रांची के 62 साल पुराने सेवा सदन अस्‍पताल पर चलेगा बुलडोजर, नए मरीजों के भर्ती पर रोक का आदेश

by

Ranchi: रांची का नागरमल मोदी सेवा सदन (Nagarmal Modi Seva Sadan Ranchi) टूटने वाला है. यह रांची का 62 साल पुराना अस्‍पताल है. रांची नगर निगम (Ranchi Municipal Corporation) की ओर से शहर के इस पुराने अस्‍पताल को तोड़ने का आदेश दे दिया गया है. इस आदेश में अस्‍पताल प्रबंधन (Seva Sadan Managment) को नए मरीजों को भर्ती करने पर रोक लगाने को कहा गया है.

नागरमल मोदी सेवा सदन की स्‍थापना 62 साल पहले 31 अगस्‍त को जनसहयोग से किया गया था. अब इस पर नगर निगम का बुलडोजर चलेगा. रांची शहर के इस पुराने अस्‍पताल को तोड़ा जाएगा. रांची नगर निगम के नगर आयुक्‍त ने इसके लिए आदेश जारी कर दिए हैं.

सेवा सदन के तोड़ने के आदेश में नगर आयुक्‍त के कोर्ट ने कहा है कि अस्‍पताल की इमारत 15 दिनों के अंदर टूटेगी. इसलिए यहां अब नए मरीजों को भर्ती नहीं करें, ताकि 15 दिनों में अस्‍पताल को तोड़ा जा सके.

नगर निगम के नगर आयुक्‍त मुकेश कुमार की कोर्ट ने नागरमल मोदी सेवा सदन पर बड़ा फैसला सुनाया है. अपने फैसले में कोर्ट ने कहा है कि अगले 15 दिनों में अस्‍पताल को तोड़ दिया जाएगा. फैसले में कहा गया है कि आदेश के बाद भी सेवा सदन का प्रबंधन अस्‍पताल भवन का नक्‍शा पेश नहीं कर पाया है. इसके लिए नगर आयुक्‍त की कोर्ट ने सेवा सदन अस्‍पताल पर 5 लाख 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है.

रांची नगर निगम के आयुक्‍त के कोर्ट ने हरमू पुल के समीप स्थित ट्रू वैल्‍यू को भी तोड़ने का आदेश दिया है. अपने फैसले में कोर्ट ने कहा है कि ट्रू वैल्‍यू हरमू नदी के 15 मीटर के दायरे के अंदर आता है.

नागरमल सेवा सदन अस्‍पताल के बारे में

नागरमल सेवा सदन को रांची में 62 साल पहले 31 अगस्‍त को आरंभ किया गया. इसकी शुरूआत जनसहयोग से हुआ. यह आरंभ में खपरेल के मकान पर चलता था. तब यहां सिर्फ पांच बिस्‍तरों की सुविधा थी.

आज के समय में सेवा सदन अस्‍पताल में 200 बेड हैं. यह एक सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल की तरह काम कर रहा है. अस्‍पताल में आठ आईसीयू, सीसीयू, एससीयू, आरआईसी और एनआईसीयू हैं. यहां डिजिटल एक्सरे, पैथोलॉजी, डायलिसिस और फिजियोथेरेपी सहित अन्य सुविधाएं हैं. 60 स्‍पेशलिस्‍ट डॉक्‍टर सहित 400 स्थाई और 150 अन्य स्टाफ अपना योगदान दे रहे हैं. अस्‍पताल में तीन एंबुलेंस हैं.

नागरमल मोदी सेवा सदन में ब्लड बैंक की विशेष सुविधा है, जो आधुनिक मशीनों-यंत्रों से सज्जित है. तीन लिफ्ट के साथ आक्सीजन गैस की पाइप लाइन सभी ओटी एवं यूनिटों से जुड़ी हुई है. गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों का टीकाकरण यहां नि:शुल्क किया जाता है. गरीबी रखा से नीचे जीवन-बसर कर रहे लोगों, टाना भगतों, मीडिया कर्मियों, पूर्व सैनिकों की चिकित्सा यहां नि:शुल्क की जाती है.

सेवा सदन रांची में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को छूट देने का प्रावधान है. अंतर्राष्ट्रीय स्तर की चिकित्सा-सुविधा को जन सामान्य तक पहुंचाने के लिए यहां समय-समय पर विश्व प्रसिद्ध विशेषज्ञों के सहयोग से विभिन्न कार्यशालाओं का आयोजन भी किया जाता है.

यह अस्‍पताल प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी एवं समाज सुधारक स्व नागरमलजी मोदी की पुण्य स्मृति में संचालित है. नगरमल जी एक निर्दोष साधक थे. रांची में एक मातृ चिकित्सा-गृह स्थापित करने के संबंध में नागरमल जी की हार्दिक इच्छा बहुत वर्षो से थी, लेकिन उसे अपनी व्यस्तता के वजह से कार्यान्वित नहीं कर पा रहे थे. इस बीच वे दो बार विधायक भी रहे. स्वतंत्रता आंदोलन में भागीदारी करने के कारण वर्षो जेल में कैद भी रहे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.