Take a fresh look at your lifestyle.

बंगाल में डॉक्टरों की हड़ताल का असर देश के कई शहरों पर

0

New Delhi: पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टर के साथ मारपीट के बाद शुरू हुई हड़ताल आज भी जारी है. अब इस हड़ताल का असर बंगाल समेत दिल्ली, महाराष्ट्र, हैदराबाद और कई राज्यों में भी देखने को मिल रहा है.

पश्चिम बंगाल के एनआरएस मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में दो डॉक्टरों पर हमले के खिलाफ विरोध जताते हुए दिल्ली के एम्स, मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज (एमएएमसी) और सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टर शुक्रवार को हड़ताल कर रहे हैं. साथ ही मुंबई के कई डॉक्टर भी साइलेंट प्रोटेस्ट कर रहे हैं.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने डॉक्टरों को काम पर लौटने का अल्टीमेटम दिया है. लेकिन डॉक्टरों का कहना है कि जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जातीं, तब तक उनकी हड़ताल जारी रहेगी.

AIIMS और सफदरजंग में नए मरीजों की OPD में रजिस्ट्रेशन बंद

दिल्ली में डॉक्टरों ने विरोध जताते हुए ओपीडी और रूटीन सर्जरी के मामलों को न देखने का फैसला किया है. AIIMS और सफदरजंग अस्पताल में नए मरीजों की ओपीडी में रजिस्ट्रेशन बंद है. हालांकि पुराने मरीजों का इलाज हो रहा है.

केरल में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सदस्य हड़ताल पर

केरल में इंडियन मेडिकल असोसिएशन, त्रिवेंद्रम के सदस्यों ने पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा के विरोध में प्रदर्शन किया.

जयपुर में डॉक्टर काम पर लेकिन काली पट्टी बांधकर जता रहे हैं विरोध

जयपुर के जयपुरिया अस्पताल के डॉक्टर काली पट्टी बांधकर अपना विरोध जता रहे हैं साथ ही वो अपनी ड्यूटी भी कर रहे हैं.

AIIMS के डॉक्टर सिर पर पट्टी बांधकर जता रहे हैं विरोध

दिल्ली AIIMS के डॉक्टर पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा पर हड़ताल पर हैं. डॉक्टरों ने विरोध जताने के लिए अपने सिर पर पट्टी बांध रखी है.

डॉक्टरों की हड़ताल से दिल्ली के AIIMS के बाहर मरीज परेशान

कई शहरों में डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं और विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. वहीं डॉक्टरों की हड़ताल की वजह से मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. दिल्ली AIIMS में ओपीडी के बाहर मरीज और उनके परिजनों की भीड़ है. पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा को लेकर एम्स के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (आरडीए) आज हड़ताल पर हैं.

नागपुर में डॉक्टरों ने कहा, ‘सेव द सेवियर

नागपुर गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज में ‘सेव द सेवियर’ और ‘स्टैंड विद एनआरएसएमसीएच’ पोस्टर्स के साथ डॉक्टर अपना विरोध जता रहे हैं.

छत्तीसगढ़ में भी डॉक्टरों की हड़ताल

रायपुर के डॉ. भीमराव अंबेडकर मेमोरियल अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टरों ने पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा पर विरोध जताते हुए ‘वी वांट जस्टिस’ के नारे लगाए.

महाराष्ट्र एसोसिएशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स (MARD) ने भी बुलाया बंद

पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा को लेकर महाराष्ट्र एसोसिएशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स (एमएआरडी) ने आज हड़ताल का ऐलान किया है. आधिकारिक बयान में कहा गया है, “हम आज सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक अपनी ओपीडी, वार्ड और शैक्षणिक सेवाओं को बंद कर रहे हैं. आपातकालीन सेवाओं में बाधा नहीं आएगी.”

दिल्ली एम्स में डॉक्टरों की हड़ताल से मरीज परेशान

पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा को लेकर एम्स के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (आरडीए) भी हड़ताल पर चले गए हैं. डॉक्टरों के हड़ताल पर जाने का असर अब दिल्‍ली के एम्स में दिखने लगा है.

एम्स के बाहर खड़े एक मरीज के रिश्तेदार का कहना है, “मेरी मां का डायलिसिस आज के लिए तय किया गया था, हमें कहा जा रहा है कि मरीज को कहीं और ले जाओ.”

ममता बनर्जी ने जूनियर डॉक्टरों को काम पर लौटने को कहा

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को डॉक्टरों को हड़ताल वापस लेने के लिए चार घंटे का अल्टीमेटम दिया था. बनर्जी ने चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर हड़ताली डॉक्टर दी गई समय सीमा के अंदर काम पर नहीं लौटते हैं, तो उन पर ‘कड़ी कार्रवाई’ की जाएगी. फिलहाल इस अल्टीमेटम का असर होता नहीं दिख रहा है.

क्या है पूरा मामला?

बता दें कि 10 जून को नील रत्न सरकार (NRS) मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान 75 साल की उम्र के एक शख्स की मौत हो गई थी. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मरने वाले के परिजनों ने मौके पर मौजूद डॉक्टरों को गालियां दीं. इसके बाद डॉक्टरों ने कहा कि जब तक परिजन माफी नहीं मांगते, वे प्रमाण पत्र नहीं देंगे. इन सबके बीच हिंसा भड़क गई, जिसमें दो जूनियर डॉक्टर गंभीर रूप से घायल हुए, जबकि कई और को भी चोटें आईं.

इस हिंसा के बाद से जूनियर डॉक्टर हड़ताल पड़ चले गए हैं. वहीं NRS कॉलेज के प्रिंसिपल और वाइस प्रिंसिपल इस मामले में अपना इस्तीफा सौंप चुके हैं.

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More