Kisan Andolan पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील- अन्नदाता के हितों को समर्पित मोदी सरकार

by

New Delhi: किसान आंदोलन (Kisan Andolan) के 24वें दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने ट्वीट कर बताया है कि कृषि सुधार, कृषकों के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं. पीएम ने नमो ऐप से जुड़ा एक लिंक शेयर करते हुए ट्वीट किया कि किसान यहां मौजूद बुकलेट्स के जरिए विस्तार से समझ सकते हैं कि कैसे कृषि सुधार उनके लिए मददगार हैं.

इससे पहले प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को मध्य प्रदेश के रायसेन में करीब 1 घंटे तक किसानों से संवाद करते हुए कृषि कानूनों पर सरकार का पक्ष और नीयत साफ बताते हुए कहा था कि विपक्ष किसानों को बरगला रहा है.

वहीं शनिवार को प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया कि- ‘ग्राफिक्स और बुकलेट सहित बहुत सी सामग्री है, जो हाल ही में कृषि-सुधार हमारे किसानों की मदद करने के बारे में विस्तार से बताती है. यह NaMo ऐप वालंटियर मॉड्यूल के Your Voice और डाउनलोड सेक्शन में पाया जा सकता है. व्यापक रूप से और साझा करें.’

Read Also  झारखंड अनलॉक 3: शॉपिंग मॉल खुलेंगे, सिनेमा-स्‍कूल बंद रहेंगे

भारत सरकार द्वारा किसान बिल पर एक बुकलेट जारी की गई है जिस मैं तीनो बिल पर बारीक से बारीक जानकारी रखी गयी है. PM मोदी ने यह बुकलेट अपने नमो एप पर भी जारी किया है. कृषि कानूनों को लेकर विपक्ष की बातों को सरकार भ्रम बता रही है. अब सरकार किसानो तक पैम्फलेट और बुक्स के सहारे किसानों तक अपनी बात पहुंचाने की कोशिश में है.

रायसेन में भी किसानों से कही अपनी बात

प्रधानमंत्री ने कहा कि विपक्षी दल नए कानूनों के खिलाफ हैं क्योंकि वे इस बात से खफा हैं कि उन्हें (मोदी) इसका श्रेय मिलेगा. मोदी ने कहा कि उन्होंने कोई श्रेय नहीं मांगा लेकिन किसी को किसानों को गुमराह नहीं करना चाहिए . प्रधानमंत्री मोदी ने ऑनलाइन माध्यम से रायसेन और मध्य प्रदेश के अन्य जिलों के किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि यह बात सरासर झूठ है कि नए कानूनों से उपज के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की व्यवस्था समाप्त हो जाएगी.

नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन शनिवार को 24 वें दिन में प्रवेश कर गया है. प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार किसानों के साथ बात करने को तैयार है.

Read Also  हेमंत सोरेन अचानक दिल्ली गए राजनीतिक सरगर्मी बढ़ी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.