सिमरिया में आजसू का चूल्‍हा प्रमुख सम्‍मेलन, सुदेश बोले- आने वाले 60 दिन कड़ी मेहनत और तपस्‍या के

by

Ranchi: आजसू (AJSU) ने सिमरिया विधानसभा (Simaria Vidhansabha chunav) में चुनाव लड़ने की अपनी मजबूत दावेदारी करते हुए चूल्‍हा प्रमुख सम्‍मेलन (Chulha Pramukh Sammelan) आयोजित किया. इसमें पूरे विधानसभा क्षेत्र से 77 पंचायतों और 419 बूथों के 10 हजार चूल्‍हा प्रमुख शामिल हुए. 

मौके पर आजसू प्रमुख सुदेश कुमार महतो (Sudesh Kumar Mahto) ने हर एक साधारण कार्यकर्ता को चूल्हा प्रमुख की जिम्मेदारी दी है. इनमें महिलाएं भी बड़ी तादाद में शामिल हैं.

चूल्‍हा प्रमुख सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने कहा है कि आने वाला साठ दिन तपस्या का है. कड़ी मेहनत की है. जनसाधारण बनकर ही सही इसे जीत जाइए. और राजनीति की परिपाटी बदलने का वाहक बन जाइए. इसके साथ ही दशकों से वोटर भर बने रहने के मिथक तोड़ डालिए.

उन्‍होंने कहा कि गरीब गुरबों के जीवन में आमूलचूल बदलाव के लिए और लोकतंत्र तथा राजनीति में आम लोगों का विश्वास स्थापित करने के लिए राजनीति को अपने हाथों में लेना होगा. चूल्हा प्रमुख इसकी शुरुआत करें, इसकी मुनादी करने हम सिमरिया पहुंचे हैं.

सुदेश कुमार महतो ने कहा कि 27 सितंबर को वे यहां बूथ प्रभारियों के सम्मेलन भी इसी समरिया से प्रारंभ किया था. 18 दिनों बाद चूल्हा प्रमुखों के सम्म्लेल में भाग लेने आए हैं. और हम यह शिद्दत से महसूस कर रहे हैं कि 18 दिनों में ही हवाएं बदली है और संकल्प के सथ तैयारियां आगे बढ़ती जा रही है.

उन्‍होंने कहा कि आगे हम सात ब्लॉक में जाएंगे. आपने हर परिवार से क्या संबंध बनाया है और जनसाधारण के बीच बैठक कर आपने क्या काम किया है उसे भी परखेंगे.

चूल्‍हा प्रमुखों के जरिए 65 हजार वोटरों की बीच पहुंचने की तैयारी

सुदेश कुमार महतो ने कहा, ‘‘दस हजार हजार चूल्हा प्रमुख हमारे लिए सबसे अहम कार्यकर्ता होंगे. चूल्हा प्रमुख को शीर्ष कार्यकर्ता के तौर पर गिना जाएगा. हमने तय कर लिया है कि प्राथमिकता उसे देंगे जिस पर जवाबदेही बड़ी है. पार्टी में बड़ा पदाधिकारी बार-बार मिलेंगे. लेकिन अब आपके महत्व को हमने बड़ा कर दिया है. आपका आईकार्ड जारी होगा. आज आप साधारण कार्यकर्ता बनकर आए हैं, लेकिन यहां से एक शक्ति लेकर जाएं’’.

उन्होंने कहा कि राजनीति में एक आम आदमी को महज वोटर समझा जाता है. मौजूदा राजनीति में नेतृत्व करना जनसाधारण के लिए नहीं रह गया है. परिपाटी बनी है कि राजनीति में साधन संपन्न और जिसके पास लंबा अनुभव और जो बड़ा नाम वाला हो, वही प्रभाली हो सकता है. लेकिन हम इस धारणा को बदलने की कोशिशों के साथ इसे साधारण व्यवस्था में लाए हैं.

चूल्हा प्रमुख यानी आपके माध्यम से विधानसभा क्षेत्र में हर आम लोगों तक पहुंचने और सिमरिया के एक लाख 65 हजार वोटरों के बीच जाने की तैयारी है. एक-एक चूल्हा प्रमुख के उपर 17 वोटरों और चार-पांच चूल्हा का भार रहेगा.

श्री महतो ने कहा जनसाधारण को अब तक ये अनुभव नहीं हो पाया कि शासन प्रशासन में शामिल लोग आपकी सेवा के लिए हैं. आखिर क्यों नहीं हो पाया. शासन का विश्वास आम जनता के बीच स्थापित हो, इस जिम्मेदारी को चूल्हा प्रमुख अपने हाथ में लें.  

सुदेश कुमार महतो ने कहा कि ये मुहिम एक-दो दिन के लिए नहीं है. चूल्हा प्रमुखों का मकसद सिर्फ विधायक बनाना नहीं है. आपका काम हर उस परिवार के जीवन में आमूलचूल परिवर्तन लाना है. साधारण परिवार के मत को विश्वास में बदलना है. लोकतंत्र और राजनीति में लोगों का विश्वास हो. यह कर दिखाना है. मनोज चंद्रा आपकी अगुवाई कर रहे हैं. तो उनके हाथों को मजबूत कीजिए वे किसी का भी भरोसा नहीं तोड़ेंगे.

सम्मेलन में मनोज चंद्रा, देवशरण भगत, रोशन लाल चौधरी, विकास राणा, नजरूल हसन हाशमी समेत पार्टी के कई पदाधिकारी मौजूद थे.  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.