Coronavirus से जंग में लोगों के साथ खड़े हैं President कोविंद

Coronavirus से जंग में लोगों के साथ खड़े हैं President कोविंद

New Delhi: राष्ट्रपति के रूप में राम नाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) ने अपने 3 साल का कार्यकाल पूरा कर लिया है. कोविंद देश के पहले नागरिक हैं जो कदम से कदम मिलाकर कोरोनावायरस (Coronavirus) के खिलाफ देश के साथ जंग लड़ रहे हैं.

शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने कार्यकाल के तीन साल पूरे कर लिए हैं. ज्यादातर भारतीयों की तरह ही राष्ट्रपति कोविंद का जीवन भी कोरोनावायरस से जूझ रहे देश के लोगों के जैसा ही है.

आम लोगों के लिए राष्ट्रपि भवन के दरवाजे बंद हैं

राष्ट्रपति भवन (President House) जो कि आमतौर पर हजारों लोगों के द्वारा विजिट किया जाता है, जिसमें गणमान्य व्यक्तियों समेत राजनेता भी शामिल होते हैं. 25 मार्च से शुरू हुए देशव्यापी लॉकडाउन के बाद से राष्ट्रपति भवन के दरवाजे आम लोगों के लए बंद हैं. मुगल गार्डन में आगंतुकों की संख्या को देखते हुए राष्ट्रपति ने खुद कहा था कि राष्ट्रपति भवन को बंद किया जाए, साथ ही कोरोनावायरस के चलते गार्ड ऑफ सेरेमनी का आयोजन भी न हो.

राष्ट्रपति ने गवर्नर्स से की मीटिंग

मार्च के आखिर में राष्ट्रपति ने देश की कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई मे एक्शन लेते हुए उपराष्ट्रपति वेंकैय्या नायडू के साथ एक वीडियो-कांफ्रेंस आयोजित की थी. राष्ट्रपति भवन के एक सूत्र ने कहा कि इसमें सभी गवर्नरों और लेफ्टिनेंट गवर्नरों से आग्रह किया गया कि वे अपनी-अपनी राज्य सरकारों को वायरस के खिलाफ जंग में समर्थन दें. उन्होंने राज्यपालों से संबंधित राज्य सरकारों के साथ नियमित रूप से स्टॉक-मीटिंग लेने का भी आग्रह किया.

इसी तरह की एक वीडियो-कांफ्रेंस अप्रैल के पहले सप्ताह में की गई जिसमें, उन्होंने कहा कि वह और उपराष्ट्रपति राज्य के राज्यपालों और महामारी से संबंधित मुद्दों पर परामर्श के लिए हमेशा उपलब्ध रहेंगे. मार्च के बाद राष्ट्रपति से मिलने बहुत कम लोग ही पहुंचे. जिनमें प्रधानमंत्री भी एक बार उनसे मिलने गए. वहीं गृहमंत्री अमित शाह और अन्य मंत्रियों ने लॉकडाउन के पीरियड में उनसे कई मुलाकातें कीं.

खर्चों में कटौती का राष्ट्रपति ने जारी किया आदेश

सूत्रों के मुताबिक इस दौरान उन्होंने इस वित्तीय वर्ष में पूंजीगत कामों को न करने और परिसंपत्तियों के रखरखाव समेत कई अन्य कार्यालय उपभोग्य सामग्री में कटौती के आदेश जारी किए. वहीं राष्ट्रपति भवन के कार्यक्रमों और अन्य खर्चों में कटौती का भी राष्ट्रपति ने आदेश जारी किया.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top