Take a fresh look at your lifestyle.

काशी महाकाल एक्सप्रेस को पीएम मोदी ने दिखाई हरी झंडी

0 15

Varanashi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी से तीन ज्योतिर्लिंगों को जोड़ने वाली ‘काशी महाकाल एक्सप्रेस’ को वीडियो लिंक के माध्यम से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. यह ट्रेन सप्ताह में तीन दिन चलेगी. यात्रियों के लिए ट्रेन की नियमित सेवा 20 फरवरी से शुरू होगी.

इंडियन रेलवे कैटरिंग ऐंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (आईआरसीटी) को काशी महाकाल के संचालन की जिम्मेदारी दी गई है. इसमें हमसफर रैक का इस्तेमाल किया गया है. देश की तीसरी निजी ट्रेन इंदौर से वाराणसी के बीच तीन ज्योतिर्लिंगों ओंकारेश्वर (इंदौर), महाकालेश्वर (उज्जैन) और काशी विश्वनाथ (वाराणसी) को जोड़ेगी.

आईआरसीटी विभिन्न धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थलों जैसे काशी, अयोध्या, प्रयाग, सांची, भोपाल, ओमकारेश्वर, भीमबेटका एवं इंदौर के लिए टूर पैकेज लेकर आया है. यह पैकेज आईआरसीटीसी की बेवसाइट और मोबाइल ऐप के माध्यम से ऑनलाइन बुक किए जा सकते हैं और यात्रा के दौरान ट्रेन में भी खरीदे जा सकते हैं.

आईआरसीटीसी की डायरेक्टर (टूरिज़्म एंड मार्केटिंग) रजनी हसीजा ने वाराणसी स्टेशन पर बातचीत में बताया कि ट्रेन को इंटरसिटी की तरह पॉपुलर बनाया जाएगा. यात्री बनारस से इलाहाबाद और कानपुर के लिए भी इस ट्रेन का इस्तेमाल कर सकेंगे. इनका किराया भी सामान्य रेलगाड़ियों के हिसाब से तय किया गया है जो ₹330 से ₹400 के बीच में होगा. उन्होंने बताया कि बनारस से इंदौर तक का किराया 1991 होगा जिसमें खान-पान भी शामिल है.
डायनामिक किराया प्रणाली के चलते 70 प्रतिशत टिकटों की बुकिंग के बाद 10 प्रतिशत किराया बढ़ाया जाएगा फिर 90 प्रतिशत टिकटों की बुकिंग के बाद 10 प्रतिशत किराया बढ़ाया जाएगा. हसीजा ने कहा कि काशी विश्वनाथ दर्शन के लिए ऑनलाइन पर्ची उपलब्ध कराने के लिए आईआरसीटीसी प्रयास कर रहा है. इसके लिए श्राइन बोर्ड के साथ बातचीत चल रही है.

ट्रेन में अत्याधुनिक सुविधाएं

इसमें लोगों को रात में भी सफर (ओवरनाइट जर्नी) करना होगा इसलिए इसमें हमसफर के रैक का इस्तेमाल किया गया है. यह पूरी तरह से वातानुकूलित और सीसीटीवी कैमरों सहित तमाम अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस है. यह ओवरनाइट जर्नी वाली देश की पहली निजी ट्रेन है. इसकी साइड बर्थ को आरामदायक बनाने के साथ ही ऊपर की बर्थ पर जाने वाली सीढ़ियों को सुविधाजनक बनाया गया है.

उल्लेखनीय है कि आईआरसीटी इससे पहले लखनऊ-दिल्ली और मुंबई-अहमदाबाद के बीच दो निजी तेजस रेलगाड़ियों का संचालन शुरू कर चुका है. इस लिहाज से यह देश की तीसरी निजी ट्रेन है. यह एक्सप्रेस रेलगाड़ी सप्ताह में दो दिन 82403/82404 वाराणसी-इंदौर-वाराणसी (वाया सुल्तानपुर-लखनऊ-कानपुर सेंट्रल) और सप्ताह में एक दिन 82401/82402 वाराणसी-इंदौर-वाराणसी (वाया जंघई – इलाहाबाद-कानपुर सेंट्रल) के बीच चलेगी. ट्रेन की नियमित सेवा 20 फरवरी से वाराणसी से शुरू होगी.

सप्ताह में दो दिन चलने वाली 82401 वाराणसी-इंदौर एक्सप्रेस दिनांक 20 फरवरी से प्रत्येक मंगलवार और गुरुवार को दोपहर 02.45 बजे वाराणसी से प्रस्थान करेगी और अगले दिन सुबह 09.40 बजे इंदौर पहुंचेगी. वापसी दिशा में, 82402 की नियमित सेवा 21 फरवरी से इंदौर से शुरू होगी.

ट्रेन प्रत्येक बुधवार और शुक्रवार को प्रातः 10.55 इंदौर से चलकर अगले दिन सुबह 06.00 बजे वाराणसी पहुंचेगी. एसी 3 टियर डिब्बों वाली यह रेलगाड़ी मार्ग में सुल्तानपुर, लखनऊ, कानपुर सेंट्रल, झांसी, बीना, संत हिरदाराम नगर और उज्जैन स्टेशनों पर दोनो दिशाओं में ठहरेगी . 82403/82404 वाराणसी-इंदौर-वाराणसी साप्ताहिक एक्सप्रेस ट्रेन (वाया जंघई – इलाहाबाद -कानपुर सेंट्रल) 82403 वाराणसी-इंदौर साप्ताहिक एक्सप्रेस ट्रेन की नियमित सेवा वाराणसी से 23 फरवरी से शुरू होगी. 82403 वाराणसी-इंदौर साप्ताहिक एक्सप्रेस रेलगाड़ी 23 फरवरी से प्रत्येक रविवार को वाराणसी से दोपहर 03.15 बजे प्रस्थान करके अगले दिन सुबह 09.40 बजे इंदौर पहुंचेगी.

वापसी दिशा में, 82404 इंदौर-वाराणसी साप्ताहिक एक्सप्रेस रेलगाड़ी की नियमित सेवा इंदौर से 24 फरवरी से शुरू होगी. 82404 इंदौर-वाराणसी साप्ताहिक एक्सप्रेस रेलगाड़ी प्रत्येक सोमवार को इंदौर से 10.55 बजे प्रस्थान करके अगले दिन प्रातः 05.00 बजे वाराणसी पहुंचेगी. ए.सी. थ्री टियर डिब्बों वाली 82403/82404 वाराणसी-इंदौर-वाराणसी साप्ताहिक एक्सप्रेस यह रेलगाड़ी मार्ग में इलाहाबाद, कानपुर सेंट्रल, झांसी, बीना, संत हिरदाराम नगर और उज्जैन स्टेशनों पर दोनो दिशाओं में ठहरेगी.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.