दिल्‍ली पुलिस ने साइबर ठगी मामले में जामताड़ा के रॉकस्‍टार गैंग का किया खुलासा

by

New Delhi: दिल्ली पुलिस के साइबर सेल ने झारखंड के जामताड़ा में छापेमारी की. इस दौरान साइबर सेल ने 14 लोगों को गिरफ्तार किया है. इस तरह साइबर ठगी करने वाले पूरे गिरोह का खुलासा हुआ है. मौके से गिरोह के सरदार को भी दिल्‍ली पुलिस ने धर दबोचा है. बताया जाता है कि इसके पास जामताड़ा में करोड़ों रुपये की संपत्ति और गाड़ियां मौजूद हैं.

झारखंड का जामताड़ा साइबर ठगी के लिए पूरे देश में बदलनाम है. अब तो इसके साइबर अपराध के काले कारनामे विदेशों में भी कुख्‍यात हैं. पिछले कई दिनों से दिल्ली पुलिस का साइबर सेल ऑपरेशन प्रहार के तहत ऑनलाइन ठगी के इस नेटवर्क का पीछा कर रहा था. इसी ऑपरेशन के चलते साइबर सेल की टीम ने झारखंड के जामताड़ा में करीब एक हफ्ते तक डेरा डाले रही. और इसी दौरान इस टीम ने एक बाद एक 14 शातिर साइबर अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया.

Read Also  तिरंगा झंडा लगाते हाईवोल्टेज तार की चपेट में आने से 3 की मौत

इस गैंग का मास्टरमाइंड अल्ताफ है. वह “रॉकस्टार” के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि उसे साइबर ठगी में महारत हासिल है. अल्ताफ के गैंग में दर्जनों लोग हैं और हर किसी का अलग अलग काम है. इस गैंग में सभी को अपने काम में महारत हासिल है.

दिल्ली पुलिस साइबर सेल के डीसीपी अनियेश रॉय के मुताबिक इस गैंग के लोग यूपीआई पेमेंट करने के नाम पर, केवाईसी अपग्रेड करने के नाम पर या फिर अलग-अलग बैंक केफर्ज़ी एप और साइट्स बनाकर ठगी करते हैं.

ये लोग एप के या बैंक के फ़र्ज़ी लिंक ग्राहकों को भेजते हैं और फिर ऑनलाइन ठगी करते हैं. अभी तक ये करोड़ो की ठगी कर चुके हैं. इस गैंग के पकड़े जाने से 9 राज्यों में साइबर ठगी के 36 केस सुलझे हैं. जिसमें कुल मिलाकर 1.2 करोड़ रुपये की ठगी की गई थी.

Read Also  Guruji Student Credit Card से बिना गारंटर 10 लाख तक Education Loan

डीसीपी अनियेश रॉय ने बताया कि इस गैंग का एक मेम्बर हर रोज कम से कम 40 लोगों को कॉल करता था. जिसमें 4-5 लोग फंस जाते थे. इसके अलावा इन 14 लोगों में एक आरोपी मास्टर जी उर्फ गुलाम अंसारी है, जो फ़र्ज़ी वेबसाइट बनाने में माहिर है.

वो फेक वेबसाइट को गूगल एड के जरिये पुश करता था. अल्ताफ इस काम के लिए हर रोज मास्टर जी को 40-50 हज़ार रुपये देता था. इस गैंग के लोग पुलिस से बचने के लिए छोटे-छोटे मॉड्यूल में काम कर रहे थे.

ये लोग ग़ाज़ियाबाद के लोनी, कलकत्ता और लखनऊ से भी काम कर रहे थे. पुलिस ने इनके 400 फोन नंबर भी ब्लॉक करवा दिए हैं. गिरफ्तारी के वक्त अल्ताफ कार में बैठकर बंगाल भागने की कोशिश कर रहा था. पुलिस ने 100 किलोमीटर तक उसका पीछा किया और उसे पकड़ लिया.

Read Also  तिरंगा झंडा लगाते हाईवोल्टेज तार की चपेट में आने से 3 की मौत

ठगी के पैसे से अल्ताफ ने जामताड़ा में 2 करोड़ रुपये की कीमत का घर और लाखों रुपये की गाड़ियां खरीदी हैं, जो पुलिस ने जब्त कर ली हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.