तेजस्वी यादव ने कहा- सीएम नीतीश कुमार ने बेटी होने के डर से दूसरा बच्चा पैदा नहीं किया

by

Patna: बिहार विधानसभा के शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन सदन के अंदर और बाहर जबर्दस्त हंगामा देखने को मिला. पहले सदन के बाहर विपक्ष के नेताओं ने कृषि बिल को लेकर प्रदर्शन किया, उसके बाद सदन में तेजस्वी यादव के भाषण पर हंगामा हुआ.

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर बड़ा हमला किया. तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार ने पूछा कि क्या लड़की पैदा होने के डर से उन्होंने दूसरा लड़का बच्चा पैदा नहीं किया. इस मामले में सत्ता पक्ष के विधायकों ने जोरदार हंगाम किया.

बिहार विधानसभा के आखिरी दिन नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सत्ता पक्ष पर जमकर हमला बोला. हालाकि उनके पूरे भाषण के दौरन नीतीश कुमार उनके निशाने पर रहे. खास तौर पर नीतीश कुमार के चुनाव प्रचार के दौरान दिए गए निजी बयानों को लेकर. चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लालू परिवार पर निशाना साधा था और बच्चों की बात की थी.

इस बात को लेकर आज सदन में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर निजी हमला बोला. हालाकि इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा ये बोलते नजर आए कि भाषा की मार्यादा का ख्याल रखें. इसके बावजूद तेजस्वी यादव ने नीतीश कमार को लेकर बडा बयान दे दिया.

इसे भी पढ़ें: चारा घोटाला मामला: लालू प्रसाद यादव कब आएंगे जेल से बाहर

आठ-नौ बच्चे पैदा करने वाले लोगों से क्या विकास की उम्मीद की जा सकती है?

नीतीश कुमार ने एक चुनावी जनसभा में कहा था कि एक बेटे के लिए आठ-नौ बच्चे पैदा करने वाले लोगों से क्या विकास की उम्मीद की जा सकती है? नीतीश कुमार ने भी कहा था कि उनके लिए पूरा बिहार परिवार है. जबकि कुछ लोगों के लिए उनकी पत्नी और बच्चे ही परिवार हैं. जो अपने परिवार से नहीं निकल सके भला वो बिहार का कल्याण कैसे करेंगे?

Read Also  झारखंड में कोरोना पर कड़े निर्णय लेने से पहले हेमंत सोरेन ने बुलाई वर्चुवल सर्वदलीय बैठक

सबसे पहले तेजस्वी यादव कोरोना को लेकर बात की. उन्होंने कहा कि सबसे पहले सरकार बताए कि सरकार कमेटी बनाने वाली थी, उसका क्या हुआ? जब सरकार सदन में खुले आम झूठ बोल रही है तो जनता से क्या-क्या नहीं झूठ बोला होगा.

इससे पहले सदन में कई सदस्य ऐसे थे कि जिन्होंने मास्क नहीं पहना था. लेकिन जब इस पर बात हुई तो सदन के अध्यक्ष विजय सिन्हा ने मजकिया लहजे में कहा नेता प्रतिपक्ष जी आपके पीछे ललन जी ने भी नहीं पहना है. हालांकि उन्होंने सभी सदस्य से मास्क पहनने की बात कही. इस बीच सदन में तेजस्वी ने आक्रमक रुख नहीं छोड़ा.

राजद, कांग्रेस, भाकपा-माले के विधायकों ने जमकर प्रदर्शन किया

इधर, सदन के बाहर विभिन्न मांगों को लेकर राजद, कांग्रेस, भाकपा-माले के विधायकों ने जमकर प्रदर्शन किया. वहीं बिहार विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर वाद-विवाद शुरू हुआ. पूर्व मंत्री श्रवण कुमार ने सत्ता पक्ष की ओर से धन्यवाद प्रस्ताव रखा. इस बीच कृषि बिल वापस लेने की मांग को लेकर विपक्ष नारेबाजी करते हुए वेल में उतर पडे़. हालांकि विधानसभा अध्यक्ष के आग्रह पर विपक्ष के सदस्य अपनी-अपनी सीटों पर लौटे.

वहीं, भाषण के दौरान तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निजी टिप्पणी की जिसका सत्ता पक्ष ने विरोध किया. दरअसल, जब सदन में राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा शुरू हुई तब नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने चुन-चुन कर नीतीश कुमार के उन आरोपों का जवाब दिया जो उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान लालू परिवार के ऊपर लगाए थे.

तेजस्वी ने उस बयान पर पलटवार किया जिसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चुनावी रैली में आठ-आठ, नौ-नौ बच्चे पैदा करने वाली बात कही थी. इसी दौरान तेजस्वी ने मुख्यमंत्री नीतीश पर निजी टिप्पणी कर दी जिस पर खूब हंगामा हुआ.विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि हम बड़ों पर कटाक्ष नहीं करते क्योंकि हमारे मां बाप ने संस्कार दिए हैं, लेकिन जिस तरीके से एक 31 साल के नौजवान पर हमला किया गया वो सही नहीं था.

