राजनाथ बोले गांवों के विकास के ही होगा पत्‍थलगड़ी और नक्‍सल का समाधान

by

#रांची : झारखंड मंत्रालय में शुक्रवार को नक्सल और पिछड़े जिलों की समीक्षा बैठक के बाद केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि नक्सली हथियार छोड़ें, सरकार बातचीत को तैयार है। पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि हमलोग सुरक्षाबलों द्वारा नक्सलियों का खात्मा करने के पक्षधर नहीं हैं। नक्सलियों को मुख्य धारा में लाना सरकार का मकसद है।

रघुवर दास की सरकार की  जितनी प्रशंसा की जाये कम है

बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह  ने रघुवर सरकार की पीठ थपथपायी। उन्‍होंने कहा कि झारखंड सरकार काफी अच्छा काम कर रही  है। नक्सल समस्या के मामले में राज्य सरकार का काम देश में बेहतरीन  है। काफी कम समय में उम्मीद से ज्यादा सफलता प्राप्त की गयी है। गृह मंत्री  होने के नाते गौरव का भाव मन में आता है। इसके लिए रघुवर दास की सरकार की  जितनी प्रशंसा की जाये कम है।

Read Also  #InternationalDayOfYoga : कोरोना संक्रमण के बीच योग के लिए उत्‍साह

उन्होंने कहा कि राज्य पुलिस विशेष तौर पर  बधाई के पात्र है। राज्य सरकार ने सीआरपीएफ के लिए जो आधारभूत संरचना  उपलब्ध करायी है, वह श्रेष्ठ है। इन सब चीजों से दिखता है कि राज्य सरकार  नक्सल समस्या को समाप्त करने के लिए कितनी गंभीर है। बैठक में उन्होंने सूचना तंत्र के मामले में राज्य में एडवांस तकनीक का इस्तेमाल  करने की सलाह दी, कहा : इससे काम में तेजी आयेगी। केंद्र सरकार हर संभव  सहयोग करेगी।

 उग्रवाद के आर्थिक तंत्र पर बड़ी कार्रवाई

नार्थ इस्ट में चार साल में उग्रवाद खत्म हो गया। नक्सल  घटनाओं में भी चार सालों में काफी कमी आयी है। उग्रवादियों के आर्थिक तंत्र पर हो रहा सख्त प्रहार: एक  सवाल के जवाब में केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि नक्सलियों और उग्रवादियों  के आर्थिक तंत्र पर सुरक्षा एजेंसियां सख्त कार्रवाई कर रही हैं। यह  सिलसिला आगे भी जारी रहेगा।

Read Also  झारखंड में पहाड़िया जनजाति के दरवाजे पर विकास की दस्तक

सभी पुलिसकर्मियों का होगा बीमा

पहले नक्सल प्रभावित जिलों में तैनात पुलिस बलों का ही जीवन बीमा कराया जाता था। लेकिन अब प्रदेश के सभी जिलों के पुलिसकर्मियों का बीमा कराया जायेगा। इस पर केंद्र की मंजूरी मिल गयी है।

कश्मीर पर बोले

कश्मीर पर गृहमंत्री ने कहा कि सीज फायर का कोई  प्रस्ताव वहां की राज्य सरकार ने नहीं भेजा है। वहां की सरकार प्रस्ताव  भेजेगी, तो विचार किया जायेगा। पत्थरबाजी में कश्मीर में पर्यटक की मौत पर  गृहमंत्री ने कहा कि इससे वहां के लोग दुखी हैं। कुछ लोग हैं, जो माहौल को  खराब करना चाहते हैं। लेकिन उनके मंसूबे हो पूरा होने नहीं दिया जायेगा।  उन्होंने कहा कि अमरनाथ यात्रियों की पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की जायेगी।  इसके लिए एहतियाती कदम उठाये गये हैं।

Read Also  Modi 2.0: 7 राज्यों की विधानसभा चुनाव के पहले कैबिनेट में बड़े बदलाव की तैयारी

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.