Take a fresh look at your lifestyle.

झारखंड में बंपर सरकारी नौकरी देने की तैयारी, सभी एम्प्लॉयमेंट एक्सचेंज एक्टिव करने का आदेश जारी

0 52

Ranchi: झारखंड में बंपर सरकारी नौकरी देने की तैयारी शुरू हुई है. इसके लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य के सभी एंप्लॉयमेंट एक्सचेंज को बिना देरे किये एक्टिव करने का निर्देश मुख्य सचिव को दिया है. मुख्यमंत्री ने आपने आदेश में कहा है कि पूरे राज्य में जिला से लेकर प्रखंड तक नियोजनालय शिविरों में 16 वर्ष से अधिक वर्ष के रोजगार तलाश रहे युवाओं का पंजीकरण किया जाए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजीकरण के बाद जल्द ही बेरोजगार युवक-युवतियों को सरकार की ओर से दी जाने वाली प्रस्तावित प्रोत्साहन राशि तथा उन्हें रोजगार के उपलब्ध अवसरों से जुड़ने के लिए आवश्यक कार्यवाही की जा सकेगी.

नियोजनालय भवन जहां अच्छी स्थिति में ना हो तो उसे किसी अन्य भवन में शिफ्ट करें

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने यह भी कहा है कि अगर नियोजनालय भवन अच्छी स्थिति में ना हो तो उसे किसी अन्य भवन में शिफ्ट किया जाए. नियोजनालय में अच्छी व्यवस्था रखें. पेयजल, शौचालय और बैठने आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जाय.

मुख्य सचिव डॉ डी के तिवारी ने प्रधान सचिव श्रम नियोजन एवं सभी डीसी को दिया निर्देश

मुख्य सचिव डॉ डी के तिवारी ने प्रधान सचिव श्रम नियोजन राजीव अरुण एक्का एवं सभी डीसी को निदेशित किया है कि जिलों के नियोजनालय को जिले का महत्वपूर्ण केंद्र बनाएं. रोजगार के लिये युवाओं को स्पष्ट पता रहे कि उन्हें कहां जाना है. मुख्य सचिव ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भी सभी डीसी को जिला और प्रखण्ड स्तर पर शिविर लगा कर बेरोजगार युवाओं का पंजीकरण कराने का भी निर्देश दिया है.

पंजीकरण के साथ युवाओं की शिक्षा और कौशल सम्बन्धी जानकारी लें

मुख्य सचिव ने प्रधान सचिव श्रम नियोजन से कहा कि वे जिलों में हो रही कार्रवाई का सतत पर्यवेक्षण करें. मुख्य सचिव ने यह भी निर्देश दिया कि पंजीकरण के साथ युवाओं का शिक्षा और कौशल सम्बन्धी जानकारी के आधार पर वर्गीकरण भी करें ताकि उनके लिए किस प्रकार के रोजगार और कौशल विकास की जरूरत है, उसके लिए कार्य किया जा सके.

नियोजनालय में मुक्कमल व्यवस्था करने का भी निर्देश

मुख्य सचिव ने सभी डीसी को नियोजनालय में बैठने की व्यवस्था, पेयजल और शौचालय आदि की मुक्कमल व्यवस्था करने का भी निर्देश दिया है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.