ऋचा भारती ने कहा- कुरान बांटना मुझे मंजूर नहीं

by

Ranchi: रांची की ऋचा भारती उर्फ रिचा पटेल के बारे में ट्विटर समेत कई सोशल मीडिया पर टॉप ट्रेंड कर रही है. दरअसल ऋचा को रांची की एक अदालत ने 15 दिन में पांच कुरान बांटने की सजा सुनाई है. इनका गुनाह सिर्फ इतना था कि कुछ दिन पहले उन्‍होंने सोशल मीडिया में मुस्लिम अल्‍पसंख्‍यकों को लेकर अपने फेसबुक वॉल पर एक पोस्‍ट किया था. इस पर कुछ मुस्लिम लोगों ने आपत्ति दर्ज करते हुए एफआईआर कर दिया. उसके बाद पुलिस ने ऋचा को हिरासत में ले लिया और जेल भेज दिया. कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई करते हुए 15 दिनों में 5 कुरान बांटने की सजा सुनाई.

इस खबर को रांची से प्रकाशित होने वाली सभी प्रमुख अखबारों ने प्रकाशित किया. इसके बार सभी ऋचा को कोर्ट से मिली सजा पर सोशल मीडिया पर चर्चा कर रहे हैं. ट्विटर पर ऋचा पाठक टॉप ट्रेंड कर रही है.

इधर ऋचा ने कोर्ट के 5 कुरान बांटने की सजा को मानने से इनकार कर दिया है. एक टीवी चैनल से बात करते हुए उन्‍होंने कहा कि मैंने कोई गलत पोस्‍ट नहीं किया था. इससे भी आपत्तिजनक पोस्‍ट मुस्लिम समुदाय की ओर से की जाती है. लेकिन, कभी भी किसी मुस्लिम को क्‍यों नहीं रामायण, गीता पाठ करने की सजा सुनाई जाती है. अल्‍पसंख्‍यक बता कर उनके साथ हमेशा नरमी बरती जाती है.

ऋचा ने कहा हम ऊपरी अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे. ऋचा पटेल से जब यह पूछा गया कि कोर्ट ने उन्हें इसी शर्त पर जमानत दी है. इसके जवाब में ऋचा ने कहा कि नहीं, मैं कोर्ट का आदेश नहीं मानने जा रही हूं. आज मुझे कुरान बांटने के लिए बोल रहे हैं, कल बोलेंगे इस्लाम स्वीकार कर लो, नमाज पढ़ लो, कुछ और कर लो. यह कहां तक जायज है.

बता दें कि सोशल साइट पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने को लेकर 12 जुलाई को सदर अंजुमन कमेटी, पिठोरिया द्वारा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी. शिकायतकर्ता की ओर से कहा गया कि पिछले तीन दिनों से ऋचा फेसबुक साइट पर धर्म विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी कर रही है. इसे प्रचारित कर रही है. इससे क्षेत्र में कभी भी धार्मिक भावना भड़क सकती है. प्राथमिकी दर्ज होने के तीन घंटे के भीतर ऋचा भारती को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. वहीं, जेल भेजे जाने के बाद लगातार हिंदू संगठनों द्वारा धरना-प्रदर्शन किया जा रहा था. लोगों ने पिठोरिया बंद भी बुलाया था.

सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की अदालत में इस पर सुनवाई हुई. कोर्ट ने उसे अनोखी सजा सुनाते हुए सशर्त जमानत दी. जज ने कहा, आरोपित को 15 दिनों के अंदर पांच कुरान बांटना होगा. अगर इसकी अवहेलना की गई तो जमानत रद हो सकती है. सात हजार के दो निजी बांड जमा करने के बाद सोमवार को ऋचा जेल से बाहर आ गई.

आदेश के मुताबिक कुरान की एक प्रति शिकायतकर्ता सदर अंजुमन कमेटी, पिठोरिया एवं अन्य चार प्रति रांची के सरकारी विश्वविद्यालय या कॉलेज या स्कूलों में बांटनी होगी. कुरान की प्रति बांटने के दौरान रांची पुलिस को उचित सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया गया. साथ ही, अदालत ने यह भी आदेश दिया कि दो में एक जमानतदार आरोपित के करीबी रिश्तेदार बनें.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.