जियो और एयरटेल के टैरिफ प्‍लान 10 प्रतिशत तक महंगे होंगे

0
14
जियो और एयरटेल के टैरिफ प्‍लान 10 प्रतिशत तक महंगे होंगे
जियो और एयरटेल के टैरिफ प्‍लान 10 प्रतिशत तक महंगे होंगे

Jio and Airtel New Tarif plan 2023: जियो और एयरटेल यूजर के लिए ये अच्‍छी खबर नहीं हैं. अब लोगों को जियो और एयरटेल की सर्विस लेने के लिए 10 प्रतिशत अधिक पैसे चुकाने होंगे. साल 2023 तक जियो और एयरटेल के टैरिफ 10 प्रतिशत तक बढ़ाया जाएगा.

टेलिकॉम कंपनियों का कहना है कि रेवेन्‍यू और मार्जिन पर बढ़ते दबाव के कारण टैरिफ बढ़ोतरी की जाएगी.

देश की तीन बड़ी टेलीकॉम कंपनियों के सितंबर तिमाही में एवरेज रेवेन्यू प्रति यूजर (ARPU) में मामूली बढ़ोतरी हुई है.

Business Insider की एक रिपोर्ट में Jefferies के हवाले से बताया गया है कि Bharti Airtel और Reliance Jio इस फाइनेंशियल ईयर की अंतिम तिमाही में टैरिफ को 10 प्रतिशत तक बढ़ाने की घोषणा कर सकती हैं. अगले फाइनेंशियल ईयर में भी टैरिफ को 10 प्रतिशत तक बढ़ाया जा सकता है.

सितंबर में समाप्त हुई तिमाही में जियो के ARPU में 0.8 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई थी. Airtel के लिए यह लगभग चार प्रतिशत की थी.

एनालिस्ट्स का कहना है कि भुगतान नहीं करने वाले सब्सक्राइबर्स की संख्या और मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी (MNP) के लिए रिक्वेस्ट अधिक होने से टेलीकॉम मार्केट में कॉम्पिटिशन बढ़ने का संकेत मिल रहा है.

एयरटेल ने 99 रुपये के प्लान को वापस लेने के साथ प्राइस बढ़ाने की शुरुआत कर दी है. इसका प्राइस लगभग 57 प्रतिशत बढ़ाकर 155 रुपये किया गया है.

नए प्लान में 24 दिनों के लिए अनिलिमिटेड कॉलिंग, 1 GB डेटा और 300 SMS दिए जा रहे हैं. हालांकि, यह कुछ सर्कल्स में ही उपलब्ध है.

TRAI के डेटा के अनुसार, जियो ने सितंबर में लगभग 7,20,000 वायरलेस सब्सक्राइबर्स जोड़े हैं. भारती एयरटेल के मोबाइल यूजर्स में लगभग 4,12,000 की बढ़ोतरी हुई है.

Reliance Jio के पास लगभग 38.8 करोड़ इंटरनेट सब्सक्राइबर्स के साथ लगभग 52 प्रतिशत मार्केट शेयर है. भारती एयरटेल लगभग 17.5 करोड़ सब्सक्राइबर्स के साथ दूसरे स्थान पर है. सरकारी टेलीकॉम कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) का केवल 30 लाख इंटरनेट सब्सक्राइबर्स के साथ चौथा स्थान है.

एक गैर सरकारी संगठन Oxfam की रिपोर्ट में बताया गया है कि केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई योजना ‘Digital India’ में सरकारी कंपनियों की हिस्सेदारी बहुत कम है. इसके तहत ग्रामीण क्षेत्रों में इंटरनेट कनेक्टिविटी पहुंचाने की स्कीम BharatNet की प्रगति भी कम है.

जियो और एयरटेल जैसी बड़ी टेलीकॉम कंपनियों के बड़े शहरों में अपनी 5G सर्विसेज शुरू करने से शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों के बीच विभाजन स्पष्ट है. मोबाइल सब्सक्राइबर्स के लिहाज से पुरुषों की संख्या महिलाओं से लगभग 30 प्रतिशत अधिक है.

Leave a Reply