निजामुद्दीन की तब्लीगी जमात में शामिल हुए लोगों की यूपी के 19 जिलों में तलाश

by

Lucknow: लॉकडाउन के दौरान दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी मरकज में शामिल कई लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे. उन्हें दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती कराया गया. इनमें यूपी के विभिन्न जिलों से करीब 100 से अधिक लोग है जिन्हें चिन्हित किया गया है.

पुलिस महानिदेशक कार्यालय की ओर से इन जिलों के कप्तानों की सूची जारी कर चिन्हित लोगों से सम्पर्क कर उनका कोरोना वायरस जांच कराने के निर्देश दिए हैं.

इसे भी पढ़ें: निजामुद्दीन बनेगा कोरोना वायरस का नया केन्द्र?

19 जिलों से लोगों ने इस धार्मिक आयोजन में​ शिरकत करने पहुंचे थे

सूची के मुताबिक, मुजफ्फरनगर के सर्वाधिक 28 लोग, लखनऊ के 20 लोगों के अलावा सहारानपुर, मेरठ, शामली, बिजनौर, हापुड़, गाजियाबाद, शामली, बागपत, भदोही, मथुरा, आगरा, सीतापुर बाराबंकी, प्रयागराज, बहराइच,गोण्डा और बलरामपुर 19 जिलों से लोगों ने इस धार्मिक आयोजन में​ शिरकत करने पहुंचे थे.

देश विदेश से भी लोग हजरत निजामुद्दीन मरकज में हुए धार्मिक आयोजन के दौरान संपर्क में आने का शक है. एसपी ने इन सभी लोगों का प्राथमिकता पर मेडिकल जांच कराने का निर्देश दिया है.

विदित हो कि निजामुद्दीन क्षेत्र में आयोजित तब्लीगी जमात में विभिन्न राज्यों से लोग शामिल होने आये थे। इस आयोजन में लोगों को धर्म की शिक्षा देकर इसके प्रचार-प्रसार के लिए देश के अलग-अलग मस्जिदों में भेजा जाता था. मरकज में देश विदेश से करीब 1600 लोग जुटे थे.

लॉकडाउन के बाद भी ये लोग छिपकर मरकज में ही रह रहे थे. इसके बाद जब इसकी सूचना पुलिस को मिली तो करीब 200 लोगों को क्वारंटाइन किया गया.

सोमवार को दिल्ली में 25 मामले पॉजिटिव मिले थे. दिल्ली सरकार ने निजामुद्दीन मरकज के मौलाना के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिये थे.

इसे भी पढ़ें: निजामुद्दीन मरकज से लौटे 6 लोगों की मौत से हिला तेलंगाना

तेलंगाना के छह लोगों की हुई मौत

निजामुद्दीन मरकज में शामिल विदेशियों में कोरोना की पुष्टि होने के बाद तेलंगाना में सोमवार को छह लोगों की मौत हो चुकी है. इन सभी की मौत कोरोना वायरस के संक्रमण से होने की बात सामने आयी थी.

तेलंगाना सरकार के मुताबिक, ये सभी 13 से 15 मार्च के बीच दिल्‍ली के निजामुद्दीन स्थित आयोजित हुए धार्मिक समारोह में हिस्‍सा लिया था.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.