Take a fresh look at your lifestyle.

Kerala पहुंचे पीएम मोदी, सौ साल का रिकॉर्ड टूटा, Flooding से 325 लोगों की मौत

0

Thiruvananthapuram: Kerala में Flooding और बारिश से हालात दिनोंदिन बिगड़ते जा रहे हैं. स्थिति इतनी चिंताजनक है के पिछले नौ दिनों में Kerala में Flooding और बारिश से मरने वालों की संख्याि 324 हो गई है. इस गंभीर स्थिति को देखते हुए प्रधानमंत्री Narendra Modi भी शुक्रवार रात को Kerala पहुंच गए.

Narendra Modi आज Kerala के बाढ़ ग्रस्त इलाकों का हवाई दौरा करेंगे. इसके लिए वह शनिवार सुबह कोच्चि पहुंच चुके हैं. प्रधानमंत्री Narendra Modi शनिवार को कोच्चि में मुख्युमंत्री पिनाराई विजयन, केंद्रीय मंत्री केजे एल्फोंमस और अन्यच अधिकारियों के साथ Flooding और राहत कार्यों को लेकर समीक्षा बैठक कर रहे हैं. माना जा रहा है कि वह इसके बाद हवाई दौरा कर सकते है.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने Kerala में भयावह बाढ़ से हुए जानमाल के भारी नुकसान पर शुक्रवार को दुख जताया और राज्य के पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि वे प्रभावित लोगों की मदद के लिए आगे बढ़ें.

सीएम ने जताई चिंता

Kerala के चिंताजनक हालात को देखते हुए वहां के मुख्यमंत्री पी विजयन ने भी अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा है ‘Kerala पिछले 100 सालों में सबसे भीषण Flooding का सामना कर रहा है, 80 बांध खोल दिए गए है, 324 जिंदगियां खत्म हो गई और 2 लाख 23 हजार 139 लोगों को 1500 से ज्यादा राहत शिविरों में पहुंचाया गया है.’ उन्होंाने Flooding पीडि़त लोगों की मदद के लिए सभी को आगे आने की भी अपील की है.

आठ हजार करोड़ का नुकसान

वहीं राज्य में अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी और पेट्रोल पंप में ईंधन की कमी से संकट गहराता दिखा. अधिकारियों ने आज यह जानकारी दी. करीब एक सदी में आई इस प्रलयंकारी Flooding में आठ अगस्त के बाद से अब तक 324 लोगों की मौत हो गई है. Flooding और बारिश के चलते इसके चलते इसका पर्यटन उद्योग बर्बाद हो गया है, हजारों हेक्टेयर भूभाग में उपजी फसलें तबाह हो गई हैं और बुनियादी ढांचे को जबरदस्त नुकसान पहुंचा है. राज्य  में कुल आठ हजार करोड़ रुपये के नुकसान का आकलन किया गया है.

टापू बने गांव, बचाव कार्य जारी

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) कर्मियों के अलावा सेना, नौसेना, वायुसेना के कर्मियों ने Flooding से बुरी तरह प्रभावित इलाकों में अपने-अपने घरों की छतों, ऊंचे स्थानों पर फंसे लोगों को निकालने का बड़ा कार्य शुरू किया. ऊंचाई वाले इलाकों में पहाड़ों के दरकने के कारण चट्टानों के टूटकर नीचे सड़क पर गिरने से सड़कें बंद हो गईं जिससे वहां रहने वालों और गांवों में बचे लोगों का संपर्क बाकी की दुनिया से कट गया. ये गांव आज किसी द्वीप में तब्दील हो गए हैं.

हेल्प लाइन नंबर जारी

सरकार और प्रशासन की ओर से Kerala में Flooding पीडि़तों की जानकारी के लिए हेल्प लाइन नंबर जारी किए गए हैं. डिस्ट्रिक्टल हेल्पललाइन (पत्तेनमिट्टा)-8078808915, एर्नाकुलम-7902200400, 7902200300, कासरगोड-9446601700, कोझीकोड-9446538900, मलप्पु,रम-9383463212, 9383464212. कोडागू- 9482628409, सीईओ ZP कोडागू- 9480869000. इनके अलावा हेलीकॉप्टनर हेल्प4लाइन नंबर भी जारी किए गए हैं. अल्पी4- 8281292702, चंद्रू- 9663725200, धनजे- 9449731238, महेश- 9480731020 और सेना- 9446568222.

सैकड़ों लोग फंसे

महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों समेत सैकड़ों लोग ऐसी जगहों पर फंसे हैं जहां नौका से पहुंच पाना मुश्किल है. उन लोगों को रक्षा मंत्रालय के हेलीकॉप्टर की मदद से निकाला गया और सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया.  ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और ब्रिटेन में रह रहे प्रवासी Keralaवासी अपने-अपने प्रियजन की मदद की खातिर टीवी चैनलों के माध्यम से अधिकारियों से गुहार लगा रहे हैं.

राज्‍यों ने किया आर्थिक मदद का ऐलान

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने Floodingग्रस्त Kerala के लिए दस करोड़ रूपये की तत्काल सहायता मुहैया कराने का ऐलान किया है. सरकारी बयान में कहा गया है कि पांच करोड़ रूपया पंजाब मुख्यमंत्री राहत कोष से Kerala मुख्यमंत्री राहत कोष में अंतरण किया जा रहा है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने Flooding से तबाह Kerala के लिए आज 10 करोड़ रुपये की सहायता की घोषणा की. तेलंगाना के मुख्यआमंत्री के चंद्रशेखर राव ने भी 25 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता का ऐलान किया है. आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने भी दस करोड़ रुपये की मदद देने का ऐलान किया है.

50 हजार से अधिक परिवार राहत शिविर में

विजयन ने रक्षा मंत्री निर्माला सीतारमण से भी बात की और बताया कि हालात लगातार गंभीर होते जा रहे हैं. 50,000 से अधिक परिवारों से 2.23 लाख लोग राहत शिविरों में शरण लिये हुए हैं. कुछ जगहों पर बारिश थोड़ी थमी है लेकिन पथनमथिट्टा, अलपुझा, एर्नाकुलम और त्रिशूर जिले अब भी मानसूनी संकट से जूझ रहे हैं.

यातायात प्रभावित

अलुवा, कालाडी, पेरुम्बवूर, मुवाट्टुपुझा एवं चालाकुडी में फंसे लोगों को निकालने के कार्य में मदद के इरादे से स्थानीय मछुआरे भी अपनी-अपनी नौकाएं लेकर बचाव अभियान में शामिल हुए हैं. कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के रनवे पर Flooding का पानी आ जाने के कारण विमानों का परिचालन बंद है. सूत्रों ने बताया कि कई ट्रेनों को या तो रद्द कर दिया गया है और उनके समय में परिवर्तन किया गया है. बहरहाल अब तक कोच्चि मेट्रो की सेवाएं बाधित नहीं हुई हैं. मौसम विभाग ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश एवं तेज हवाएं चलने का पूर्वानुमान जताया है.

बीमा भुगतान के निर्देश

Kerala में जारी बारिश और Flooding के कारण बीमा नियामक इरडा ने आज सभी कंपनियों को विशेष शिविर स्थापित करने और बीमा दावों का तत्काल भुगतान करने को कहा. भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) ने इस संबंध में बीमा और गैर-बीमा कंपनियों दोनों को निर्देश जारी किया है और प्रगति की रिपोर्ट देने को कहा है.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

%d bloggers like this: