नए साल में 01 जनवरी 2020 से बदल जाएंगे ये 10 नियम

by

New Delhi: नए साल 2020 की पहली सुबह से कई नियमों में बदलाव होने जा रहा है. एक जनवरी से एनईएफटी (नेफ्ट) के जरिए लेन-देन पर अब कोई शुल्क नहीं चुकाना होगा. 31 दिसम्बर, 2019 तक पुराने डेबिट कार्ड को इलेक्ट्रॉनिक चिप वाले कार्ड से बदलवाना जरूरी है. क्‍योंकि, बिना चिप वाले पुराने डेबिट कार्ड से आप नए साल में कैश नहीं निकाल पाएंगे. इसके अलावा पैन को आधार से लिंक करने की अंतिम तिथि भी बढ़ा दी गई है. आइए जानते हैं नए साल में क्‍या-क्‍या बदलाव हो रहे हैं.

1 जनवरी से चलेंगे चिप वाले एटीएम कार्ड

नए नियम के तहत 31 दिसम्बर तक पुराने डेबिट कार्ड को इलेक्ट्रॉनिक चिप वाले कार्ड से बदलवाना जरूरी है. दरसअल नए साल में पुराने डेबिट कार्ड से कैश नहीं निकाल पाएंगे. इसमें लगी मैग्नेटिक स्ट्रिप अब बेकार हो जाएगी, जिससे एटीएम ग्राहक का डेटा पहचानता है. स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने अपने सभी ग्राहकों को मैग्नेटिक स्ट्रिप डेबिट कार्ड को ईएमवी चिप और पिन बेस्ड कार्ड्स में बदलने के लिए कहा है. एसबीआई ने डेबिट कार्ड बदलने की अंतिम तारीख 31 दिसम्बर, 2019 तय की है.

ऑनलाइन ट्राजेक्शन एनईएफटी पर नहीं लगेगा चार्ज

अब बैंकों में एनईएफटी के जरिये लेन-देन पर 1 जनवरी, 2020 से कोई शुल्क नहीं चुकाना होगा. एनईएफटी अब हफ्ते के सातों दिन, चौबीसों घंटे हो सकेगा. भारत बिल पेमेंट सिस्टम से प्रीपेड छोड़कर सभी बिलों का भुगतान किया जा सकेगा.

प्रॉविडेंट फंड (पीएफ) के नियम 1 जनवरी से बदल जाएंगे

नए साल में प्रॉविेडेंट फंड से जुड़े नियम भी आसान होने जा रहे है. नए नियमों के तहत वो कंपनियां भी पीएफ के दायरे में होंगी, जहां 10 कर्मचारी हैं. कर्मचारी ही पीएफ का अंशदान तय कर सकेंगे. इसके अलावा पेंशन फंड से एकमुश्त राशि की निकासी संभव होगी.

एसबीआई के रेपो रेट से जुड़े कर्ज 0.25 फीसदी सस्ते

स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने रेपो रेट से जुड़े कर्ज पर ब्याज 0.25 फीसदी तक घटाया है. नई दरों का लाभ एसबीआई के पुराने ग्राहकों को 1 जनवरी, 2020 से मिलेगा.

ज्‍वैलरी से जुड़ा नियम बदलेगा, अब हॉलमार्किंग अनिवार्य

नए साल में सोने-चांदी की ज्‍वैलरी पर हॉलमार्किंग अनिवार्य हो गई है. हालांकि, ग्रामीण इलाकों में इससे एक साल तक छूट रहेगी. इसी वजह से माना जा रहा है कि ज्‍वैलरी के दाम बढ़ सकते हैं.

रुपे कार्ड और यूपीआई पर अब नहीं लगेगा कोई चार्ज

सरकार ने डिजिटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए बड़ी राहत की घोषणा की है. 1 जनवरी, 2020 से रुपे कार्ड और यूपीआई से लेन-देन पर किसी तरह का मर्चेंट डिस्काउंट रेट (एमडीआर) शुल्क नहीं लगेगा. यदि किसी बिजनेस का टर्नओवर 50 करोड़ रुपये से ज्यादा है तो उसे हर हाल में डिजिटल पेमेंट के ये ऑप्शन रखने होंगे. क्‍योंकि, अपने ग्राहकों से वे इसके जरिए पेमेंट पर किसी तरह का एमडीआर शुल्क नहीं वसूल पाएंगे.

पैन कार्ड और आधार लिंक की अंतिम तिथि बढ़ी

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (सीबीडीटी) ने 30 दिसम्‍बर को आधार और पैन कार्ड लिंक करने की अंतिम तारीख बढ़ाकर 31 मार्च, 2020 कर दी है. इसके पहले यह तारीख 31 दिसम्बर, 2019 थी.

बीमा पॉलिसी का प्रीमियम अब हो जाएगा महंगा

नए साल में बीमा रेग्‍युलेटर भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) ने चेंज लिंक्ड और नॉन लिंक्ड जीवन बीमा पॉलिसी में बदलाव की घोषणा की है. इसकी वजह से प्रीमियम अब महंगा हो जाएगा. हालांकि एलआईसी ने क्रेडिट कार्ड से भुगतान पर लगने वाले चार्ज को भी खत्म करने की घोषणा की है.

एटीएम से कैश निकालने के लिए ओटीपी अनिवार्य

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने एटीएम से कैश निकासी के नियम में बड़ा बदलाव किया है. देश के सबसे बड़े बैंक के ग्राहकों को रात में एटीएम से कैश निकालते समय बैंक अकाउंट (खाते) से जुड़े नंबर वाला मोबाइल साथ में रखना होगा. साथ ही बैंक ने रात्रि के 8 बजे से लेकर सुबह 8 बजे तक एटीएम से 10 हजार रुपये से अधिक कैश निकासी के लिए ओटीपी बेस्ड सिस्टम लागू करने का फैसला किया है.

टोल प्‍लाजा पर फास्टैग अब जरूरी, वरना दोगुना टोल

सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने 15 जनवरी, 2020 के बाद नेशनल हाइवे (एनएच) से गुजरने वाली गाड़ियों में फास्टैग अनिवार्य कर दिया है. जानकारी के मुताबिक अभी तक एक करोड़ फास्टैग जारी हुए हैं. यदि फास्टैग नहीं हुआ तो दोगुना टोल टैक्‍स चुकाना होगा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.