जिस मिग 21 को अभिनंदन उड़ा रहे थे, उसे क्‍यों कहा जाता है ‘उड़ता ताबूत’

by

बुधवार को भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तानी सेना ने गिरफ्तार कर लिया. विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तानी विमानों को अपनी सीमा से खदेड़ते हुए पीओके में घुस गए थे, जिसके बाद पाकिस्तानी सेना ने उन्हें हिरासत में ले लिया.

लेकिन क्या आपको पता है विंग कमांडर अभिनंदन जिस विमान (MiG-21) से पाकिस्तानी F-16 का पीछा कर रहे थे. वह इसके मुकाबले कमजोर है. लेकिन, फिर भी अभिनंदन ने बहादुरी का परिचय देते हुए न सिर्फ दुश्मन के विमान का पीछा किया बल्कि उसे वापस भी खदेड़ दिया. हालांकि, खुद उनका विमान दुश्मन का शिकार हो गया और इजेक्ट करके उन्हें अपनी जान बचानी पड़ी. लेकिन, बदकिस्मतन वे पाकिस्तानी सीमा में जा पहुंचे जहां उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

पायलटों का काल है MiG-21

MiG-21 को ‘Flying coffin‘ कहा जाता है. सोवियत संघ ने इसका निर्माण 1956 में शुरू किया था. 1964 में भारतीय सेना ने इस विमान को अपने बेड़े का हिस्सा बनाया. अगर जान-माल के नुकसान की बात करें तो 1970 से लेकर अब तक MiG-21, 170 पायलटों और 40 नागरिकों की जान ले चुका है. अब तक बनाए गए कुल 872, MiG-21 में से आधे से ज्यादा दुर्घटना का शिकार हो चुके हैं. रूस ने भी इसका इस्तेमाल 1985 में बंद कर दिया था. बांग्लादेश और अफगानिस्तान जैसे देशों ने भी अब MiG-21 को अपने जहाजी बेड़े से बाहर कर दिया है. हालांकि‍ भारत अभी भी 2021-22 तक MiG-21 को इस्तेमाल करना चाहता है.

‘जगुआर’ की भी हालत खस्ता है

MiG-21 की ही तरह भारत के दूसरे लड़ाकू विमान जगुआर की भी हालत पस्त है. रक्षा मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार भारतीय वायुसेना के बेड़े में इस समय 118 जगुआर हैं. हालांकि, विकीपीडिया पर यह आंकड़ा 91 दिया गया है. भारत ने यूनाइटेड किंगडम से साल 1979 में 40 जगुआर खरीदे थे. 1968 में निर्मित इस जहाज में रोल्स रॅायस का 811 इंजन लगा है. जो आज के हिसाब से कमजोर है. 2005 में फ्रांस, 2007 में यूके और 2014 में ओमान ने इसका इस्तेमाल करना बंद कर दिया है.

भारतीय वायुसेना के पास अभी 91 जगुआर हैं जिसे अपग्रेड करके सेना 2035 तक इस्तेमाल करना चाहती है. लेकिन, अभी तक इसका अपग्रेड शुरू नहीं किया गया है.

भारतीय वायुसेना इन पुराने और अन-अपग्रेडेड जहाजों की वजह से पिछले काफी समय से कई जवानों को खो चुकी है. आइए जानते हैं हाल ही में हुए कुछ विमान हादसे –

  • 19 फरवरी 2019 को एयर शो की रिहर्सल के दौरान दो जेट टकरा गए थे जिसमें एक पायलट की मौत हो गई थी.
  • 1 फरवरी 2019 को एक Mirage-2000 ट्रेनर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था जिसमें 2 पायलटों को जान गंवानी पड़ी थी.
    12 फरवरी 2019 को एक Mig-27 दुर्घटनाग्रस्त हो गया था.
  • 28 जनवरी 2019 को भारतीय वायुसेना का एक जगुआर विमान क्रैश हो गया था.
  • 28 नवंबर 2018 को भारतीय वायुसेना का एक ट्रेनर विमान हैदराबाद में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था.
  • 18 जुलाई 2018 को MiG-21 दुर्घटनाग्रस्त हो गया था जिसमें स्कवाड्रन लीडर मीत कुमार शहीद हो गए थे.
    11 जुलाई 2018 को राजस्थान में एक MiG-21 दुर्घटनाग्रस्त हो गया था.
  • 5 जून 2018 को गुजरात में एक जगुआर विमान दुर्घटनाग्रस्त. इसमें एयर कॅामोडोर संजाई चौहान शहीद.
    23 मई 2018 को जम्मू-कश्मीर में चीता हेलिकॅाप्टर क्रैश.

विमान हादसों की बात करें तो पिछले 5 सालों में विमान हादसों की संख्या बढ़ी है. 2017-18 में 5 विमान हादसे, 2016-17 में 10 विमान हादसे, 2015-16 में 6, 2015-14 में 10 विमान हादसे हुए. 

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.