Take a fresh look at your lifestyle.

रामचंद्र चंद्रवंशी समेत पूर्व मंत्रियों पर कानूनी कार्रवाई करेगी हेमंत सरकार: झामुमो

0 28

Ranchi: पूर्व के रघुवर सरकार के घोटालेबाज मंत्रियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की तैयारी हेमंत सरकार कर रही है. यह जानकारी झारखंड मुक्ति मोर्चा के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने दी है. एक प्रेस बयान जारी कर झामुमो महासचिव ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के संज्ञान में सभी तरह के लूट को सामने लाया जाएगा और सभी तरह के भ्रष्टाचार की जांच करवा कर जिम्मेवार सभी व्यक्ति चाहे वह मंत्री हो या संत्री हो सभी पर उचित कानूनी कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी.

झामुमो महासचिव ने अपने बयान में कहा है कि पिछले 5 सालों में डबल इंजन किस प्रकार डबल स्पीड से लाखों करोड़ों रुपए के गबन में व्यस्त रहे. 5 सालों तक भ्रष्टाचार मुक्त बेदाग सरकार चलाने की पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास की दावे की पोल महालेखाकार के एक फोकस जांचने खोल कर रख दी. जो यह बताने के लिए काफी है कि पिछले 5 सालों में स्वास्थ्य विभाग में अरबों रुपए के घोटाले और गबन हुए हैं.

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा है कि महालेखाकार के स्वास्थ्य विभाग के रिम्स स्थित डेंटल कॉलेज के मात्र 3 उपकरणों की फोकस जांच में यह पाया गया कि 2 लाख मूल्य में मिलने वाली डेंटल चेयर जिसकी संख्या 110 है उसे प्रति क्विंटल शेयर ₹14 लाख में खरीदी गई ₹5 लाख मूल्य के एडवांस डेंटल चेयर जिसकी संख्या 25 है को प्रति शेयर ₹42 लाख में खरीदी गई. लगभग 35 लाख रुपए लागत के मूल्य वाली मोबाइल डेंटल वन की खरीद लगभग डेढ़ करोड़ रुपए में की गई. यानी मात्र 3 उपकरणों में 23 करोड़ रुपए से भी ज्यादा के घोटाले हुए.

झामुमो महासचिव ने कहा की यह तो एक उदाहरण है रिम्स में ही वो ओटी निर्माण से लेकर अन्य चिकित्सा उपकरणों की खरीद में भी पिछले 5 सालों में लाखों करोड़ों की लूट की गई. केवल स्वास्थ्य विभाग के 5 सालों में पूरे राज्य में लाखों करोड़ों रुपए गबन कर लिए गए. स्वास्थ्य विभाग के लूट से ही तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री ने अपने नाम पर कई शैक्षणिक संस्थाओं के भव्य इमारतें बनवाई. स्वास्थ्य विभाग में लूट की छूट तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास के द्वारा दी गई थी.

सुप्रियो भट्टाचार्य ने अपने प्रेस बयान में कहा है कि पिछले 5 सालों में डबल इंजन किस प्रकार डबल स्पीड से लाखों करोड़ों रुपए के गबन में व्यस्त रहें. सिर्फ एक संस्था में यदि इस प्रकार की लूट हुई हो तो समझा जा सकता है कि राज्य के सभी विभागों में तत्कालीन मुख्यमंत्री के संरक्षण में किस प्रकार की लूट मची होगी.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.