मोदी शासन में गूगल पर जॉब ढूंढने वालों की संख्या सौ गुणा बढ़ी

by

New Delhi: हाल ही में हुए पांच राज्यों के चुनावों में बीजेपी को 3 राज्यों में सत्ता गंवानी पड़ी है, जबकि बाकी के दो राज्यों में वह सबसे निचले पायदान पर रही. जानकार इसके पीछे किसान और बेरोजगारी को सबसे अहम मुद्दा बता रहे हैं, जिसको भूनाने में कांग्रेस कामयाब हो सकी. इस बात पर गूगल की रिपोर्ट भी मुहर लगाती है. रिपोर्ट के अनुसार, गूगल सर्च पर लोग नौकरी ढूंढने में लगे हुए हैं और काफी परेशान भी हैं.

गूगल ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी करते हुए कहा है कि पिछले कुछ साल में गूगल सर्च पर लोगों ने सबसे ज्यादा एक ही फ्रेज को सर्च किया. यह इसलिए भी चौंकाने वाला है क्योंकि, ज्यादातर लोग अपने आसपास के इलाके में ही नौकरी तलाश रहे हैं. पिछले चार से पांच साल में लोगों ने सबसे ज्यादा गूगल पर ‘नियर मी’ (Near Me) को सर्च किया है.

‘जॉब्स नियर मी’ ढूंढने वालों की संख्या बढ़ी

नौकरी तलाशने की बात करें तो देश में ‘जॉब्स नियर मी’ (jobs near me) फ्रेज सर्च करने वालों की संख्या में पिछले साढ़े चार साल में तेजी आयी है. पिछले दो सालों में ‘जॉब्स नियर मी’ के प्रति लोगों का रुझान तेजी से बढ़ा है. यह फ्रेज 2018 की देश की टॉप 10 सर्चिंग लिस्ट में ‘नियर मी’ से नीचे है. गूगल की तरफ से जारी ‘ईयर इन सर्च’ रिजल्ट में इस बारे में जानकारी दी गयी. ‘जॉब्स नियर मी’ फ्रेज सर्च के जनवरी 2004 से दिसंबर 2018 तक के आंकड़े जारी किए गये.

ऐसे बढ़ता गया ‘जॉब्स नियर मी’ का ग्राफ

गूगल की रिपोर्ट के अनुसार 2004 से मई 2014 तक ‘जॉब्स नियर मी’ को नॉर्मल तरीके से सर्च किया गया. मई 2014 में ‘जॉब्स नियर मी’ के सर्च आंकड़े 1 दर्शाये गये. जून 2014 में यह आंकड़ा बढ़कर 2 हो गया. अप्रैल 2017 में यह आंकड़ा बढ़कर 17 हो गया. चार महीने बाद अगस्त में यह आंकड़ा बढ़कर 50 हो गया. अप्रैल 2018 में यह आंकड़ा बढ़कर 88 पर पहुंच गया. जुलाई 2018 में यह ‘जॉब्स नियर मी’ का आंकड़ा तेजी से बढ़ा और 100 के स्तर पर पहुंच गया.

यह सर्च ‘मोबाइल स्टोर नियर मी’, ‘सुपरमार्केट्स नियर मी’ और ‘गैस स्टेशन नियर मी’ के रूप में लोग करते हैं. इन सबके बीच खास बात यह थी कि यूजर्स का गूगल सर्च में नियर मी पर जोर रहता था. चार से पांच साल के दौरान गूगल की तरफ से इन्हीं फ्रेज को टॉप सर्च कैटगरी में रखा गया.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.