Take a fresh look at your lifestyle.

आग का दरिया है गिरिडीह लोकसभा चुनाव और चंद्रप्रकाश को चलकर पार लगाना है

पिता ने बोया है फसल और बेटे को काटने के लिए करनी पड़ रही है कड़ी मेहनत...

0

Puskar Mahto

गिरिडीह लोकसभा चुनाव 2019 एनडीए प्रत्याशी व आजसू पार्टी के वरीय उपाध्यक्ष जल संसाधन मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी को जीतना आग के दरिया को पार लगाने जैसा होगा. इस चुनौतीपूर्ण स्थिति में उनका साथ निभा रहे हैं आजसू पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व उपमुख्यमंत्री सुदेश महतो.

लेकिन अगर बात करें प्रतिपक्ष की तो तीर कमान लेकर चंद्रप्रकाश चौधरी के सामने है झामुमो विधायक एवं महा गठबंधन के प्रत्याशी जगन्नाथ महतो. गौरतलब है कि जगन्नाथ महतो पूर्व में ही लोकसभा चुनाव लड़कर अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करा चुके हैं शायद इसलिए महागठबंधन ने उन्हें फिर से प्रत्याशी बनाया है.

अगर बात करें चंद्रप्रकाश चौधरी की तो उनके पिता स्वर्गीय रिझू चौधरी ने स्वर्गीय विनोद बिहारी महतो के साथ मिलकर खून पसीने की मेहनत से गिरिडीह क्षेत्र में शिवाजी सेना खड़ा किया.

यह शिवाजी सेना की ही देन है कि यहां के लोगों में जागरूकता बढ़ी है साथ ही साथ उन्हें अच्छे और बुरे की परख भी हुई है इस क्षेत्र के लोग अब चंद्रप्रकाश चौधरी में स्वर्गीय रिझू चौधरी को देखते हैं. इसे लेकर एक अच्छा और सकारात्मक संकेत भी मिला है कि लोगों ने राजनीतिक पटल पर चंद्र चौधरी को बतौर लोकसभा प्रत्याशी के रूप में हाथों हाथ लिया है.

गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र के परिदृश्य पर अगर नजर डालें तो वहां पर आजसू पार्टी के पक्ष में टुंडी विधानसभा, गिरिडीह विधानसभा, बोकारो विधानसभा और सबसे बड़ा समर्थन बाघमारा विधानसभा का मिला है. इन सबके अलावा गोमिया विधानसभा डुमरी व बेरमो क्षेत्र में भी आजसू पार्टी की जबरदस्त उपस्थिति रही है.

इधर चंद्रप्रकाश चौधरी पूर्व सांसद रविंद्र पांडे व पूर्व ऊर्जा मंत्री लालचंद महतो का पूर्ण समर्थन पाकर गदगद नजर आ रहे हैं.

जब बात जगन्नाथ महतो की आती है तो वह किसी मायने में हल्के उम्मीदवार नहीं रहे हैं. लोग जगन्नाथ महतो के प्रति गोलबंद है उल्लेखनीय है कि मैं तो डुमरी के विधायक हैं इसके अलावा गोमिया विधानसभा में भी उनकी पार्टी की पकड़ बहुत अच्छी बनी हुई है जिसकी वजह से चंद्र प्रकाश चौधरी को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है शायद इसीलिए चौधरी की राह में फूल कम और कांटे ज्यादा नजर आ रहे हैं.

जीत को भेदने के लिए इस गर्मी में भी चंद्रप्रकाश चौधरी अपने पिता की इज्जत बचाने की कोशिश में दिन-रात कड़ी मेहनत कर रहे हैं.

इधर दूसरी ओर गिरिडीह की जनता के बीच या चर्चा का विषय बना हुआ है कि अगर चंद्र प्रकाश चौधरी सांसद बने तो उन्हें केंद्र में मंत्री जरूर बनाया जाएगा जिसका लाभ गिरिडीह की जनता को स्वाभाविक रूप से मिलेगा रामगढ़ की तस्वीर वह तकदीर लिखने में चंद्र प्रकाश चौधरी ने कोई भी कसर नहीं छोड़ी है अपनी उपलब्धियां गिना कर चौधरी गिरिडीह की जनता का विश्वास जीत राजनीतिक आग का दरिया पार करते हुए नजर आ रहे हैं.

(लेखक पत्रकार हैं और यह उनका स्‍वतंत्र विचार हैं)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More