दिल्‍ली के बाजार में फिर बिकी रांची की नाबालिग, दाम लगा 50 हजार

by

Ranchi: मांडर की एक नाबालिग को उसके ही गांव के एक नाबालिग ने 50 हजार रुपये में दिल्‍ली ले जाकर बेच दिया. इसकी एफआईआर नाबालिग के पिता ने बुधवार 3 जुलाई 2019 को कोतवाली थाना स्थित एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट रांची में दर्ज कराई गई है.

नाबालिग के पिता काली उरांव किसान हैं. उन्‍होंने बताया कि गांव का ही एक नाबालिग आकाश उरांव उनकी बेटी को तीन अप्रैल को पतरा टोली से बहला-फुसला कर ले गया और उसे दिल्‍ली के लक्ष्‍मीनगर में बेच दिया.

पिछले दिनों काली आकाश ने काली उरांव को दिल्‍ली से फोन किया और कहा कि उनकी बेटी एक साल के बाद वापास आएगी. आकाश ने जिस फोन नंबर से बात की थी उसे काली उरांव ने पुलिस को उपलब्‍ध कराया है.

Read Also  झारखंड में अब अपराध से जुड़े सुराग और सबूतों की ऑन द स्‍पॉट होगी जांच

उन्‍होंने बताया कि वे कई बार मांडर थाना गए. लेकिन इसपर कोई कार्रवाई नहीं हुई. जिसके बाद उन्‍होंने एएचटीयू में आकर प्राथमिकी करायी है.

बहन बता नाबालिग को बेच दिया

नाबालिग लड़की के पिता काली उरांव ने कहा कि आकाश उरांव ने उन्‍हें धमकी दी कि मांडर थाना उसकी शिकायत करने जाओगे तो मेरा कुछ नहीं होगा. क्‍योंकि मांडर थाना में मेरा दादू है.

काली उरांव ने पुलिस को यह भी बताया कि आकाश ने नाबालिग को अपनी बहन बताकर 50 हजार रुपये में बेच दिया.

मामला दर्ज होने के बाद कोतवाली थानेदार ने इसकी जांच शुरु कर दी है. मामले की जांच के लिए मांडर थाना को भी पत्र भेज दिया गया है.

Read Also  झारखंड में अब अपराध से जुड़े सुराग और सबूतों की ऑन द स्‍पॉट होगी जांच

नाबालिग के पिता काली उरांव ने बताया कि उनकी बेटी मांडर के ही स्‍कूल में पढ़ाई कर रही थी. उसके गायब होने से पूरा परिवार परेशान है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.