Read Also  झारखंड में कोरोना पर कड़े निर्णय लेने से पहले हेमंत सोरेन ने बुलाई वर्चुवल सर्वदलीय बैठक

मुख्यमंत्री जी आपका भी एक बेटा है और हैं भी कि नहीं

मुख्यमंत्री ने हमारे मां-बाप के बच्चों को लेकर कहा तो मैं यह कहना चाहता हूं कि मुख्यमंत्री जी आपका भी एक बेटा है और हैं भी कि नहीं, लेकिन दूसरा बच्चा इस डर से पैदा नहीं किया क्योंकि उन्हें बेटी होने का डर था. इसतह से विधानसभा की कार्यवाही के आखिरी दिन राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव सरकार को खूब घेरा.

तेजस्वी यादव ने सदन में सृजन घोटाले का मामला उठाया और पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को घेरा. तेजस्वी यादव ने सदन में सृजन घोटाले की चर्चा करते हुए तमाम दस्तावेज भी सदन के सामने रखे. तेजस्वी यादव ने कहा कि पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के वित्त मंत्री रहने सृजन में करोड़ों का घोटाला किया गया. सुशील मोदी के अकाउंट में करोड़ों रुपये ट्रांसफर किये गये.

पूर्व शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी का मामला भी उठाया

तेजस्वी यादव ने सदन में बिहार सरकार के पूर्व शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी का मामला भी उठाया. उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के आरोपी को मंत्री बनाते वक्त शायद उन्हें पता नहीं था कि मेवालाल चौधरी पर भ्रष्टाचार का आरोप है खैर उन्हें तो हटा दिया गया. लेकिन एक दूसरे भ्रष्टाचार के आरोपी को मंत्री पद थमा दिया गया.

उन्होंने मंत्री अशोक चौधरी पर निशाना साधा और कहा कि उनकी पत्नी बैंक में पैसे के गबन की आरोपी हैं. तेजस्वी यादव ने कहा कि हमने तो पूरा चुनाव में मुद्दों की बात की, लेकिन चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश जी निजी हमले करते रहे. उन्होंने कहा कितना शोभा देता है मुख्यमंत्री को लोगों को बच्चा गिनने में. इसतरह से सत्र के अंतिम दिन शुक्रवार की कार्यवाही के दौरान जोरदार हंगामा हुआ. विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के नेतृत्व में राजद सत्ता पक्ष के ऊपर जोरदार हमला बोला.

तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निसाना साधा

इससे पहले तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि बिहार में शिक्षकों के कुल स्वीकृत 6,88,157 पदों के विरुद्ध 2,75,255 पद रिक्त है लेकिन फिर भी एनडीए सरकार नियुक्ति नहीं कर रही है. पटना हाईकोर्ट ने नियुक्ति संबंधित जवाब मांगा है. जब तक युवाओं की नौकरी नहीं मिल जाती ना चैन से बैठेंगे और ना सरकार को बैठने देंगे.

Read Also  झारखंड में कोरोना पर कड़े निर्णय लेने से पहले हेमंत सोरेन ने बुलाई वर्चुवल सर्वदलीय बैठक

वहीं राजद ने ट्वीट किया- भ्रष्ट मंत्रियों की फौज खड़ी कर 60 घोटालों की जांच के नाम के नाम पर लीपापोती करनेवाला, शराबबंदी के ढोंग के नाम पर वसूली व तस्करी का समानांतर व्यवस्था खडा करनेवाला और बच्चियों के बलात्कार व हत्याकांड से अनजान होने का ढोंग करनेवाला दो बार का जनादेश चोर भ्रष्ट ना हो यह सम्भव है?

सत्र में आज अंतिम दिन विपक्ष एकजुट दिखा

वहीं, सत्र में आज अंतिम दिन विपक्ष एकजुट दिखा. सदन के बाहर विभिन्न मांगों को लेकर राजद, कांग्रेस, भाकपा- माले के विधायकों ने सदन के बाहर जमकर प्रदर्शन किया और अपनी आवाज बुलंद की. भाकपा-माले ने किसानों को गुलाम बनाने वाले किसान विरोधी कृषि कानून को निष्प्रभावी बनाने वाला प्रस्ताव पारित करो की मांग उठाई गई.

इसके साथ ही बिजली बिल वापस लेने को लेकर भाकपा-माले के विधायकों ने प्रदर्शन किया. गन्ना को लेकर भी विधायकों ने प्रदर्शन किया. दिल्ली में किसानों के ऊपर हो रहे अत्याचार के खिलाफ प्रदर्शन देखने को मिला. इसके साथ ही राजद के भी कौन है धान खरीद में व्याप्त भ्रष्टाचार को दूर करने धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य के अलावा बोनस देने के साथ प्रदर्शन किया.

यहां बता दें कि हाल ही में बिहार में नई सरकार का गठन हुआ है और नीतीश कुमार एक बार फिर बिहार के मुख्यमंत्री बने हैं. इसके अलावा भाजपा के कोटे से तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी को उपमुख्यमंत्री बनाया गया है. बिहार विधानसभा चुनाव में राजद ने 75, भाजपा ने 74, जदयू ने 43 और कांग्रेस ने 19 सीटें जीती हैं. साथ ही मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी और जीतन राम मांझी की पार्टी हम ने चार-चार सीटें जीती हैं. ये दोनों ही पार्टियां एनडीए गठबंधन का हिस्सा हैं.

Categories Bihar

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.