राम जेठमलानी नहीं रहे, राजीव, इंदिरा, लालू, शाह जैसे कईयों के केस लड़े

New Delhi: भारत के पूर्व मंत्री और दिग्गज वकीलों में से एक राम जेठमलानी का निधन हो गया है. उनका निधन 8 सितंबर 2019 को रविवार की सुबह हुआ. वह 95 साल के थे. राम जेठमलानी की खबर से शोक की लहर दौड़ पड़ी.

उनके बेटे महेश जेठमलानी ने बताया कि जेठमलानी ने दिल्ली में अपने आधिकारिक आवास में सुबह पौने आठ बजे अंतिम सांस ली. महेश और उनके अन्य निकट संबंधियों ने बताया कि उनकी तबियत कुछ महीनों से ठीक नहीं थी.

महेश जेठमलानी ने बताया कि उनके पिता राम जेठमलानी का अंतिम सरकार यहां लोधी रोड स्थित शवदाहगृह में शाम को किया जाएगा. बता दें कि राम जेठमलानी देश के सबसे बड़े वकीलों में गिने जाते थे. उन्होंने अपने जीवन में कई बड़े केस लड़े और जीते थे.

Read Also  रांची में हनुमान मंदिर घुसकर मूर्ति तोड़ी, पुलिस ने बिना जांचे आरोपी रमीज को बताया विक्षिप्‍त

राम जेठमलानी के लिए शोक संदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी के निधन पर दुख जताया. उन्होंने ट्वीट किया कि आपातकाल के काले दिनों के दौरान, सार्वजनिक स्वतंत्रता के लिए उनकी लड़ाई को हमेशा याद किया जाएगा. जरूरतमंदों की मदद करना उनके व्यक्तित्व का एक अभिन्न हिस्सा था.

गृह मंत्री अमित शाह ने उनके आवास पर जाकर श्रद्धांजलि दी. अमित शाह ने अपने ट्विटर वॉल पर लिखा कि दिग्गज वकील और पूर्व केंद्रीय मंत्री जेठमलानी के निधन की खबर सुनकर दुखी हूं. हमने सिर्फ एक प्रतिष्ठित वकील ही नहीं बल्कि एक महान इंसान को भी खो दिया.

Read Also  36th national games 2022 उद्घाटन समारोह में पीएम के सामने बिना ब्‍लेजर मार्च पास्‍ट करेगी झारखंड टीम

इधर , दिल्ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी जेठमलानी के निधन पर शोक व्यक्त किया है. उन्होंने ट्वीट किया कि वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी के निधन से दुखी हूं. कानूनी इतिहास में उनका नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा.

राम जेठमलानी का जीवन परिचय

जेठमलानी दिग्गज वकील होने के साथ-साथ केंद्रीय कानून मंत्री भी रह चुके हैं. वह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में कानून मंत्री थे.

Read Also  रांची में हनुमान मंदिर घुसकर मूर्ति तोड़ी, पुलिस ने बिना जांचे आरोपी रमीज को बताया विक्षिप्‍त

राम जेठमलानी का जन्म 14 सितंबर 1923 को पाकिस्तान के सिंध प्रांत में स्थित शिकारपुर में हुआ था. इनका पूरा नाम राम बूलचंद जेठमलानी था.

जेठमलानी ने ट्रायल कोर्ट, हाई कोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट में कई बड़े केस लड़े थे और अपना लोहा मनवाया था. पूर्व कानून मंत्री जेठमलानी का पहला सबसे चर्चित केस 1959 में आया, जब वे केएम नानावती बनाम महाराष्ट्र राज्य केस में वकील थे.

राम जेठमलानी ने राजीव, इंदिरा, लालू, शाह जैसे कईयों के केस लड़े

उन्होंने राजीव गांधी और इंदिरा गांधी की हत्या के आरोपियों से लेकर चारा घोटाला मामले में आरोपी लालू प्रसाद यादव तक का केस लड़ा था. इसके अलावा वह संसद पर हमले के मामले में दोषी साबित हुए अफजल गुरु से लेकर सोहराबुद्दीन एनकाउंटर में अमित शाह तक का केस भी लड़ चुके थे.

राम जेठमलानी भारतीय जनता पार्टी के सदस्य रह चुके हैं और 2016 में उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल का दामन थाम लिया था. फिलहाव वह RJD से ही सांसद थे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.