जमात में शामिल देसी-विदेशी महिलाएं बनीं बड़ी चुनौती

by

New Delhi: निजामुद्दीन स्थित मरकज में हुए कार्यक्रम में शामिल देश-विदेश के जमातियों में बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल हुई थीं. हालांकि, क्राइम ब्रांच से लेकर अन्य सभी जांच एजेंसियां देशभर में पुरुषों की तलाश तो कर रही हैं, लेकिन इन महिला जमातियों से अंजान बनी हुई हैं. ऐसे में यह महिलाएं देश के लिए बड़ा संकट खड़ा कर सकती हैं.

दरअसल जमात में ये महिलाएं पिता, भाई या बेटे के साथ शामिल होती हैं. इस जमात को मस्तूरात की जमात कहा जाता है, जिसमें महिला और पुरुष दोनों होते हैं. जमात में जाने वाले पुरुष मस्जिद में रुकते हैं, जबकि महिलाएं मस्जिद के आसपास के किसी घर में. 

इसे भी पढ़ें: क्वारंटाइन से अस्पताल पहुंचे 36 जमाती, सभी मिले कोरोना पॉजिटिव

Read Also  कोरोना संकट के बीच देश छोड़कर विदेश में बसने की तैयारी में बड़े उद्योगपति और अमीर

लॉकडाउन के दौरान निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज से जो जमाती मिले थे. उसमें बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल थीं. इसमें देश के विभिन्न राज्यों के साथ ही विदेश से भी महिलाएं आई थीं.

तब्लीगी मरकज में शामिल लोगों में कोरोना की पुष्टि हो चुकी है. पुलिस की जांच फिलहाल पुरुष जमातियों पर टीकी है, उनका ध्यान महिला जमातियों पर नहीं गया है.

जमात से जुड़े हुए अब्दुल सईद ने बताया कि निजामुद्दीन स्थित मरकज में महिलाओं के ठहरने के लिए एक अलग से बड़ा हॉल बना हुआ है, वहां पर पुरुषों का प्रवेश प्रतिबंधित है.

इसे भी पढ़ें: भाजपा विधायक राज सिन्‍हा ने लॉकडाउन का उल्‍लंघन कर जुटाई लोगों की भीड़

मरकज से मस्तूरात की तीन दिन, 40 दिन और दो महीने की जमातें देश-विदेश में जाती हैं. मार्च महीने में बहुत सी विदेशी मस्तूरात की जमातें दिल्ली में भी आई हुई हैं.

Read Also  Cyclone Tauktae गुजरात में मचा सकता है भारी तबाही, गृह मंत्रालय ने जारी किया एडवाइजरी

यह जमातें दिल्ली की विभिन्न मस्जिदों में रुकी हुई थीं, वहीं कुछ जमातें मरकज में भी रुकी थीं. जिस वक्त मरकज को सील किया गया, उस दौरान महिलाओं को भी क्वारंटाइन सेंटर भेजा गया है. हालांकि, दिल्ली पुलिस के पास अभी पुख्ता जानकारी नहीं है कि क्वारंटाइन सेंटरों में कितनी जमाती महिलाओं को रखा गया है.

बताया जा रहा है कि जमात में रहते हुए यह महिलाएं कितनी महिलाओं से मिलीं, यह भी पता लगाना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती है. जमात में जाने वाली महिलाएं पर्दे में रहती हैं, किसी गैर मर्द के सामने वह अपने चेहरे का नकाब तक नहीं हटाती हैं.

इसे भी पढ़ें: बिहार के सीवान में 22 नए कोरोना मरीज

Read Also  Cyclone Tauktae गुजरात में मचा सकता है भारी तबाही, गृह मंत्रालय ने जारी किया एडवाइजरी

मस्तूरात जमात की महिलाएं जहां पर रुकती हैं, वहां मोहल्ले की महिलाएं आती हैं, जिन्हें जमात की महिलाएं इस्लाम की बातें बताती हैं.

जमात में शामिल किसी महिला को कोरोना है या नहीं इसके बारे में अभी कुछ पता नहीं चल पाया है, लेकिन अगर किसी महिला को कोरोना हुआ तो वह किस किस से मिली उसके बारे में पता लगाना स्वास्थ्य विभाग के साथ ही पुलिस के लिए चुनौती साबित होगा.

यही नहीं इससे देशभर में कोरोना के मरीजों की कितनी बड़ी संख्या सामने आ सकती है, इसका अंदाजा लगाना भी मुश्किल है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.