रोहित बख्शी -&tv के ‘मैं भी अर्धांगिनी-अद्भुद मायावी दुनिया’ में एक नये खलनायक के रूप में आयेंगे नज़र

by

टेलीविजन की दुनिया के सबसे बडेा बैड बाॅय, रोहित बख्शी ने कई चर्चित डेली सोप्स में कुछ नकारात्मक भूमिकाएं निभायी हैं। अब वह -ज्ट के शो ‘मैं भी अर्धांगिनी-अद्भुद मायावी दुनिया’ में बड़े ही नाटकीय रूप से एंट्री करने को तैयार हैं। इस सुपरनैचुरल ड्रामा की कहानी में हाल में बदलाव होते हुए देखा गया है, जहां रोहित एक बार फिर एक नकारात्मक भूमिका निभाते नज़र आयेंगे। विक्रांत की भूमिका एक अमर जीव की है, जोकि अलग-अलग सुपरनैचुरल रूपों में एक अमर जिंदगी जी रहा है। महामाया (दीपशिखा नागपाल) के सफलतापूर्वक अंत होने के बाद, विक्रांत की एंट्री होगी। अब उसकी नज़रें तीन चीजों पर टिकी है- जो उसे अमर और ताकतवर बनायेगा। इन शक्तियों को पाने का एकमात्र तरीका है, भुजंग (मीर अली), मोहिनी (हीना परमार) और अधिराज (अंकित राज) को मात देना।

उसी लगन और उत्सुकता के साथ वह एक और नये किरदार के सफर को शुरू करने जा रहे हैं, जितना उन्होंने पहले के किरदार को निभाया है। रोहित जल्द ही इस शो की शूटिंग के लिये जयपुर को अपना ठिकाना बनाने वाले हैं। उन्होंने अपनी आधी जिंदगी मुंबई में ही बितायी है और इस शहर से उनका एक खास रिश्ता है, लेकिन उन्हें नये-नये शहरों में जाना अच्छा लगता है और मुंबई की तेज रफ्तार जिंदगी से ब्रेक लेने का। इस फैसले के बारे में बारे में बताते हुए, रोहित कहते हैं, ‘‘जब से मैं मुंबई आया हूं मेरी जिंदगी मेरे घर और उसके आस-पास के इलाकों तक सीमित रह गयी है। मैं पिछले 18 सालों से इस शहर में अकेले रह रहा हूं और मैं यहां से निकलने का बेसब्री से इंतजार कर रहा था। मुंबई के लिये मेरा एक अलग सा लगाव है, लेकिन कई बार आपको वाकई बदलाव की जरूरत महसूस होती है और मुझे ऐसा लगता है कि जयपुर एक बहुत ही अच्छा बदलाव होने वाला है। शूटिंग के अलावा, मैंने अपने खाली समय में इस गुलाबी शहर और यहां की संस्कृति को जानने का प्लान बनाया है। मैंने दाल बाटी चूरमा, गट्टे की सब्जी और कचैरी जैसे राजस्थानी पकवानों के बारे में काफी कुछ सुना है और ये चीजें मेरी लिस्ट की अगली चीजों में शामिल हैं।’’

एक और नकारात्मक किरदार निभाने के बारे में बात करते हुए, रोहित कहते हैं, ‘‘आज के दौर में यह जरूरी नहीं है कि यदि आपका किरदार पसंद किया गया, लोगों ने आप पर गौर किया हो, तो शो भी हिट हो। मुझे नकारात्मक भूमिकाएं निभाना अच्छा लगता है क्योंकि उसमें हमेशा कुछ ना कुछ नया और चुनौतीपूर्ण करने को मिलता है। साथ ही, मुझे ऐसा लगता है कि शायद मैं इसे बहुत अच्छी तरह निभा रहा हूं इसलिये लोग मुझे नकारात्मक भूमिकांए दे रहे हैं। दर्शकों को इस शो में मेरा एक नया रूप देखने का मौका मिलेगा। लेकिन मैं जल्द ही एक अच्छा और सशक्त किरदार निभाना चाहता हूं।’’

बने रहिये, ‘मैं भी अर्धांगिनी’ के साथ हर सोमवार से शुक्रवार, रात 9.30 बजे केवल -ज्ट पर

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.