चैत्र नवरात्रि में देवी महागौरी कैसे प्रसन्‍न करें, इस आरती से बनेगी कृपा

चैत्र नवरात्रि में देवी महागौरी कैसे प्रसन्‍न करें, इस आरती से बनेगी कृपा

मां दुर्गा के आठवी शक्ति देवी महागौरी की पूजा आज चैत्र नवरात्रि की अष्टमी तिथि पर होगी. देवी महागौरी ने भगवान शिव के लिए कठोर तप किया जिसके कारण इनका शरीर काला हो गया.

तपस्‍या पूर्ण होने के बाद इन्होने गंगा में स्‍नान किया जिससे इनका वर्ण गौर हो गया. जिसके कारण ये महागौरी कहलायी.

देवी महागौरी अमोघ फलदायिनी हैं और भक्तों के पापों का नाश करने वाली है. महागौरी का पूजन-अर्चन, उपासना-आराधना कल्याणकारी है. इनकी कृपा से अलौकिक सिद्धियां भी प्राप्त होती हैं.

महागौरी कैसे प्रसन्‍न करें (mahagauri ko kaise prasanna kare)

जय महागौरी जगत की माया

जय उमा भवानी जय महामाया

हरिद्वार कनखल के पासा

महागौरी तेरा वहा निवास

चंदेर्काली और ममता अम्बे

जय शक्ति जय जय माँ जगदम्बे

भीमा देवी विमला माता

कोशकी देवी जग विखियाता

हिमाचल के घर गोरी रूप तेरा

महाकाली दुर्गा है स्वरूप तेरा

सती ‘सत’ हवं कुंड मै था जलाया

उसी धुएं ने रूप काली बनाया

बना धर्म सिंह जो सवारी मै आया

तो शंकर ने त्रिशूल अपना दिखाया

तभी माँ ने महागौरी नाम पाया

शरण आने वाले का संकट मिटाया

शनिवार को तेरी पूजा जो करता

माँ बिगड़ा हुआ काम उसका सुधरता

‘भक्त ‘ बोलो तो सोच तुम क्या रहे हो

महागौरी माँ तेरी हरदम ही जय हो