रघुवर दास सहायक पुलिसकर्मियों से मिले

by

Ranchi: नौकरी में परमानेंट करने की मांग को लेकर आंदोलनरत सहायक पुलिसकर्मियों से बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रांची के मोराबादी मैदान पहुंचकर मुलाकात की. इस दौरान रघुवर दास ने कहा कि नक्सल क्षेत्र के युवाओं को गुमराह होने से बचाने के लिए हमारी सरकार ने अनुबंध पर सहायक पुलिस में आदिवासी-मूलवासी युवाओं को नियुक्त किया. नक्सलवाद पर काबू पाने में इनकी भूमिका अहम रही. आदिवासी-मूलवासी की हितैषी होने का दावा करनेवाली वर्तमान सरकार इनके साथ अमानवीय व्यवहार कर रही है.

झारखंड के 12 नक्सल प्रभावित जिलों में साल 2017 में रघुवर दास के कार्यकाल में ही 2500 सहायक पुलिसकर्मियों की कॉन्ट्रैक्ट पर नियुक्ति की गई थी. सहायक पुलिसकर्मियों का कहना है कि अनुबंध खत्म हो जाने के बाद उन्हें परमानेंट कर देने की बात कही गई थी. लेकिन, अभी तक उन्हें परमानेंट करने की कोई प्रक्रिया शुरू नहीं की गई है.

सहायक पुलिसकर्मियों का कहना है कि नियुक्ति के दौरान उन्हें सिर्फ अपने थाना क्षेत्र में ही ड्यूटी करने की बात कही गई थी लेकिन वे अपने थाना समेत अपने जिला और अन्य जिलों में भी कई तरह की ड्यूटी कर चुके हैं.

सहायक पुलिसकर्मियों ने यह स्पष्ट कर दिया कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होगी, वे लोग किसी कीमत पर अपने गृह जिला नहीं लौटेंगे. हालांकि, 12 जिलों से आए सहायक पुलिसकर्मियों से संबंधित जिलों के एसपी और सार्जेंट मेजर लगातार संपर्क कर उन्हें वापस ले जाने का प्रयास कर रहे हैं. मोरहाबादी मैदान में भी दो से तीन एसपी प्रतिदिन सहायक पुलिस कर्मियों को समझाने के लिए आ रहे हैं, लेकिन उनकी बात कोई कुछ सुनने को तैयार नहीं है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.