रांची के रंजीत ने बनाया हांगकांग की रोबोट सोफिया से बेहतर ह्यूमनॉयड रोबोट

#Ranchi: रांची के रंजीत श्रीवास्‍तव हांगकांग की रोबोट सोफिया से बढ़कर रोबोट तैयार की है. रश्मि नाम की यह रोबोट यह अंग्रेजी और हिंदी के साथ कई क्षेत्रीय भाषाओं में बातचीत करने में माहिर है. रोबोट रश्मि भोजपुरी ओर मराठी में पूछे गये सवालों का जवाब उसी भाषा में देती है. साथ ही साथ वह इंसानों की तरह हाव-भाव भी करती है. साथ ही वह चेहरों को पहचानने में माहिर है.

यह ह्यूमनॉयड रोबोट लिप सिंकिंग कर सकती है और बात करते वक्त चेहरे, आंखों, लिप्स और आईब्रो को हिला भी सकती है. साथ ही गर्दन घुमाकर इशारे भी कर सकती है.

Read Also  36th national games 2022 उद्घाटन समारोह में पीएम के सामने बिना ब्‍लेजर मार्च पास्‍ट करेगी झारखंड टीम

रंजीन ने बताया कि रश्मि के सिस्टम में हियरिंग डिवाइस और आंखों में कैमरा लगा है. साथ ही यह लिप मूवमेंट भी ऑब्जर्व करती है, जिससे वह एक-दो मुलाकातों के बाद किसी को भी आसानी से पहचान लेती है. वे कहते हैं कि अगर रश्मि किसी को पहचान ले तो वह उसके साथ घंटों तक बात कर सकती है.

रंजीत श्रीवास्‍तव ने बताया कि सोफिया की तरह ही रश्मि एक ह्यूमनॉयड रोबोट है जो आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, लिंग्युस्टिक इंटरप्रिटेशन, विजुअल डाटा और फेशियल रिकगनिशन सिस्टम का इस्तेमाल करती है. रश्मि लगभग 60 फीसदी बनकर तैयार हो चुकी है. रोबोट रश्मि के हाथ-पांव और शरीर के दूसरे अंग भी लगेंगे.

राबोट रश्मि को बनाने में खर्च हुए 50 हजार रुपये

मैनेजमेंट ग्रेजुएट रंजीत श्रीवास्तव ने बताया कि उन्हें रश्मि को बनाने में दो साल का समय लग गया. इस काम में अब तक करीब 50 हजार रुपए का खर्च हो चुके हैं. उन्हें उम्मीद है कि अगले एक महीने में यह पूरी तरह तैयार हो जाएगा.

Read Also  36th national games 2022 उद्घाटन समारोह में पीएम के सामने बिना ब्‍लेजर मार्च पास्‍ट करेगी झारखंड टीम

कौन है ह्यूमनॉएड रोबोट सोफिया

सोफिया को बनाने वाले डेविड हैनसन ने बताया था कि सोफिया ह्यूमनॉएड रोबोटिक्स हार्डवेयर, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सॉफ्टवेयर, आर्टिफिशियल स्किन मैटेरियल और आवाज पहचानने वाले सॉफ्टवेयर का मिश्रण है. सोफिया चेहरे की 48 मसल्स को मूव कर सकती है. सोफिया न सिर्फ चेहरे पर आने वाली भावनाएं अच्छी तरह पहचान सकती है, बल्कि यह किसी के भी साथ बातचीत कर सकती है. इस साल की शुरुआत में सोफिया भारत भी आई थी. आर्टिफिशियल इंजेलिजेंस को बढ़ावा देने के लिए सऊदी अरब ने सोफिया को नागरिकता दी है.

भारत की रश्मि भी कम नहीं

रंजीत कहते हैं, “ह्यूमनॉयड रोबोट हमारे भविष्य की जरूरत हैं. यह आने वाले वक्त में रिसेपशनिस्ट, हेल्पर, अकेले इंसान का दोस्त बनने के काम आएगी. वे बताते हैं कि रश्मि से कोई भी सवाल पूछा जाए तो वह उसका जवाब सेंस ऑफ ह्युमर के साथ देगी. मसलन अगर रश्मि से कहा जाए, ‘तुम बुरी दिखती हो’ तो जवाब में वह कहेगी ‘भाड़ में जाओ’. वहीं अगर उसकी तारीफ में कहा जाए, ‘तुम खुबसूरत हो’ तो जवाब में वह ‘शुक्रिया’ कहेगी. रश्मि से जब उसके पसंदीदा हीरो के बारे पूछा गया, तो उसने जवाब दिया शाहरुख खान.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.