़े कारोबारी ने रची थी हेमंत सरकार गिराने की साजिश!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.