सबरीमाला मंदिर में प्रवेश के लिए महिलाओं को पहली बार मिली सफलता

New Delhi: केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश की कोशिश को कामयाबी मिली है. बुधवार तड़के 3.45 पर दो महिलाओं ने सबरीमाला मंदिर में प्रवेश किया. मंदिर के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि जब किसी महिला ने मंदिर में प्रवेश किया हो. बता दें कि सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 साल की महिलाओं की एंट्री पर रोक लगी हुई थी. महिलाओं के एंट्री पर बैन लगने के बाद यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा था, जिसके बाद कोर्ट ने इस बैन को हटा दिया था. सुप्रीम कोर्ट द्वारा बैन हटाए जाने के बाद भी मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर रोक लगी हुई थी.

न्यूज एजेंसी ANI द्वारा जारी किए गए वीडियो में देखा जा सकता है कि दो महिलाएं अहले सुबह मंदिर के मुख्य द्वार से अंदर प्रवेश कर रही हैं. दोनों ही महिलाएं काले रंग का लिबाज धारण किए हुए हैं. सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के मुताबिक, महिलाओं की उम्र लगभग 40 साल है.

देर रात की चढ़ाई

बताया जा रहा है कि मंदिर में प्रवेश लेने के लिए दोनों महिलाओं ने आधी रात को चढ़ाई शुरू कर दी थी. न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, जिन दो महिलाओं ने मंदिर में प्रवेश किया है, उसमें से एक का नाम बिंदु और दूसरी महिला का नाम कनकदुर्गा है.

मंदिर में सभी को प्रवेश का अधिकार-कोर्ट

उल्लेखनीय है कि सबरीमाला में महिलाओं के प्रवेश मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि देश में प्राइवेट मंदिर का कोई सिद्धांत नहीं है. मंदिर प्राइवेट संपत्ति नहीं बल्कि सावर्जनिक संपत्ति होते हैं, जहां कोई भी जा सकता है. कोर्ट ने यहां तक कहा कि जब भगवान ने पुरुष और महिला में कोई भेद नहीं किया, उसी ने दोनों को बनाया है तो फिर धरती पर भेदभाव क्यों किया जाता है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.