नितिन गडकरी ने लॉन्‍च किया Swadesh Bazzar, कहा- Amazon को देगा टक्कर

New Delhi: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने एक ऑनलाइन पोर्टल ‘स्वदेश बाजार’ (Swadesh Bazzar) लॉन्‍च किया है. मौके पर गडकरी ने कहा कि उन्‍होंने कहा कि स्‍वदेश बाजार अमेजन (Amazon) जैसे ऑनलाइल शॉपिंग पोर्टल को सीधी टक्‍कर देगा.

उन्होंने कहा कि हमारे देश में अच्छा काम करने वाले लोगों की संख्या कम नहीं है. उनका उत्पाद और गुणवत्‍ता बहुत अच्छी होती है, लेकिन उन्हें बाजार नहीं मिलता है. ग्रामीण इलाकों (Rural Areas) में बने अच्‍छे उत्पाद जब किसी ग्राहक तक पहुंचता है तो उसमें कई लोगों का मुनाफा जुड़ने के कारण इसकी कीमत बहुत ज्‍यादा हो जाती है. कई बार ये कीमत इतनी ज्‍यादा हो जाती है कि आम ग्राहक की पहुंच से बाहर हो जाती है. 

उपभोक्‍ताओं को उचित कीमत पर मिलेंगे अच्‍छी गुणवत्‍ता के प्रोडक्‍ट

गडकरी ने कहा कि ऑनलाइन पोर्टल की मदद से एक तरफ ग्रामीण इलाके में बने उत्‍पादों को बाजार मिलेगा. वहीं, दूसरी तरफ आम उपभोक्‍ता को अच्‍छी गुणवत्‍ता के उत्‍पाद उचित कीमत पर उपलब्‍ध होंगे. इस काम में तकनीक की लागत भी बहुत कम होती है. इस दौरान उन्‍होंने कहा कि स्‍वदेश बाजार अमेजन (Amazon) जैसे ऑनलाइल शॉपिंग पोर्टल को सीधी टक्‍कर देगा. उन्‍होंने कहा कि अमेजन भारत के एमएसएमई से प्रोडक्‍ट्स खरीदकर एक्सपोर्ट कर रहा है. इसे उसका टर्नओवर 7,000 करोड़ रुपये सालाना है.

स्‍वदेश बाजार के जरिये अच्‍छी गुणवत्‍ता के उत्‍पादों का कारोबार बढ़ेगा

केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि जो काम अमेजन कर रहा है, उसे हम भी कर सकते हैं. स्वदेश बाजार ऑनलाइन पोर्टल इसी दिशा में काम करेगा. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अपने प्लेटफॉर्म पर क्वालिटी प्रोडक्‍ट को रखकर उसके व्यापार को बढ़ाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि आज देश में ऐसे तमाम महिला स्वयं-सहायता समूह हैं, जो बहुत अच्छा सामान तैयार कर रहे हैं. ऐसे लोगों को बाजार मुहैया हो सकता है. हमारे देश में इनोवेटिव प्रोडेक्ट्स की भी कोई कमी नहीं है.

आयात कम कर निर्यात बढ़ाना ही है आत्‍मनिर्भर भारत की परिकल्‍पना

नितिन गडकरी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत (Aatmanirbhar Bharat) की परिकल्पना यही है कि हमारे यहां आयात कम से कम हो और निर्यात बढ़े. देश से गरीबी दूर करने के लिए हमें रोजगार के नए-नए अवसर पैदा करने होंगे. इसके लिए ग्रामीण क्षेत्रों में वहीं के सामानों से अगर अच्छी क्वालिटी के उत्पाद तैयार होंगे और फिर इन प्रोडक्ट्स को बाजार मिलता है तो गांव के लोग जीवन-यापन के लिए गांव छोड़कर शहर नहीं जाएंगे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.