नरेंद्र मोदी ने लॉन्‍च किया ‘गरीब कल्याण रोजगार अभियान’, बिहार-झारखंड के प्रवासी श्रमिकों से पीएम ने की ऑनलाइन चर्चा

by

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरूआत की है. पीएम ने इसे वीडियो कांफ्रेंस के जरिए शुभारंभ किया. प्रधानमंत्री के इस कल्‍याणकारी योजना के जरिए प्रवासी मजदूरों को रोजगार दिया जाएगा. कोरोना वायरस महामारी के कारण लाखों प्रवासी मजदूर अपने राज्‍य लौटे हैं, उन्‍हें इसका लाभ मिलेगा. इसमें 50 हजार करोड़ खर्च किए जाएंगे.

गरीब कल्याण रोजगार अभियान के लॉन्चिंग के दौरान प्रधानमंत्री ने प्रवासी मजदूरों से ऑनलाइन बात की. नरेंद्र मोदी ने मजदूरों से सरकार की ओर से फ्री राशन मिलने के बारे में चर्चा की. उन्‍होंने मजदूरों को गरीब कल्याण रोजगार अभियान के जरिए मिलने वाले फायदे के बारे में जानकारी दी. पीएम ने कहा कि इस योजना के जरिए प्रवासी श्रमिकों को सशक्‍त बनाने के लक्ष्‍य तय किया गया है.

प्रवासी मजदूरों से पूछा हाल

हरियाणा में राजमिस्त्री के तौर पर काम करने वाले एक प्रवासी श्रमिक से प्रधानमंत्री ने बात की. इस दौरान पांच राज्यों- बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, झारखंड और ओडिशा के मुख्यमंत्री मौजूद रहे. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी भी उपस्थित हैं. इसके अलावा योजना से संबंध रखने वाले मंत्रालयों के केंद्रीय मंत्री भी इसमें शामिल हुए.

गरीब कल्याण रोजगार अभियान योजना की मुख्य बातें-

  • छह राज्यों के 116 जिलों में 125 दिनों के अभियान का उद्देश्य प्रवासी श्रमिकों की सहायता के लिए मिशन मोड में काम करना है.
  • इस कार्यक्रम के तहत बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, झारखंड और ओडिशा के 116 जिलों को कवर किया जाएगा. इन सभी जिले में लॉकडाउन के दौरान 25 हजार से अधिक प्रवासी श्रमिक वापस लौटे हैं.
  • 50 हजार करोड़ रुपये के लागत वाले इस योजना के तहत रोजगार प्रदान करने और बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए 25 विभिन्न प्रकार के कार्यों का गहन और केंद्रित कार्यान्वयन शामिल होगा.
  • यह अभियान बिहार के खगड़िया जिले के बेलदौर प्रखंड के तेलिहर गांव से शुरू किया जाएगा.
  • यह योजना 12 विभिन्न मंत्रालयों और विभागों- ग्रामीण विकास पंचायती राज, सड़क परिवहन और हाइवे, खनन, पेयजल व सैनिटेशन के जरिए सफल होगा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.