सूरत से झारखंड के 7 जिलों के 1233 प्रवासी श्रमिकों को लेकर धनबाद पहुंची स्पेशल ट्रैन

by

Dhanbad: गुजरात के सूरत शहर से 04 मई की रात 23.15 बजे 22 बोगियों के साथ चली स्पेशल ट्रेन संख्या 09075 बुधवार, 6 मई, प्रातः 04.35 बजे झारखंड के 7 जिलों के 1233 प्रवासी श्रमिकों को लेकर धनबाद जंक्शन पहुंची.

ट्रेन पहुंचने के एक घंटा पहले डीसी अमित कुमार, एसएसपी अखिलेश बी वारियर, पूर्व मध्य रेल के सीनियर डीसीएम अखिलेश कुमार पांडेय स्वयं मौजूद रहे और स्टेशन पर की गई तैयारियों का जायजा लिया. श्रमिकों के सहयोग एवं मार्गदर्शन के लिए पर्याप्त संख्या में सुरक्षा बल प्लेटफार्म पर तैनात किए गए थे.

झारखंड लौटे प्रवासी श्रमिकों को गुलाब फूल देकर उनका स्वागत किया गया तथा ट्रेन से उतरते ही श्रमिकों को शारीरिक दूरी का पालन करते हुए कतारबद्ध तरीके से स्टेशन से बाहर निकलने का दिशा निर्देश दिए.

प्लेटफार्म से बाहर आने वाले श्रमिकों की सबसे पहले स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा थर्मल स्क्रीनिंग की गई. सेनीटाइजर से हैंड वॉश कराया गया. अंत में अल्पाहार और पानी देकर प्रवासी श्रमिकों को उनके संबंधित जिले की बस में बैठाया गया. इस ट्रेन ने 1775 किमी का सफर 29 घंटे 20 मिनट में तय किया. सूरत से आने वाली ट्रेन से प्रवासी श्रमिकों को सबसे आगे और सबसे पीछे की बोगी से प्लेटफॉर्म पर उतारा गया.

शैक्षणिक नगरी कोटा कथा केरल से आने वाली स्पेशल ट्रेन के विपरीत सूरत से आने वाली ट्रेन में अधिकतर प्रवासी श्रमिक अपने परिवार के साथ झारखंड लौटे. श्रमिकों के साथ उनकी पत्नी एवं छोटे-छोटे बच्चे भी शामिल थे.

सूरत से धनबाद पहुंची ट्रेन में झारखंड के गिरिडीह, देवघर, धनबाद, दुमका, कोडरमा, हजारीबाग तथा रांची जिले के प्रवासी मजदूर शामिल थे. इसमे सर्वाधिक 1157 प्रवासी श्रमिक गिरिडीह के थे. जबकि धनबाद के 2, देवघर के 40, दुमका एवं हजारीबाग के एक – एक, कोडरमा के 5 तथा रांची के 27 प्रवासी श्रमिक थे.

स्टेशन से बाहर निकलने पर सूरत से लौटने वाले मुरली प्रसाद वर्मा, सुजीत कुमार बर्नवाल, संधी देवी, मिना देवी ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन तथा धनबाद जिला प्रशासन के प्रति आभार व्यक्त किया.

उन्होंने कहा कि दो चरण के लॉक डाउन के बाद जब उन्हें जानकारी मिली कि मुख्यमंत्री की पहल पर सूरत में फंसे श्रमिकों के लिए स्पेशल ट्रेन चलाई जाएगी तब उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. सफर में कोई परेशानी नहीं हुई. जिला प्रशासन द्वारा गर्मजोशी से स्वागत करने के लिए आभार व्यक्त किया.

इस मौके पर धनबाद रेलवे स्टेशन पर डीसी अमित कुमार, एसएसपी अखिलेश बी वारियर, उप विकास आयुक्त बाल किशुन मुंडा, सिटी एसपी आर रामकुमार, अपर समाहर्ता आपूर्ति संदीप कुमार दोराईबुरू, अपर समाहर्ता श्याम नारायण राम, अपर जिला दंडाधिकारी विधि व्यवस्था अनिल कुमार, अनुमंडल दंडाधिकारी राज महेश्वरम, पुलिस उपाधीक्षक विधि व्यवस्था मुकेश कुमार, निदेशक जिला ग्रामीण विकास अभिकरण संजय कुमार भगत, जिला आपूर्ति पदाधिकारी भोगेंद्र ठाकुर, जिला योजना पदाधिकारी महेश भगत, एनडीसी अनुज बांडो व अन्य पदाधिकारी मौजूद थे.

रेलवे स्टेशन पर सूरत से आने वाले श्रमिकों की स्वास्थ्य जांच करने के लिए 2 टीम बनाई गई थी. मेडिकल टीम में सिविल सर्जन डॉ. गोपाल दास, डॉ. एसएम जफरुल्लाह, जिला महामारी विशेषज्ञ डॉ. ऋतु राज, डॉ. विजेंद्र, डॉ. अजय नारायण सिंह, डॉ. अमिताभ त्रिगुनायक, डॉ. दीपक प्रकाश, डॉ. प्रियंका श्रीवास्तव, हेल्थ वर्कर प्रिया कुमारी, सरस्वती दास, विनायक मंडल, साबिर अंसारी, सुनील कुमार, एयनुल अंसारी, संजय कुमार, राजेंद्र कुमार, अनूप दास, मोहम्मद चांद तथा नारायण चंद्र शामिल थे.

सूरत से आने वाली स्पेशल ट्रेन को लेकर स्टेशन की सुरक्षा में पूर्व मध्य रेल धनबाद के सीनियर कमांडेंट हेमंत कुमार, असिस्टेंट सीनियर कमांडेंट प्रेमदीप संजय, निरीक्षक अविनाश करोसिया, सब इंस्पेक्टर केएन सिंह, डीएस सिंह व अन्य सुरक्षा कर्मी शामिल थे.

स्पेशल ट्रेन को लेकर पूर्व मध्य रेल के सीआइटी विकास कुमार, एसएन झा, गौरव पांडे, आरके सिंह, रवि मेहता, अमित कुमार, नवीन कुमार, नीरज कुमार, अरूण कुमार, अमितेश कुमार, रंजीत कुमार, एन बाखला, एम के शर्मा तथा अविनाश कुमार ऑन स्पेशल डियूटी तैनात थे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.